एनीमिया ऐसी समस्या है, जिसमें शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर कम हो जाता है. वैसे तो एनीमिया कई कारणों की वजह से हो सकता है, लेकिन कुछ रिसर्च में साबित हुआ है कि शाकाहारी लोगों में एनीमिया होने का जोखिम अधिक रहता है. दरअसल, नॉनवेज में आयरनविटामिन-बी12 की मात्रा अधिक होती है. ऐसे में जो लोग नॉनवेज नहीं खाते या शाकाहारी है, उनमें आयरन और विटामिन-बी12 की कमी हो सकती है. ऐसे में आयरन और विटामिन-बी12 की कमी होने पर एनीमिया के लक्षणों का अनुभव हो सकता है.  

आज इस लेख में आप शाकाहारी डाइट और एनीमिया के बीच के संबंध के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - एनीमिया के घरेलू उपाय)

  1. शाकाहारी डाइट क्या है?
  2. शाकाहारी डाइट और एनीमिया में संबंध
  3. शाकाहारियों के लिए एनीमिया के कारण
  4. सारांश
क्या शाकाहारियों को एनीमिया होने का खतरा ज्यादा होता है? के डॉक्टर

शाकाहारी डाइट वह होती है, जिसमें मांस खाद्य पदार्थों को शामिल नहीं किया जाता है.. वहीं, जो लोग वीगन डाइट लेते हैं, उसमें सिर्फ पेड़-पौधों से प्राप्त खाद्य पदार्थों को ही शामिल किया जाता है. इसमें मांस, अंडेडेयरी प्रोडक्ट्स और शहद भी शामिल नहीं किया जाता है. शाकाहारी डाइट लेने पर भले ही कुछ लोगों को एनीमिया का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन एक फैक्ट यह भी है कि शाकाहारी लोगों में हृदय रोगकैंसर और टाइप 2 डायबिटीज होने का जोखिम कम होता है.

(और पढ़ें - एनीमिया का आयुर्वेदिक इलाज)

कई रिसर्च में साबित हुआ है कि शाकाहारी लोगों को एनीमिया होने की आशंका मांसाहारी लोगों की तुलना में अधिक हो सकती है. मुख्य रूप से शरीर में आयरन और विटामिन-बी12 की कमी के कारण एनीमिया होता है. वहीं, शाकाहारी लोगों में आयरन और विटामिन-बी12 की कमी मांसाहारी लोगों की तुलना में अधिक होती है. इसलिए शाकाहारियों में एनीमिया की संभावना अधिक होती है.

मांसाहारी लोगों को चिकन, मटन, फिश और अंडों से आयरन और विटामिन-बी12 की पूर्ति हो जाती है. इसके मुकाबले शाकाहारी लोगों को सब्जियों और फलों से अधिक मात्रा में आयरन और विटामिन-बी12 नहीं मिल पाता है. इस स्थिति में रेड ब्लड सेल्स में हीमोग्लोबिन का स्तर कम होने लगता है. इसकी वजह से एनीमिया हो सकता है.

(और पढ़ें - एनीमिया का होम्योपैथिक इलाज)

शाकाहारी लोगों को अधिक मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं, जबकि मांसाहारी लोगों को कम मात्रा में खाने से ही अधिक पोषक तत्व प्राप्त हो जाते हैं. इसलिए, शाकाहारी लोगों के शरीर में विटामिन और मिनरल की कमी अन्य लोगों की तुलना में अधिक पाई जाती है. ऐसे में शाकाहारी लोगों में आयरन, विटामिन-बी12 आदि की कमी का सामना करना पड़ सकता है. शाकाहारियों में एनीमिया की कमी के कारण इस प्रकार हैं -

आयरन की कमी से एनीमिया

आयरन शरीर के लिए सबसे जरूरी पोषक तत्व में से एक होता है. आयरन की कमी एनीमिया का एक मुख्य कारण होता है. दरअसल, जब व्यक्ति को भोजन से पर्याप्त मात्रा में आयरन नहीं मिल पाता है, तो शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन नहीं हो पाता है. इसकी वजह से पूरे शरीर में ऑक्सीजन लेने जाने वाले हीमोग्लोबिन का स्तर भी कम होने लगता है. हीमोग्लोबिन के कम होने पर व्यक्ति में एनीमिया के लक्षण नजर आने लगते हैं. आपको बता दें कि हीमोग्लोबिन रेड ब्लड सेल्स में मौजूद प्रोटीन होता है. 

आयरन दो रूप में होते हैं - हीम और नॉन-हीम. हीम आयरन शरीर द्वारा आसानी से उपयोग किया जाता है. यह मांस, चिकन और मछली में पाया जाता है, जबकि सब्जियों में नॉन-हीम आयरन पाया जाता है. ऐसे में जो लोग नॉनवेज नहीं खाते हैं, उनमें हीम आयरन की कमी पाई जा सकती है. जबकि मांसाहारी लोगों में हीम और नॉन हीम दोनों प्रकार के आयरन मिल जाते हैं. ऐसे में इन लोगों में एनीमिया होने की संभावना कम होती है. वहीं, शाकाहारी लोगों में एनीमिया होने का जोखिम काफी अधिक हो सकता है.

(और पढ़ें - किस विटामिन की कमी से एनीमिया होता है)

विटामिन-बी12 की कमी से एनीमिया

आयरन की तरह ही विटामिन-बी12 भी शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्व है. शरीर में विटामिन-बी12 की कमी होने पर एनीमिया के लक्षणों का अनुभव हो सकता है. मछली, मटन और चिकन में विटामिन-बी12 की मात्रा अधिक पाई जाती है. वहीं, शाकाहारी भोजन में विटामिन-बी12 बहुत कम मात्रा में पाया जाता है. ऐसे में जो लोग शाकाहारी होते हैं, उनमें विटामिन-बी12 की कमी पाई जा सकती है. ऐसे में इन लोगों को एनीमिया के लक्षणों से भी गुजरना पड़ सकता है.

दरअसल, विटामिन-बी12 लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने में अहम भूमिका निभाते हैं. ऐसे में जब शरीर में विटामिन-बी12 की पूर्ति रहती है, तो रेड ब्लड सेल्स का निर्माण भी होता रहता है. इससे हीमोग्लोबिन का स्तर भी अधिक रहता है और एनीमिया से बचा जा सकता है, लेकिन शाकाहारी भोजन में विटामिन-बी12 कम ही होता है. इसलिए, शाकाहारियों को एनीमिया का अधिक जोखिम हो सकता है.

(और पढ़ें - एनीमिया में क्या खाना चाहिए)

शरीर में विटामिन-बी12 की कमी काे पूरा करने के लिए Sprowt Vitamin-B12 से बेहतर और कोई विकल्प नहीं हो सकता. इसे खरीदने के लिए आप अभी नीचे दिए लिंक पर क्लिक कर सकते हैं -

आपको बता दें कि एनीमिया किसी भी व्यक्ति को हो सकता है, चाहे वह मांसाहारी हो या शाकाहारी, लेकिन शाकाहारी लोगों में एनीमिया का जोखिम अधिक रहता है. इन लोगों में मांसाहारी लोगों की तुलना में आयरन और विटामिन-बी12 की कमी अधिक होती है. शरीर में आयरन और विटामिन-बी12 की कमी एनीमिया के मुख्य कारण माने जाते हैं. इसलिए, अगर आप शाकाहारी हैं, तो एनीमिया से बचने के लिए बैलेंस डाइट लेना जरूरी होता है. वहीं, अगर एनीमिया के लक्षण महसूस हों, तो इस स्थिति में डॉक्टर से जरूर संपर्क करें.

(और पढ़ें - शरीर में कितना खून होना चाहिए)

Dt. Priti Kumari

Dt. Priti Kumari

आहार विशेषज्ञ
2 वर्षों का अनुभव

Dt. Sonal jain

Dt. Sonal jain

आहार विशेषज्ञ
5 वर्षों का अनुभव

Dt. Rajni Sharma

Dt. Rajni Sharma

आहार विशेषज्ञ
7 वर्षों का अनुभव

Dt. Neha Suryawanshi

Dt. Neha Suryawanshi

आहार विशेषज्ञ
10 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ