myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

पुरुषों की ही तरह महिलाओं में भी चेहरे पर बाल (फेशियल हेयर) होना सामान्य सी बात है, क्योंकि हमारे शरीर की त्वचा पर सभी जगह हेयर फॉलिकल्स यानी बालों के कूप होते हैं। हालांकि, अलग-अलग महिलाओं के शरीर में बालों का विकास अलग-अलग तरीके से होता है। कुछ महिलाओं में जहां चेहरे पर बेहद पतले, बारीक और छिटपुट बाल होते हैं, वहीं दूसरी महिलाओं में बालों का विकास बहुत ज्यादा और घना हो सकता है। बालों के विकास का पैटर्न आपके पारिवारिक इतिहास पर भी काफी हद तक निर्भर करता है।

वैसे तो चेहरे पर बहुत ज्यादा बाल होने से किसी तरह का नुकसान नहीं होता, लेकिन इन बालों की वजह से बहुत सी महिलाओं में आत्म-चेतना की भावना आ जाती है। बहुत से मामलों में किसी तरह की बीमारी या अस्वस्थता की वजह से भी महिलाओं के चेहरे और शरीर के कई अंगों में हद से ज्यादा बाल उगने लगते हैं।

(और पढ़ें : चेहरे से अनचाहे बाल हटाने के घरेलू उपाय)

महिलाओं के चेहरे और शरीर पर अत्यधिक बालों के उगने की इस समस्या को मेडिकल टर्म में हर्सुटिज्म कहते हैं। प्रजनन के उम्र वाली दुनियाभर की करीब 5 से 10 प्रतिशत महिलाओं में हर्सुटिज्म की समस्या देखने को मिलती है। आमतौर पर महिलाओं के शरीर में उगने वाले बालों की बनावट बेहद बारीक होती है और उनका रंग भी बेहद हल्का रहता है। हालांकि, वैसी महिलाएं जो हर्सुटिज्म की समस्या से ग्रसित हैं, उनके शरीर में मौजूद बाल बेहद घने, मोटे और गहरे रंग के होते हैं। ये बाल महिलाओं की ठुड्डी पर, साइडबर्न्स यानी कलम की जगह पर, छाती पर, निप्पल्स के आसपास, पेट पर, पीठ के ऊपरी और निचले हिस्से पर, जांघ के अंदरूनी हिस्सों में और नितंब में हो सकते हैं।

कुछ महिलाएं जहां अपने चेहरे पर उगने वाले अतिरिक्त बालों को स्वीकार कर लेती हैं, वहीं कई महिलाएं ऐसी भी हैं जो इन अतिरिक्त बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं। इस आर्टिकल में हम आपको बता रहे हैं उन कारणों के बारे में जिसकी वजह से महिलाओं के चेहरे पर हद से ज्यादा बाल उगने लगते हैं और उन टिप्स के बारे में जिनकी मदद से महिलाएं इन अनचाहे बालों से छुटकारा पा सकती हैं।

(और पढ़ें: शरीर के अनवॉन्टेड बालों से छुटकारा पाएं हमेशा के लिए इस बढ़िया घरेलू नुस्खे से)

  1. महिलाओं के चेहरे पर बहुत ज्यादा बाल उगने के कारण - Excessive facial hair in women causes in Hindi
  2. महिलाओं के चेहरे पर मौजूद अत्यधिक बालों को हटाने के टिप्स - Tips to remove excess facial hair in women in Hindi
  3. महिलाएं चेहरे से अतिरिक्त बाल हटाते वक्त जरूर बरतें ये सावधानियां - Precautions for removing excess facial hair in women in Hindi
  4. महिलाओं के चेहरे पर बाल आना के डॉक्टर

महिलाओं के चेहरे पर बहुत ज्यादा बाल उगने के कारण - Excessive facial hair in women causes in Hindi

पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए चेहरे पर बाल होना सामान्य सी बात है। लेकिन कुछ महिलाएं ऐसी भी होती हैं जिनके शरीर पर हद से ज्यादा बाल उगने लगते हैं और इसका कारण होता है उनके जीन्स। अगर उनके परिवार में पहले से शरीर पर हद से ज्यादा बाल की समस्या है तो इस बात की आशंका अधिक है कि उन्हें भी इसका सामना करना पड़ेगा।

लेकिन कई बार चेहरे पर हद से ज्यादा बाल उगने के पीछे किसी तरह की कोई बीमारी भी जिम्मेदार हो सकती है जिसके लिए इलाज की जरूरत होती है। कुछ कारण या परिस्थितियां जिनकी वजह से महिलाओं के चेहरे पर बहुत ज्यादा बाल उगने लगते हैं, वे हैं :

  • पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) : महिलाओं के चेहरे पर हद से ज्यादा बाल होने के ज्यादातर मामलों में पीसीओएस ही मुख्य कारण होता है। पीसीओएस, इस बीमारी में बड़ी संख्या में विकसित कूप या पुटिका (तरल-पदार्थों से भरे सैक जिसमें अंडे होते हैं) अंडाशय में जमा होने लगती है। नतीजतन, अंडाशय में सूजन आने लगती है, जिसकी वजह से शरीर में सेक्स हार्मोन्स का संतुलन बिगड़ने लगता है। चेहरे पर अतिरिक्त बाल के अलावा पीसीओएस से पीड़ित महिला का मासिक धर्म भी अनियमित हो जाता है, वजन बढ़ने लगता है, बाल कमजोर होकर गिरने लगते हैं। (और पढ़ें : पीसीओएस में त्वचा पर अनचाहे बाल आना)
  • एन्जाइम की कमी : महिलाओं के शरीर में 17-हाइड्रोक्सीलेस नाम के एन्जाइम की कमी की वजह से चेहरे और शरीर पर हद से ज्यादा बाल उगने की समस्या होने लगती है। इस एन्जाइम की कमी की वजह से मेल हार्मोन जैसे- टेस्टोस्टेरॉन की शरीर में अधिकता होने लगती है।
  • हाइपरट्राइकोसिस : यह एक ऐसी स्थिति है जो महिलाओं और पुरुष दोनों में नजर आती है और इसे वेयरवुल्फ सिंड्रोम भी कहते हैं। यह कई तरह की दवाइयों और कुछ बीमारियों की वजह से भी हो सकता है, जैसे- हाइपोथायराइडिज्म, ऐक्रोमेगाली (शरीर में ग्रोथ हार्मोन की अधिकता), कुपोषण और कई बार एचआईवी इंफेक्शन भी। हाइपरट्रिकोसिस की वजह से नाक के टिप और कर्ण पालिका (ईयर लोब) में बहुत ज्यादा बाल उगने लगते हैं। हाइपर का मतलब है ज्यादा और ट्राइकोसिस का मतलब है बाल से जुड़ी कोई बीमारी।
  • कुशिंग्स सिंड्रोम : यह एक चिकित्सीय स्थिति है, जिसमें अधिवृक्क ग्रंथि (ऐड्रिनल ग्लैंड) में गड़बड़ी की वजह से शरीर में कोर्टिसोल हार्मोन का बहुत ज्यादा निर्माण होने लगता है। कोर्टिसोल हार्मोन को स्ट्रेस या तनाव से जुड़ा हार्मोन भी कहते हैं और यह बीमारी जैसे किसी तनावपूर्ण स्थिति की प्रतिक्रिया में रिलीज होता है। कुशिंग्स सिंड्रोम से पीड़ित महिला में हद से ज्यादा बालों के विकास के अलावा बहुत ज्यादा वजन बढ़ना, हाई ब्लड प्रेशर, अनियमित माहवारी और चिड़चिड़ापन भी देखने को मिलता है।
  • मेल-हार्मोन का उत्पादन करने वाले ट्यूमर : अधिवृक्क ग्रंथि (ऐड्रिनल ग्लैंड) में ऐसे कई ट्यूमर मौजूद रहते हैं, जिनकी वजह से शरीर में मेल सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरॉन का उत्पादन बहुत अधिक होने लगता है। इन ऐंड्रोजेन का स्त्राव करने वाले ट्यूमर की वजह से महिलाओं में बहुत ज्यादा हेयर ग्रोथ देखने को मिलती है। इसकी वजह से महिलाओं की आवाज भी कई बार भारी और कर्कश हो जाती है, मुंहासे होने लगते हैं और संदिग्ध जननांग की भी दिक्कत देखने को मिलती है।
  • दवाइयां : कई बार बहुत सी दवाइयां भी ऐसी होती हैं, जिनका सेवन करने से महिलाओं के शरीर में अनचाहे बालों का असाधारण विकास होने लगता है। हार्मोनल थेरेपी (टेस्टोस्टेरॉन) के लिए इस्तेमाल होने वाली दवाइयां, एन्डोमेट्रिओसिस के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाइयां, मांसपेशियों को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल होने वाले ऐनाबोलिक स्टेरॉयड्स और मल्टीपल इन्फ्लेमेशन के इलाज में इस्तेमाल होने वाले ग्लूकोकोर्टिकोयड्स की वजह से भी महिलाओं के शरीर में बालों का असामान्य विकास होने लगता है।

महिलाओं के चेहरे पर मौजूद अत्यधिक बालों को हटाने के टिप्स - Tips to remove excess facial hair in women in Hindi

जो महिलाएं चेहरे पर मौजूद अनचाहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं वे हेयर रिमूवल का इनमें से कोई भी तरीका इस्तेमाल कर सकती हैं :

  • प्लकिंग : हर महिला के घर में प्लकर जरूर होता है। ऐसे में आप इस प्लकर की मदद से बड़ी आसानी से अपने आइब्रो, अपर लिप और ठुड्डी के पास के अतिरिक्त बालों को हटा सकती हैं। हालांकि, अगर आपके चेहरे पर बालों की ग्रोथ बहुत ज्यादा है, तो उसमें यह तरीका कारगर साबित नहीं होगा।
  • शेविंग : वैसी महिलाएं जो चेहरे पर मौजूद अतिरिक्त अनचाहे बालों को हटवाने के लिए पार्लर या सलॉन नहीं जाना चाहतीं वे इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए रेजर का इस्तेमाल कर सकती हैं। आप मार्केट से कोई सा भी रेजर खरीदकर उसका इस्तेमाल कर सकती हैं। इसे कैसे इस्तेमाल करना है, यह जानना जरूरी है। इसके लिए जिस हिस्से से बाल हटाने हों उस क्षेत्र को पानी से गीला करें और कोई शेविंग क्रीम, जेल या साबुन लगाएं। जब झाग बन जाए तो बालों के उगने की दिशा में रेजर चलाएं। एक बार हो जाने के बाद फिर से उस हिस्से को पानी से साफ करें और मॉइश्चराइजर लगा लें। (और पढ़ें : वैक्सिंग या शेविंग- बालों को हटाने के लिए कौन सा तरीका है बेहतर)
  • डेपिलेटरी या अनचाहे बाल हटाने वाली क्रीम : मार्केट में अनचाहे बालों को हटाने वाली डेपिलेटरी क्रीम बड़ी आसानी से मिल जाती है और यह तरीका पूरी तरह से दर्दरहित भी है। लेकिन क्रीम को इस्तेमाल करने से पहले अपने हाथ या पैर के किसी हिस्से पर क्रीम का पैच टेस्ट कर लें, ताकि यह पता चल जाए कि आपको इस क्रीम से कोई एलर्जी तो नहीं है। अगर एलर्जी नहीं होती तो आप इस क्रीम को बाल हटाने वाली जगह पर लगाएं, स्पैट्यूला से अच्छी तरह से फैलाएं, उसे 5 से 10 मिनट के लिए लगा रहने दें और फिर स्पैट्यूला की मदद से क्रीम के साथ-साथ बालों को भी हटा दें।
  • वैक्सिंग : आप चाहें तो घर पर ही सॉफ्ट या हार्ड वैक्स की मदद से वैक्सिंग भी कर सकती हैं। इस दौरान कुछ दिक्कतें भी हो सकती हैं, क्योंकि वैक्स को पूरी तरह से पिघलाना होता है और फिर यह भी देखना पड़ता है कि कहीं वैक्स, स्किन के लिए बहुत ज्यादा गर्म न हो जाए। अगर आप इस तरीके से वाकिफ नहीं है तो इसे घर पर इस्तेमाल न करें वरना हो सकता है कि आपकी स्किन जल जाए। हार्ड वैक्स की जगह आप चाहें तो वैक्सिंग स्ट्रिप मार्केट से खरीदकर ला सकती हैं जिनपर पहले से वैक्स लगा होता है। इस वैक्स स्ट्रिप को बाल निकालने वाली जगह पर लगाएं, अच्छे से रगड़ें और बाल उगने की विपरित दिशा में खींच दें। हॉट वैक्स की तुलना में वैक्स स्ट्रिप को इस्तेमाल करना ज्यादा आसान होता है।
  • थ्रेडिंग : एक खास तरह के कॉटन धागे की मदद से अनचाहे बालों को एक-एक कर प्लकिंग के जरिए हटाया जाता है। आप चाहें तो पार्लर या सलॉन में जाकर थ्रेडिंग के जरिए अनचाहे बालों को हटवा सकती हैं।
  • एपिलेटर्स : एपिलेटर एक तरह का उपकरण है जो जड़ों से अनचाहे बालों को खींचकर निकालता है। इसे इस्तेमाल करने के दौरान काफी दर्द हो सकता है।
  • लेजर हेयर रिमूवल : आप चाहें तो किसी मेडिकल प्रोफेशनल की मदद से लेजर तकनीक का इस्तेमाल कर अनचाहे बालों को हटवा सकती हैं। इस ट्रीटमेंट के दौरान डॉक्टर लेजर लाइट की मदद से हेयर फॉलिकल्स यानी बालों के कूप को बर्बाद करते हैं। ऐसा करने से बालों की ग्रोथ और मात्रा दोनों में कमी आ जाती है।
  • इलेक्ट्रोलाइसिस : इस ट्रीटमेंट का इस्तेमाल नए उगने वाले बालों को कम करने में किया जाता है, लेकिन इसे सिर्फ किसी सर्टिफाइड मेडिकल प्रोफेशनल से ही करवाना चाहिए। इस इलाज के दौरान डॉक्टर बालों के कूप के बीच से बिजली के करेंट को दौड़ाते हैं, जिससे बालों को नुकसान पहुंचता है और वे दोबारा उग नहीं पाते।
  • ब्लीचिंग : ब्लीचिंग करवाने से चेहरे पर मौजूद अतिरिक्त बाल हटते नहीं हैं लेकिन उनका रंग जरूर हल्का हो जाता है, जिससे वह चेहरे पर कम नजर आते हैं। हाइड्रोक्वीनोन, चेहरे के लिए इस्तेमाल होने वाली ब्लीचिंग किट का मुख्य एजेंट है। लेकिन किसी भी तरह की ब्लीच को सीधे चेहरे पर इस्तेमाल करने से पहले उसका एलर्जी टेस्ट जरूर कर लेना चाहिए।

(और पढ़ें: अनचाहे बालों को कैसे हटाएं, उपाय और तरीका)

महिलाएं चेहरे से अतिरिक्त बाल हटाते वक्त जरूर बरतें ये सावधानियां - Precautions for removing excess facial hair in women in Hindi

ऊपर बताए गए हेयर रिमूवल के किसी भी तरीके को इस्तेमाल करते वक्त आपको कई तरह की सावधानियां बरतने की जरूरत होती है। लिहाजा चेहरे के अनचाहे बालों को हटाते वक्त इन बातों का जरूर ध्यान रखें :

  • शेविंग करते वक्त यह ध्यान रखें कि आपका रेजर नया हो और उसके ब्लेड पर किसी भी तरह का जंग न लगा हो। जंग वाले रेजर का इस्तेमाल करने से स्किन इंफेक्शन का खतरा रहता है।
  • हड़बड़ी में शेविंग न करें, वरना चेहरे पर कट लग सकते हैं, जिससे घाव हो सकता है।
  • हॉट वैक्स इस्तेमाल करते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि आपकी स्किन उसे सह पाए। ज्यादा गर्म वैक्स इस्तेमाल करने से स्किन जल सकती है। अगर वैक्स में बुलबुले बनने लगें तो वैक्स हीटर को तुरंत बंद कर दें।
  • बालों के उगने की विपरित दिशा में शेविंग न करें वरना इससे स्किन के अंदर उगने वाले इन्ग्रोन हेयर और फॉलिक्युलाइटिस की समस्या हो सकती है।
  • अनचाहे बालों को हटाने के लिए इस्तेमाल होने वाली डेपिलेटरी क्रीम और ब्लीचिंग क्रीम को सीधे चेहरे पर इस्तेमाल करने से पहले हाथ या पैर पर एलर्जी के लिए पैच टेस्ट करके जरूर देख लें।
  • शेविंग करने से स्किन ड्राई होने लगती है, लिहाजा शेविंग के तुरंत बाद स्किन पर मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल जरूर करें।
  • एपिलेटर इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपनी स्किन को गीला कर लें।

(और पढ़ें : 5 मिनट में फेस के एक्सट्रा बालों को हटाने के लिए घर पर बनाएं ये पेस्ट)

Dr. Ragini Puvvala

Dr. Ragini Puvvala

डर्माटोलॉजी

Dr. Priyanka Mutyala

Dr. Priyanka Mutyala

डर्माटोलॉजी

Dr. Siva Subramanian

Dr. Siva Subramanian

डर्माटोलॉजी

References

  1. National Health Service [Internet]. UK; Polycystic ovary syndrome
  2. MSDmanual consumer version [internet].Hairiness. Merck Sharp & Dohme Corp. Merck & Co., Inc., Kenilworth, NJ, USA
  3. Cleveland Clinic. [Internet]. Cleveland, Ohio. Excessive Hair Growth (Hirsutism)
  4. National Health Service [Internet]. UK; Excessive hair growth (hirsutism)
  5. Sharma NL, Mahajan VK, Jindal R, Gupta M, Lath A. HIRSUTISM: CLINICO-INVESTIGATIVE PROFILE OF 50 INDIAN PATIENTS. Indian J Dermatol. 2008;53(3):111‐114.
  6. American Family Physician.American Academy of Family Physicians [Internet]. Leawood (KS); Evaluation and Treatment of Women with Hirsutism
  7. Columbia University Vagelos College of Physicians and Surgeons.Columbia University Irving Medical Center [Internet]. New York. United States; Sex-hormone Producing Tumor
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें