महिलाओं को हर माह पीरियड्स से गुजरना पड़ता है. इस दौरान महिला को हाइजीन का खासतौर से ध्यान रखना चाहिए. ऐसे समय पर साफ-सफाई का ध्यान न रखने से संक्रमण होने व कई प्रकार की बीमारियों की चपेट में आने का डर बना रहता है. कुछ महिलाओं का सोचना होता है कि पीरियड के समय दिनभर में एक ही सैनिटरी पैड काफी होता है, जबकि यह सही नहीं है. साथ ही इस दौरान असुरक्षित यौन संबंध बनाने से गर्भवती होने की आशंका भी कम होती है, जबकि ऐसा सोचना भी गलत है.

आज इस लेख में हम यह जानने का प्रयास करेंगे कि पीरियड के समय महिला को क्या नहीं करना चाहिए -

(और पढ़ें - पीरियड्स में स्विमिंग करना सही है या गलत)

  1. पीरियड्स में ये न करें
  2. सारांश
पीरियड्स में क्या नहीं करना चाहिए के डॉक्टर

पीरियड्स के दौरान हाइजीन को बनाए रखने व संक्रमण से बचने के लिए निम्न बातों पर ध्यान देना जरूरी है -

सैनिटरी पैड

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि महिला पीरियड के समय सैनिटरी पैड यूज कर रही है या टैम्पोन. बस इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि इन्हें हर 4-6 घंटे में चेंज करते रहें. इसे लंबे समय तक यूज करने से बैक्टीरिया पैदा हो सकते हैं, जो शरीर से दुर्गंध आने का कारण बन सकते हैं. इसके अलावा, त्वचा पर रैशेज व टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम होने की आशंका रहती है.

(और पढ़ें - पीरियड देर से आने पर क्या करें)

वैक्सिंग या शेविंग

पीरियड्स के दौरान योनि के आसपास वैक्सिंग या शेविंग न करने की सलाह दी जाती है. दरअसल, इस दौरान महिलाओं की स्किन काफी सेंसटिव होती है. ऐसे में वैक्सिंग कराने से स्किन को परेशानी हो सकती है. साथ ही महिलाओं को दर्द और असहज महसूस हो सकता है.

(और पढ़ें - मासिक धर्म के बंद होने पर क्या करें)

असुरक्षित यौन संबंध

ऐसा सोचना बिल्कुल गलत है कि पीरियड के समय असुरक्षित सेक्स करने से गर्भवती होने की आशंका कम होती है. इसलिए, अगर कोई महिला गर्भवती नहीं होना चाहती है, तो उसे पीरियड के समय भी कंडोम का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए. साथ ही ऐसे समय में असुरक्षित यौन संबंध बनाने से दोनों पार्टनर को कई तरह के बैक्टीरियल और संक्रमण समस्याएं पनपने का खतरा रहता है.

(और पढ़ें - मासिक धर्म के दौरान सेक्स)

हाथ न धोना

पीरियड में समय-समय पर हाथ धोना जरूरी होता है. खासतौर से पैड चेंज करने के बाद महिलाओं को अच्छे से हाथ धोने चाहिए. इससे बैक्टीरियल समस्याएं होने के खतरे को कम किया जा सकता है.

(और पढ़ें - पीरियड्स देर से आने का इलाज)

कैफीन का सेवन

कई महिलाओं का मानना है कि पीरियड्स में दर्द होने पर चाय और कॉफी का सेवन करने से दर्द कम हो जाता है, जबकि ऐसा नहीं है. कैफीन युक्त ड्रिंक्स के सेवन से पीरियड्स में होने वाली समस्याएं बढ़ सकती हैं. पीरियड्स के दौरान अधिक मात्रा में चाय-कॉफी का सेवन करने से पेट में ऐंठन और दर्द बढ़ सकती है. साथ ही यह रक्त वाहिकाओं के संकुचन का कारण बन सकता है. इसकी वजह से महिलाओं की समस्याएं बढ़ने लगती हैं.

(और पढ़ें - मासिक धर्म में दर्द का इलाज)

व्यायाम न करना

पीरियड्स में एक्सरसाइज नहीं करना चाहिए. इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है. वहीं, ऐसे प्रमाण हैं, जिसमें साबित किया गया है कि पीरियड्स के दौरान हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करने से महिलाओं को इस दौरान होने वाली परेशानियों से राहत मिल सकती है. बस ध्यान रखें कि इस अवधि में हैवी एक्सरसाइज न करें. इससे महिलाओं को थकान महसूस हो सकती है.

(और पढ़ें - पीरियड खुलकर न आना या कम आना )

पीरियड्स से जुड़ी ऐसी कई बाते हैं, जिनके बारे में अधिकर महिलाओं के पास गलत जानकारी है. आज भी कई महिलाएं पीरियड के समय साफ-सफाई का ध्यान नहीं रखती हैं. साथ ही दिनभर में एक ही सैनिटरी पैड से काम चलती हैं, जबकि ऐसा करने से संक्रमण होने का अंदेशा बना रहता है. उम्मीद है कि इस लेख को पढ़ने के बाद महिलाओं का यह स्पष्ट हो गया होगा कि पीरियड के समय क्या नहीं करना चाहिए.

(और पढ़ें - पीरियड्स जल्दी लाने के उपाय)

Dr. Swati Rai

Dr. Swati Rai

प्रसूति एवं स्त्री रोग
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Bhagyalaxmi

Dr. Bhagyalaxmi

प्रसूति एवं स्त्री रोग
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Hrishikesh D Pai

Dr. Hrishikesh D Pai

प्रसूति एवं स्त्री रोग
39 वर्षों का अनुभव

Dr. Archana Sinha

Dr. Archana Sinha

प्रसूति एवं स्त्री रोग
15 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ