• हिं
सर्जरी की जानकारी के लिए फॉर्म भरें।
हम 48 घंटों के भीतर आपसे संपर्क करेंगे।

थोरैकोटोमी एक प्रक्रिया है जिसके तहत पसलियों के बीच के हिस्से को काटा जाता है, ताकि उसके अंदर मौजूद अंगों का ऑपरेशन किया जा सके। यह सर्जरी तब की जाती है जब आपकी पसलियां टूट गयी हों या फिर फेफड़ों से संबंधित कोई स्थिति हो जैसे फेफड़ों का कैंसर और संक्रमण हो। प्रक्रिया से पहले सर्जन व्यक्ति के पूर्ण स्वास्थ्य की जांच करते हैं, ताकि यह पता लगाया जा सके कि व्यक्ति सर्जरी के लिए स्वस्थ है। सर्जन आपसे आपके पूरे स्वास्थ्य और दवाओं की जानकारी लेंगे। सर्जरी की एक रात पहले आपसे कुछ भी खाने-पीने से मना किया जाएगा। सर्जन आपको सामान्य एनेस्थीसिया देंगे ताकि ऑपरेशन के दौरान आपको कुछ महसूस न हो। सर्जरी के पांच से सात दिन बाद आपको डिस्चार्ज किया जाएगा। यदि आपको असामान्य महसूस हो रहा है जैसे दर्द या सांस लेने में समस्या तो डॉक्टर को तुरंत सूचित करें।

  1. थोरैकोटोमी क्या है - Thoracotomy kya hai
  2. थोरैकोटोमी क्यों की जाती है - Thoracotomy kyon ki jati hai
  3. थोरैकोटोमी से पहले - Thoracotomy se pehle
  4. थोरैकोटोमी कैसे होती है - Thoracotomy kaise hoti hain
  5. थोरैकोटोमी के बाद देखभाल - Thoracotomy ke baad dekhbhal
  6. थोरैकोटोमी के खतरे - Thoracotomy ke khatre

थोरैकोटोमी एक सर्जिकल प्रक्रिया है जिसमें पसली की हड्डियों के बीच में एक चीरा लगाया जाता है ताकि इसके अंदर के अंगों तक पहुंचा जा सके। इसमें हृदय, श्वासनली, फेफड़े और भोजन नली शामिल हैं।

सर्जरी दो तरह से की जाती है -

  • ओपन सर्जरी - इस सर्जरी में चीरा छाती के दाएं या बाए हिस्से में लगाया जाता है। 
  • थोरैकोस्कॉपिक सर्जरी - इस प्रक्रिया में सर्जन छाती की दीवार में कई सारे छोटे चीरे लगाते हैं और एक विशेष उपकरण जिसमें कैमरा लगा होता है उसकी मदद से अंदर देखते हैं।

बहुत ही कम मामलों में ब्रैस्ट बोन (दाए और बाएं रिब्स के बीच मौजूद हड्डी) से लेकर छाती के सामने वाले भाग तक चीरा लगाया जाता है।

यदि आपके शरीर में निम्न लक्षण दिखाई देते हैं तो सर्जन इस सर्जरी को करने की सलाह दे सकते हैं।

फेफड़ों का कैंसर -  फेफड़े के कैंसर के शुरुआती चरण का इलाज करने के लिए सर्जन फेफड़े के एक हिस्से या पूरे फेफड़े को निकाल सकते हैं। फेफड़ों के कैंसर के लक्षणों में शामिल हो सकते हैं -

फेफड़ों में ट्यूमर (गैर-कैंसरकारी) - फेफड़ों में हानिरहित ट्यूमर के लक्षण इस प्रकार हैं -

टूटी पसलियां (रिब्स) - टूटी पसलियों के लक्षणों में शामिल हैं -

थोरैकोटोमी का उपयोग फेफड़ों की अन्य समस्याओं के इलाज के लिए भी किया जाता है जैसे -

थोरैकोटोमी हृदय की सर्जरी और हृदय संबंधी रक्तस्राव या थोरासिक कैविटी में रक्तस्राव जैसी आपातकालीन स्थितियों के लिए की जा सकती है।

(और पढ़ें - फेफड़ों में पानी के लक्षण)

सर्जरी से पहले, आपको निम्नलिखित तैयारी की आवश्यकता होगी -

  • आपके पूरे स्वास्थ्य की जांच की जाएगी और निम्नलिखित परीक्षणों के लिए कहा जा सकता है -
    • ब्लड टेस्ट - आपके लिवर और किडनी की कार्यप्रक्रिया का पता लगाने के लिए
    • इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईसीजी) - हृदय की विद्युत गतिविधि का पता लगाने के लिए
    • मेथिसिलिन रेसिस्टेंट स्टैफिलोकोकस ऑरियस (MRSA) स्क्रीनिंग - सर्जरी के बाद संक्रमण से बचाने के लिए
    • चेस्ट एक्स-रे - यह हृदय और फेफड़ों के बारे में जानकारी देता है
    • रेस्पिरेटरी फंक्शन टेस्ट या ब्रीथिंग टेस्ट - फेफड़ों के कार्य को निर्धारित करने के लिए
    • क्वांटिफेरोन ब्लड टेस्ट - यह जांचने के लिए कि आपको तपेदिक का संक्रमण है या नहीं
  • आप जो भी दवाएं ले रहे हैं उनके बारे में डॉक्टर को बताएं इन दवाओं में हर्बल सप्लीमेंट, विटामिन, ड्रग, मेडिकेशन और डॉक्टर की सलाह के बिना ली जा रही दवाएं भी शामिल हैं
  • यदि आप एस्पिरिन या आइबुप्रोफेन जैसे कोई भी रक्त-पतला करने की दवा ले रहे हैं, तो डॉक्टर उन्हें न लेने की सलाह देंगे
  • आपको सर्जरी से पहले आधी रात से भूखे रहने के लिए कहा जाएगा
  • आपको किसी ऐसे व्यक्ति (मित्र या रिश्तेदार) की आवश्यकता होगी जो सर्जरी के बाद आपको घर ले जा सके
  • रिकवरी प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए पहले से ही धूम्रपान की आदत छोड़ने का प्रयास करें
  • यदि आप एक दिन में एक या दो से अधिक पैक शराब पीते हैं तो अपने डॉक्टर को इस बारे में  बताएं
  • सर्जरी के लिए अनुमति देने के लिए आपको एक सहमति फॉर्म पर हस्ताक्षर करने को कहा जाएगा

सर्जरी ऑपरेशन रूम में की जाएगी। सर्जरी से पहले आपकी बांह की नस में आइवी लाइन लगाई जाएगी ताकि सर्जरी के दौरान आपको द्रव दिए जा सकें। आपको सर्जरी के दौरान सुलाने के लिए जनरल एनेस्थिसिया दिया जाएगा। यूरिन को निकालने के लिए कैथीटर लगाया जाएगा। सर्जरी वाले स्थान से बालों को सर्जिकल क्लिपर से निकाला जाएगा।

ओपन थोरैकोटोमी निम्न तरह से की जाती है -

  • आपको सर्जरी की टेबल के एक तरफ लिटाया आएगा और सर्जन आपकी बांह को सर के ऊपर रखेंगे
  • इसके बाद जिस स्थान पर सर्जरी की जानी है उसके अनुसार सर्जन पसलियों के बीच में एक चीरा लगाएंगे। आमतौर पर यह चीरा सामने की ओर छाती से बांह के बगल तक लगाया जाता है
  • सर्जन इसके बाद आपकी पसलियों को अलग करेंगे, ताकि सर्जरी के स्थान तक पहुंचा जा सके
  • सर्जरी पूरी हो जाने के बाद ड्रेनेज ट्यूब को छाती से अतिरिक्त द्रव निकालने के लिए लगाया जाएगा
  • इसके बाद रिब्स या पसलियों को वापस टांकों से सिल दिया जाएगा

थोरैकोस्कॉपिक प्रक्रिया निम्न तरह से की जाएगी -

  • सर्जन छाती पर कई छोटे-छोटे चीरे लगाएंगे
  • इसके बाद थोरेस्कोप नामक एक उपकरण जिसमें एक कैमरा लगा होता है और अन्य सर्जरी के उपकरणों से चीरे के अंदर प्रवेश करेंगे और सर्जरी करेंगे
  • सर्जरी के बाद घाव को टांकों से सिल दिया जाएगा

सर्जरी को करने में एक से तीन घंटे तक का समय लग सकता है। सर्जरी के बाद निम्न चीज़ें हो सकती हैं -

  • मेडिकल स्टाफ आपको रिकवरी रूम में शिफ्ट कर देगा और आपको एनेस्थीसिया से रिकवर करने के लिए एक ऑक्सीजन मास्क लगाया जाएगा
  • अपने वार्ड में पहुंचने पर नर्स आपके रक्तचाप और नब्ज की जांच करेंगी
  • आपको आइवी लाइन के द्वारा दवाएं और द्रव दिए जाएंगे
  • द्रव के पूरी तरह से निकल जाने के बाद नर्स ड्रेन ट्यूब को निकाल देंगी

सर्जरी के पांच से सात दिन बाद आप घर जा सकेंगे।

जब आप घर आते हैं, तो आपको निम्नलिखित देखभाल करने की आवश्यकता होगी -

घाव की देखभाल -

  • घाव को साफ और सूखा रखें
  • जब तक यह पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाता है, तब तक टैल्कम पाउडर, क्रीम या डियोड्रेंट को ऑपरेशन किए गए स्थान पर न लगाएं
  • घाव ठीक होने पर खुजली, सुन्नता या झुनझुनी महसूस होना सामान्य है

नहाना -

  • आप स्नान कर सकते हैं
  • शरीर के जिस हिस्से में ऑपरेशन हुआ है वहां, उसे छह सप्ताह तक भिगोने से बचें

क्रियाएं -

  • आपको सर्जरी के छह सप्ताह बाद ड्राइविंग शुरू करने की अनुमति दी जा सकती है
  • आपको हर दिन चलने जैसे छोटे-छोटे व्यायाम करके सक्रिय जीवन जीना चाहिए
  • चार से छह सप्ताह तक अकेले भारी गतिविधियां न करें
  • डॉक्टर सर्जरी के बाद सांस की तकलीफ से बचने के लिए श्वास संबंधी व्यायाम करने की सलाह दे सकते हैं

आहार -

  • आपको हर दिन एक से दो लीटर तरल पीना चाहिए
  • जब तक आप पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाते हैं तब तक दिन में कई बार थोड़ा-थोड़ा भोजन लें

दवाइयां -

  • सर्जरी के बाद आपको दर्द निवारक दवा दी जाएगी
  • आपके डॉक्टर आपको पैरों में रक्त के थक्के को रोकने के लिए कम से कम छह सप्ताह के लिए एंटीएम्बोलिक स्टॉक पहनने का सुझाव दे सकते हैं

डॉक्टर के पास कब जाएं?

यदि आपको निम्नलिखित अनुभव हो तो आपको अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को तुरंत सूचित करना चाहिए -

  • पैरों में अस्पष्टीकृत सूजन या दर्द होने पर 
  • दर्द निवारक लेने के बावजूद दर्द कम न होने पर
  • घाव के आसपास लालिमा, गर्माहट या कठोरता होने पर 
  • लेक्सेटिव लेने के बावजूद भी कब्ज होने पर

इस सर्जरी के खतरे इस प्रकार हैं -

  • पैर में खून का थक्का जमना
  • रक्तस्त्राव
  • छाती या फेफड़ों में संक्रमण
  • घाव के चारों ओर संक्रमण
  • ब्रोंकोप्ल्यूरल फिस्टुला (एक खुला पथ जो ब्रोकाई और प्ल्यूरल स्पेस के बीच बनता है)
  • फेफड़ों से लंबे समय तक हवा का रिसाव होना
  • लंबे समय तक दर्द होना
  • आसपास के अंगों को नुकसान
  • रेस्पिरेटरी फेलियर (एक ऐसी स्थिति जिसमें आपके फेफड़े आपके रक्त में ऑक्सीजन को ठीक से भेजने में सक्षम नहीं होते हैं या कार्बन डाइऑक्साइड व ऑक्सीजन दोनों को निकाल देते हैं)

संदर्भ

  1. American Lung Association [Internet]. Illinois. US; Thoracotomy
  2. Sheffield Teaching Hospitals: NHS Foundation Trust [Internet]. National Health Service. UK; Thoracotomy
  3. Oxford University Hospitals [internet]: NHS Foundation Trust. National Health Service. U.K.; Thoracotomy
  4. National Health Service [Internet]. UK; Lung cancer
  5. Cleveland Clinic [Internet]. Ohio. US; Benign Lung tumors
  6. Feller-Kopman DJ, Decamp MM. Interventional and surgical approaches to lung disease. In: Goldman L, Schafer AI, eds. Goldman-Cecil Medicine. 25th ed. Philadelphia, PA: Elsevier Saunders; 2016
  7. Putnam JB. Lung, chest wall, pleura, and mediastinum. In: Townsend CM Jr, Beauchamp RD, Evers BM, Mattox KL, eds. Sabiston Textbook of Surgery. 20th ed. Philadelphia, PA: Elsevier Saunders; 2017:chap 57.
  8. Alfille PH, Wiener-Kronish JP, Bagchi A. Preoperative evaluation. In: Broaddus VC, Mason RJ, Ernst JD, et al, eds. Murray and Nadel’s Textbook of Respiratory Medicine. 6th ed. Philadelphia, PA: Elsevier Saunders; 2016:chap 27.
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ