• हिं
सर्जरी की जानकारी के लिए फॉर्म भरें।
हम 48 घंटों के भीतर आपसे संपर्क करेंगे।

कंडरा स्थानांतरण सर्जरी की मदद से शरीर में मौजूद किसी निष्क्रिय टेंडन (कंडरा) को एक स्वस्थ टेंडन से बदल दिया जाता है। इस सर्जरी को शरीर के किसी जोड़ को हिलने-डुलने में फिर से सक्षम बनाने के लिए किया जाता है।

सर्जरी से पहले डॉक्टर आपके स्वास्थ्य संबंधी पिछली सभी जानकारियां लेंगे और साथ ही आप कौन सी दवाएं लेते हैं व आपकी जीवनशैली के बारे में जानेंगे। कंडरा स्थानांतरण सर्जरी खाली पेट की जाती है, जिसके लिए सर्जरी से पहले कुछ भी खाने या पीने से मना किया जाता है। सर्जरी के दौरान लोकल या जनरल एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगाया जाता है। सर्जरी के बाद उस हिस्से पर कुछ समय के लिए प्लास्टर लगा दिया जाता है, ताकि उसे सुरक्षित रखा जा सके। ऑपरेशन के बाद फीजियोथेरेपिस्ट कुछ विशेष व्यायाम करना सिखाते हैं, जिनकी मदद से आपको जल्दी स्वस्थ होने में मदद मिलती है। कुछ समय बाद आपको फिर से अस्पताल बुलाया जाता है, जिस दौरान प्लास्टर व टांके खोल दिए जाते हैं और यह देखा जाता है कि सर्जरी से संबंधी कोई समस्या तो नहीं हुई है।

(और पढ़ें - टेंडन में चोट लगने के कारण)

  1. कंडरा स्थानांतरण सर्जरी क्या है - What is Tendon Transfer Surgery in Hindi
  2. कंडरा स्थानांतरण सर्जरी किसलिए की जाती है - Why is Tendon Transfer Surgery done in Hindi
  3. कंडरा स्थानांतरण सर्जरी से पहले - Before Tendon Transfer Surgery in Hindi
  4. कंडरा स्थानांतरण सर्जरी के दौरान - During Tendon Transfer Surgery in Hindi
  5. कंडरा स्थानांतरण सर्जरी के बाद - After Tendon Transfer Surgery in Hindi
  6. कंडरा स्थानांतरण सर्जरी की जटिलताएं - Complications of Tendon Transfer Surgery in Hindi

टेंडन ट्रांसफर सर्जरी क्या है?

कंडरा स्थानांतरण सर्जरी की मदद से शरीर के किसी हिस्से में मौजूद निष्क्रिय या खराब कंडरा को एक स्वस्थ कंडरा के साथ बदल दिया जाता है। कंडरा या टेंडन मजबूत ऊतकों से बनी एक पट्टी नुमा संरचना होती है, जो मांसपेशियों को हड्डियों से जोड़ने का काम करती है। सामान्य रूप से टेंडन और मांसपेशियां मिलकर काम करती हैं, जिससे शरीर के जोड़ कुशलतापूर्वक हिल-ढुल पाते हैं।

यदि किसी रोग या चोट आदि लगने के कारण टेंडन में दरार या फिर अन्य कोई क्षति हो गई है, तो ऐसी स्थिति में टेंडन ट्रांसफर सर्जरी की जाती है। इसके अलावा यदि आपको तंत्रिका तंत्र संबंधी कोई रोग है, जिसके कारण शरीर के किसी हिस्से की मांसपेशी ठीक से काम नहीं कर पा रही है, तो भी यह सर्जरी की जा सकती है। कंडरा स्थानांतरण सर्जरी मांसपेशियों की कार्यक्षमता को वापस लाने या उनके कार्यों में सुधार करने के लिए किया जाता है।

(और पढ़ें - मांसपेशियों को मजबूत करने के उपाय)

टेंडन ट्रांसफर सर्जरी क्यों की जाती है?

यदि आपकी टांग, कलाई या अंगूठे जैसे शरीर के किसी हिस्से में मौजूद टेंडन क्षतिग्रस्त हो गया है, तो कंडरा स्थानांतरण सर्जरी की जा सकती है। कंडरा या मांसपेशियां निम्न कारणों से क्षतिग्रस्त हो सकते हैं -

यदि आपके शरीर के किसी हिस्से में टेंडन क्षतिग्रस्त हो गया है, तो निम्न लक्षण महसूस हो सकते हैं -

कंडरा स्थानांतरण सर्जरी किसे नहीं करवानी चाहिए?

डॉक्टर अधिकतर मामलों में टेंडन ट्रांसफर सर्जरी करवाने की सलाह दे देते हैं, यदि आप शारीरिक रूप से कमजोर हैं, तो हो सकता है डॉक्टर यह सर्जरी करने से मना कर दें। इसके अलावा अनियंत्रित मधुमेह और हृदय रोग से ग्रस्त लोगों में भी कंडरा स्थानांतरण सर्जरी न करवाने की सलाह दी जा सकती है। हालांकि, कुछ ऐसी स्थितियां भी हैं, जिनमें टेंडन ट्रांसफर सर्जरी से कुछ जोखिम हो सकते हैं और विशेष ध्यान रखते हुए यह सर्जरी की जा सकती है -

(और पढ़ें - कमजोरी दूर करने के घरेलू उपाय)

कंडरा स्थानांतरण सर्जरी से पहले क्या तैयारी की जाती है?

टेंडन ट्रांसफर सर्जरी से पहले डॉक्टर आपका शारीरिक परीक्षण करेंगे और आपके स्वास्थ्य संबंधी पिछली स्थिति की ध्यानपूर्वक जांच करेंगे। शारीरिक परीक्षण के बाद कुछ इमेजिंग स्कैन भी किए जा सकते हैं, जैसे अल्ट्रासाउंड या एमआरआई स्कैन आदि। ये सभी टेस्ट ऑपरेशन से दो या तीन हफ्ते पहले ही कर लिए जाते हैं। इसके अलावा आपको सर्जरी से पहले निम्न तैयारियां करने की सलाह दी जा सकती है -

  • यदि आप किसी भी प्रकार की दवा, हर्बल उत्पाद, विटामिन, मिनरल या अन्य कोई सप्लीमेंट ले रहे हैं, तो ऑपरेशन वाले दिन से पहले ही इनके बारे में डॉक्टर को बता दें। ऐसा इसलिए क्योंकि डॉक्टर इनमें से कुछ दवाओं को न लेने की सलाह दे सकते हैं, जैसे एस्पिरिन, वार्फेरिन और विटामिन ई आदि जो रक्त को पतला करने का काम करते हैं।
  • सर्जरी के दौरान खाली पेट रहने की सलाह दी जाती है, जिसके लिए आपको ऑपरेशन वाले दिन से पहली आधी रात के बाद कुछ भी न खाने को कहा जाता है। ऑपरेशन के बाद आप डॉक्टर से अनुमति लेकर खा सकते हैं।
  • आपकी सर्जरी से पहले अपनी जीवनशैली की कुछ आदतों में सुधार करने की सलाह भी दी जा सकती है। यदि आप धूम्रपान या शराब का सेवन करते हैं, तो उसे छोड़ने की सलाह दी जाती है। सिगरेट व शराब आदि को छोड़ने से सर्जरी के बाद शरीर के स्वस्थ होने की क्षमता बढ़ जाती है। इसके अलावा आपको स्वस्थ आहार लेने और नियमित रूप से व्यायाम करने की सलाह भी दी जा सकती है। (और पढ़ें - व्यायाम करने का सही समय)
  • सर्जरी के लिए अपने साथ किसी करीबी रिश्तेदार या मित्र को लाने की सलाह दी जाती है, ताकि सर्जरी से पहले के कार्यों और सर्जरी के बाद आपको घर जाने में मदद मिल सके। सर्जरी के बाद आपको कुछ निश्चित समय के लिए गाड़ी न चलाने की सलाह दी जा सकती है, इसलिए भी सर्जरी से पहले अपने साथ किसी को लाना आवश्यक होता है।
  • इन सभी तैयारियों के बाद आपको सहमति पत्र दिया जाता है, जिस पर हस्ताक्षर करके आप सर्जन को सर्जरी करने की अनुमति दे देते हैं। सहमति पत्र में सर्जरी से सभी लाभ व जोखिम लिखे होते हैं, इसलिए उन्हें अच्छे से पढ़ व समझ कर ही उस पर हस्ताक्षर करना चाहिए।

(और पढ़ें - सिगरेट छोड़ने के तरीके)

कंडरा स्थानांतरण सर्जरी कैसे की जाती है?

जब आप सर्जरी वाले दिन अस्पताल पहुंच जाते हैं, तो दस्तावेजों संबंधी सभी कार्य पूरे करके आपको ऑपरेशन थिएटर ले जाया जाता है। सबसे पहले आपको एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगाया जाता है। एनेस्थीसिया के विभिन्न प्रकार हैं, जिन्हें अलग-अलग स्थितियों में इस्तेमाल किया जाता है, जैसे -

  • जनरल एनेस्थीसिया -
    इससे आपको सर्जरी के दौरान गहरी नींद आ जाती है और आपको कुछ महसूस ही होता है।
  • रिजनल एनेस्थीसिया -
    इससे शरीर के एक हिस्से को पूरी तरह से सुन्न कर दिया जाता है, जैसे एक टांग या बांह को सुन्न कर देना।
  • लोकल एनेस्थीसिया -
    इसकी मदद से शरीर से सिर्फ उस हिस्से को ही सुन्न किया जाता है, जिसकी सर्जरी की जानी है।

डॉक्टर आपकी जरूरत के अनुसार ही एनेस्थीसिया का चुनाव करते हैं, जो मुख्य रूप से उस हिस्से पर निर्भर करता है, जिसकी सर्जरी की जानी है।

टेंडन ट्रांसफर सर्जरी के दौरान इस्तेमाल की जाने वाली सर्जिकल प्रोसीजर कुछ इस प्रकार है -

  • सर्जन त्वचा में कई छोटे या बड़े चीरे लगाते हैं, ताकि प्रभावित मांसपेशी और टेंडन को देखा जा सके।
  • जब क्षतिग्रस्त टेंडन को ढूंढ लिया जाता है, तो शरीर के किसी अन्य हिस्से से टेंडन निकाल लिया जाता है। हालांकि, शरीर के सिर्फ उसी हिस्से से टेंडन को निकाला जाता है, जिसकी मांसपेशी टेंडन के बिना आसानी से काम कर पा रही हो। (और पढ़ें - अकिलिस टेंडन समस्या का इलाज)
  • इसके बाद क्षतिग्रस्त टेंडन को निकाल दिया जाता है और उसकी जगह पर स्वस्थ टेंडन लगा दिया जाता है। स्वस्थ टेंडन को हड्डी से जोड़ने के लिए हड्डी में छिद्र किए जाते है और बोन एंकर की मदद से चिपका दिया जाता है। बोन एंकर एक प्रकार का पैच होता है, जो टेंडन को हड्डी के साथ दृढ़ता से जोड़ देता है। (और पढ़ें - अकिलीज टेंडन रप्चर का इलाज)
  • आवश्यकता पड़ने पर सर्जरी के दौरान एक से अधिक कंडराओं को स्थानांतरित किया जा सकता है। टेंडन के सफलतापूर्वक लगने के बाद सर्जन चीरे को बंद करके टांके लगा देते हैं।

टेंडन ट्रांसफर सर्जरी में लगभग 90 से 120 मिनट का समय लगता है। आपको सर्जरी के बाद कितने दिन तक अस्पताल में भर्ती रहना पड़ेगा, यह निर्भर करता है कि आपके शरीर के कौन से हिस्से की सर्जरी की गई है। उदाहरण के लिए यदि आपके टखने की टेंडन ट्रांसफर सर्जरी हुई है, तो आपको लगभग दो रातों तक अस्पताल में भर्ती रहना पड़ सकता है।

(और पढ़ें - टेंडन में चोट का इलाज)

टेंडन ट्रांसफर सर्जरी के बाद की देखभाल

कंडरा स्थानांतरण सर्जरी के बाद जब आप घर आ जाते हैं, तो आपको निम्न देखभाल करने की आवश्यकता पड़ती है -

  • प्लास्टर की देखभाल -
    • सर्जरी वाले हिस्से को कुछ समय तक हिलने-डुलने से बचाने व सुरक्षित रखने के लिए सर्जरी के बाद लगभग दो महीनों तक प्लास्टर लगाकर रखा जा सकता है। आपको प्लास्टर को गीला व गंदा होने से बचाने की सलाह दी जाती है। यदि आपको लगता है कि प्लास्टर ढीला पड़ गया है, तो जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखा लें। प्लास्टर के ऊपर पतली पट्टी चढ़ाई जा सकती है, जिसे समय-समय पर बदला जाता है, ताकि प्लास्टर को गंदा होने से बचाया जा सके। (और पढ़ें - अकिलीज टेनोटोमी क्या है)
       
  • दर्द की देखभाल -
    • ऑपरेशन के बाद पहले कुछ दिनों तक आपको दर्द रह सकता है, इसके लिए डॉक्टर आपको कुछ दर्द निवारक दवाएं देते हैं। इन दवाओं को डॉक्टर की सलाह के अनुसार लेते रहना चाहिए। (और पढ़ें - दर्द निवारक दवा के साइड इफेक्ट)
    • डॉक्टर सर्जरी वाले हिस्से को हृदय के स्तर से ऊपर रखने की सलाह देते हैं, इसकी मदद से भी दर्द व सूजन आदि को कम किया जा सकता है। उदाहरण के लिए यदि आपके पैर या हाथ के आस-पास सर्जरी हुई है, तो कुछ तकिए लगाकर आप इस हिस्से को ऊपर उठा सकते हैं। (और पढ़ें - सूजन की आयुर्वेदिक दवा)
       
  • घाव की देखभाल -
    • आपको सर्जरी के घाव को साफ, स्वच्छ व सूखा रखने की सलाह दी जाती है।
    • डॉक्टर द्वारा दी गई दवाओं के अलावा कोई अन्य दवा, क्रीम या लोशन आदि का इस्तेमाल न करें।
    • ऑपरेशन के एक दिन बाद आपको नहाने की अनुमति दी जा सकती है। हालांकि, नहाते समय प्लास्टर वाले हिस्से को गीला होने से बचाना आवश्यक होता है। (और पढ़ें - नहाने का सही तरीका)
       
  • कार्य करना -
    • सर्जरी के बाद जब प्लास्टर खुल जाता है, तो आप धीरे-धीरे अपनी दिनचर्या के कार्य कर सकते हैं। प्लास्टर खुलने में दो हफ्तों से दो महीनों तक का समय लग सकता है, यह निर्भर करता है कि आपके किस हिस्से की सर्जरी हुई है।
    • सर्जरी के बाद गाड़ी या अन्य कोई मशीन चलाना शुरू करने से पहले एक बार डॉक्टर से अनुमति ले लें।
    • आपको फिजियोथेरेपिस्ट कुछ व्यायाम सिखा सकते हैं, जिनसे आपको जल्दी स्वस्थ होने में मदद मिलती है। (और पढ़ें - फिजियोथेरेपी के फायदे)

डॉक्टर को कब दिखाएं?

यदि कंडरा स्थानांतरण सर्जरी के बाद आपको निम्न में से कोई भी समस्या महसूस होती है, तो डॉक्टर से बात कर लें -

  • बुखार या ठंड लगना (या दोनों)
  • सर्जरी के घाव या प्लास्टर के आसपास की त्वचा में सूजन, लालिमा, खुजली, जलन या दर्द होना
  • प्लास्टर के नीचे की त्वचा सुन्न होना
  • सर्जरी के आस-पास की त्वचा ठंडी होना और नीली पड़ जाना (और पढ़ें - नील पड़ने का इलाज)
  • सर्जरी के घाव से द्रव रिसना या रक्तस्राव होना (ऐसे में प्लास्टर पर निशान पड़ने लगते हैं।)

यदि आपको प्लास्टर संबंधी निम्न समस्या महसूस होती है, तो भी डॉक्टर को दिखाएं -

  • प्लास्टर नरम होना
  • ढीला पड़ना या हिलना
  • प्लास्टर में दरार आना या ऊपर से पट्टी खुलने लगना
  • प्लास्टर को पहनने में दिक्कत महसूस होना

(और पढ़ें - घाव की मरहम पट्टी कैसे करें)

टेंडन ट्रांसफर सर्जरी से क्या जोखिम हो सकते हैं?

कंडरा स्थानांतरण सर्जरी से निम्न जोखिम व जटिलताएं देखी जा सकती हैं -

  • टेंडन में स्कार ऊतक बनना, जिस कारण से शरीर का जोड़ ठीक से हिल न पाना
  • संक्रमण
  • डीप वेन थ्रोम्बोसिस
  • तंत्रिका क्षतिग्रस्त होना
  • प्रभावित हिस्से में अकड़न, सूजन और दर्द रहना
  • सर्जरी के बाद लगाया टेंडन फिर से फट या अलग हो जाना

(और पढ़ें - जोड़ों में दर्द के लक्षण)

संदर्भ

  1. American Society for Surgery of the Hand [Internet]. Illinois. US; Radial nerve and tendon transfers
  2. Massachusetts General Hospital [Internet]. Boston. Massachusetts. US; Tendon Transfer Surgery
  3. Royal Berkshire Hospital [Internet]. NHS Foundation Trust. National Health Service. UK; Surgery to repair/reconstruct the tibialis posterior tendon
  4. Krishnamurthy S, Ibrahim M. Tendon transfers in foot drop. Indian J Plast Surg. 2019 Jan;52(1):100–108. PMID: 31456618.
  5. Northwell Health [Internet]. New York. US; Tendon Transfer Surgery
  6. American society of podiatric surgeons [Internet]. Bethesda. Maryland. US; Tendon transfer…to do, or not to do?
  7. Smith SF, Duell DJ, Martin BC, Gonzalez L, Aebersold M, eds. Clinical Nursing Skills: Basic to Advanced Skills. 9th ed. New York, NY: Pearson; 2016:chap 26.
  8. Neumayer L, Ghalyaie N. Principles of preoperative and operative surgery. In: Townsend CM Jr, Beauchamp RD, Evers BM, Mattox KL, eds. Sabiston Textbook of Surgery: The Biological Basis of Modern Surgical Practice. 20th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2017:chap 10.
  9. Zambouri A. Preoperative evaluation and preparation for anesthesia and surgery. Hippokratia. 2007 Jan;11(1):13–21. PMID: 19582171.
  10. Beth Israel Lahey Health: Winchester Hospital [Internet]. Winchester. Maryland. US; Tendon Repair
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ