• हिं
सर्जरी की जानकारी के लिए फॉर्म भरें।
हम 48 घंटों के भीतर आपसे संपर्क करेंगे।

पंक्टोप्लास्टी एक सर्जरी की प्रक्रिया है, जो कि पंक्टम के आकार को बड़ा करने के लिए की जाती है। पंक्टम आंख के किनारों पर मौजूद छोटे छेद होते हैं, जिनसे आंसू निकलते हैं। इस सर्जरी की सलाह उन लोगों को दी जाती है, जिन्हें पंक्टल स्टेनोसिस होता है। पंक्टल स्टेनोसिस में आंखों से आंसू बहुत ज्यादा मात्रा में गालो तक आ जाते हैं। हालांकि, यह सर्जरी तब नहीं की जाती है जब आंसुओं के अधिक बहने का कारण कुछ और होता है जैसे सूक्ष्‍मनलिका (आंखों से आंसू निकलने का रास्ता) का पतला होना या नेसलक्रिमल नलिका का अवरुद्ध हो जाना।

पंक्टोप्लास्टी से पहले आंख के डॉक्टर आपकी मेडिकल स्थिति के बारे में जानेंगे और कुछ टेस्ट करेंगे। आपको कुछ दवाएं न लेने को भी कहा जाएगा जैसे एस्पिरिन। पंक्टोप्लास्टी कई अन्य तरीकों से भी की जा सकती है जैसे वन स्निप, टू स्निप या थ्री स्निप पंक्टोप्लास्टी। सर्जरी के लिए आपको एनेस्थीसिया दिया जाएगा और डॉक्टर आपको दर्द कम करने के लिए कुछ दवाएं देंगे। संक्रमण से बचने के लिए आपको किसी आई ड्राप की जरूरत हो सकती है। सर्जरी के कुछ दिन बाद आपको अपॉइंटमेंट दी जाएगी, लेकिन यदि आपको चक्कर आना, दर्द और उल्टी जैसे लक्षण महसूस होते हैं तो डॉक्टर को जल्दी से सूचित करें।

  1. पंक्टोप्लास्टी क्या है - Punctoplasty kya hai
  2. पंक्टोप्लास्टी क्यों की जाती है - Punctoplasty kyon ki jati hai
  3. पंक्टोप्लास्टी से पहले - Punctoplasty se pehle
  4. पंक्टोप्लास्टी कैसे होती है - Punctoplasty kaise hoti hai
  5. पंक्टोप्लास्टी के बाद देखभाल - Punctoplasty ke baad dekhbhal
  6. पंक्टोप्लास्टी के खतरे - Punctoplasty ke khatre

पंक्टोप्लास्टी एक सर्जिकल प्रक्रिया है, जिसमें पंक्टल स्टेनोसिस (पतला होना) से ग्रस्त लोगों के पंक्टम को ठीक करने के लिए की जाती है ताकि आंख से आंसू ठीक तरह से निकलें।

लैक्रिमल पंक्टम के पतला हो जाने पर पंक्टल स्टेनोसिस होती है।

लैक्रिमल पंक्टम आंख के आंतरिक कोनों में ऊपरी और निचली पलक के पास मौजूद छोटे छेद होते हैं।

हर पंक्टम सूक्ष्मनलिका से जुड़ा होता है जो कि टियर सैक से आंसुओं को निकालने में मदद करता है। दो कैनालिकुली (canaliculi) एक कोण पर झुककर एक सामान्य कैनालिकुलस बनाते हैं, इससे एक छोटा वर्टिकल भाग (वर्टिकल कैनालिकुलस) और एक छोटा क्षैतिज ट्यूब (क्षैतिज कैनालिकुलस) बनता है। सामान्य कैनालिकस लैक्रिम्मल थैली में जाकर खुलता है।

पंक्टम के संकरा हो जाने से पंक्टम अतिरिक्त पानी या आंसुओं को निकाल नहीं पाता है, जिससे आंख में पानी आने जैसी अन्य समस्याएं होने लगती हैं।

आंख के डॉक्टर इस सर्जरी की सलाह पंक्टल स्टेनोसिस की स्थिति में देते हैं, जिसके लक्षण इस तरह से हैं -

  • आंखों में अत्यधिक नमी 
  • आंसू निकल कर गालों पर से बहना
  • आंख में लालिमा या जलन जो कि रुमाल या टिशू पेपर के प्रयोग से हो सकता है

सर्जरी से पहले आपको निम्न तैयारी की जरूरत होगी -

  • डॉक्टर टेस्ट से पहले आपके स्वास्थ्य संबंधी पिछली स्थिति के बारे में पूछेंगे और यदि आपको किसी भी तरह की एलर्जी है या फिर आप कोई भी दवा ले रहे हैं तो इनके बारे में डॉक्टर आपसे पूछ सकते हैं।
     
  • डॉक्टर निम्न टेस्ट करेंगे -
    • शरमर टेस्ट - आंखों में आंसू कितनी मात्रा में बन रहे हैं उसका पता लगाने के लिए
    • विज़ुअल फील्ड टेस्ट - आपकी दृष्टि की जांच करने के लिए (आपको कितना ठीक दिखाई देता है) ऐसा कम रौशनी और अधिक रौशनी दोनों में किया जाएगा।
    • आपकी आंखों की मांसपेशियों की गति और बाइनोक्यूलेरिटी (आपकी आंखों को किसी एक जगह पर केंद्रित करके एक तस्वीर बनाने की क्षमता) की जांच करने के लिए
  • सर्जरी से दस दिन पहले आपको एस्पिरिन जैसी दवाएं लेने से मना किया जाएगा। आपको रक्त को पतला करने वाली दवाओं को लेने से भी मना किया जाएगा 
  • डॉक्टर आपको सर्जरी से पहले धूम्रपान छोड़ने के लिए भी कह सकते है क्योंकि इससे जटिलताओं का खतरा बढ़ जाता है
  • संक्रमण से बचने के लिए डॉक्टर आपको एंटीबायोटिक लेने की सलाह देंगे 
  • सर्जरी के दिन शराब न पिएं
  • सर्जरी से पहले मध्यरात्रि के बाद कुछ भी खाने-पीने से मना किया जाएगा
  • डॉक्टर आपको सर्जरी के लिए अनुमति देने के लिए अनुमति फॉर्म भरने को कहेंगे

पंक्टोप्लास्टी के लिए व्यक्ति को लोकल एनेस्थीसिया दिया जाता है, जिससे ऑपरेशन का स्थान सुन्न हो जाता है, लेकिन आप जगे हुए होंगे। आपको ऑपरेशन टेबल पर लेटने को कहा जाएगा।

डॉक्टर आपकी आंखों और आसपास के ऊतकों को ऑप्थेमेलिक सोल्यूशन से साफ़ करेंगे और एक साफ़ सुथरे ड्रेप से आपके चेहरे को ढका जाएगा।

इसके बाद वे आपकी आंख और आंख के पास वाले स्थान में एनेस्थीसिया लगाएंगे।

इसके बाद निम्न चरणों का पालन करते हुए सर्जरी की जाएगी -

  • वन स्निप प्रक्रिया - सर्जन पंक्टम की दीवार और वर्टीकल कैनालिकुलस के पीछे एक वर्टिकल (ऊपर से नीचे की ओर) चीरा लगाएंगे
  • टू स्निप प्रक्रिया - वन स्निप प्रक्रिया में बने चीरे के साथ सर्जन उसी आकार का एक हॉरिजेंटल चीरा (दाएं से बाएं) कैनालिकुलस पर लगाएंगे
  • ट्राइऐंग्युलर थ्री स्निप प्रक्रिया - टू स्निप प्रक्रिया में बनाए गए दो चीरों के साथ सर्जन दोनों चीरों को मिलाने के लिए एक सीधा चीरा भी लगाएंगे और एक ऊतक को निकाल दिया जाएगा
  • रेक्टैंग्युलर थ्री स्निप प्रक्रिया - सर्जन पंक्टम की पीछे की दीवार और वर्टिकल कैनालिकुलस पर डॉक्टर दो ऊर्ध्वाधर चीरे लगाएंगे और वर्टिकल चीरों को जोड़ने के लिए एक क्षैतिज चीरा लगााया जाएगा, जिससे एक चौड़े आकार का ऊतक निकाल लिया जाएगा

ऑपरेशन के बाद निगरानी के लिए आपको रिकवरी रूम में भेज दिया जाएगा।

आपको घर पर निम्न तरह से देखभाल करनी चाहिए -

  • आपको सर्जरी के बाद लगभग 24 घंटे आराम करने के लिए कहा जाएगा
  • डॉक्टर परेशानियों को कम करने में मदद करने के लिए दर्दनिवारक दवाओं की सलाह दे सकते हैं। आप आइस पैक का उपयोग भी कर सकते हैं
  • कुछ समय के लिए ड्राइव न करें
  • झुकने, तैराकी, जोरदार अभ्यास करने या सर्जरी के बाद किसी भी भारी सामान को उठाने से बचें
  • अपनी आंख को किसी भी चोट से बचाने के लिए आई शील्ड या चश्मा पहनें
  • सर्जरी के बाद कुछ हफ्तों तक कोई भी आई मेकअप न लगाएं
  • डॉक्टर दर्द, संक्रमण या सूजन को रोकने के लिए कुछ हफ्तों तक कुछ आई ड्रॉप्स का उपयोग करने की सलाह दे सकते हैं

पंक्टोप्लास्टी एक प्रक्रिया है जो आंसू के जल निकासी में सुधार करने में मदद करती है

डॉक्टर के पास कब जाएं?

यदि आपको निम्न में से कोई भी लक्षण महसूस होते हैं तो डॉक्टर को सूचित करें -

इस सर्जरी में निम्न तरह की जटिलताएं हो सकती हैं -

  • यदि सर्जरी काफी बड़ी थी तो इससे लैक्रिमल पंप (आंख में मौजूद एक सिस्टम जिससे आंसुओं को साफ़ किया जाता है) ठीक तरह से कार्य करना बंद कर सकता है।
  • प्रक्रिया के फेल हो जाने के कारण केनेलिक्यूलर स्टेनोसिस का ठीक न हो पाना
  • सूजन जिसके कारण बार-बार स्टेनोसिस होता है 

संदर्भ

  1. Port AD, Chen YT, Lelli GJ Jr. Histopathologic changes in punctal stenosis. Ophthalmic Plast Reconstr Surg. 2013;29(3):201-204. PMID: 23552606.
  2. Edelstein JP, Reiss G. Introducing the Reiss punctal punch. Arch Ophthalmol. 1991;109(9):1310. PMID: 1929963.
  3. Kristan RW. Treatment of lacrimal punctal stenosis with a one-snip canaliculotomy and temporary punctal plugs. Arch Ophthalmol. 1988;106(7):878-879. PMID: 3390040.
  4. Kim SE, Lee SJ, Lee SY, Yoon JS. Outcomes of 4-snip punctoplasty for severe punctal stenosis: measurement of tear meniscus height by optical coherence tomography. Am J Ophthalmol. 2012;153(4):769-773.e7732. PMID: 22264691.
  5. Murdock J, Lee WW, Zatezalo CC, Ballin A. Three-Snip Punctoplasty Outcome Rates and Follow-Up Treatments. Orbit. 2015;34(3):160-163. PMID: 25906237.
  6. Lam S, Tessler HH. Mitomycin as adjunct therapy in correcting iatrogenic punctal stenosis. Ophthalmic Surg. 1993;24(2):123-124. PMID: 8446348.
  7. Edelstein J, Reiss G. The wedge punctoplasty for treatment of punctal stenosis. Ophthalmic Surg. 1992;23(12):818-821. PMID: 1494436.
  8. Chalvatzis NT, Tzamalis AK, Mavrikakis I, Tsinopoulos I, Dimitrakos S. Self-retaining bicanaliculus stents as an adjunct to 3-snip punctoplasty in management of upper lacrimal duct stenosis: a comparison to standard 3-snip procedure. Ophthalmic Plast Reconstr Surg. 2013;29(2):123-127. PMID: 23392314.
  9. Chak M, Irvine F. Rectangular 3-snip punctoplasty outcomes: preservation of the lacrimal pump in punctoplasty surgery. Ophthalmic Plast Reconstr Surg. 2009;25(2):134-135. PMID: 19300158.
  10. Ma'luf RN, Hamush NG, Awwad ST, Noureddin BN. Mitomycin C as adjunct therapy in correcting punctal stenosis. Ophthalmic Plast Reconstr Surg. 2002;18(4):285-288. PMID: 12142762.
  11. Jones LT. The cure of epiphora due to canalicular disorders, trauma and surgical failures on the lacrimal passages. Trans Am Acad Ophthalmol Otolaryngol. 1962;66:506-524. PMID: 14452301.
  12. Kashkouli MB, Beigi B, Astbury N. Acquired external punctal stenosis: surgical management and long-term follow-up. Orbit. 2005;24(2):73-78. PMID: 16191791.
  13. Shahid H, Sandhu A, Keenan T, Pearson A. Factors affecting outcome of punctoplasty surgery: a review of 205 cases. Br J Ophthalmol. 2008;92(12):1689-1692. PMID: 18786958.
  14. Hughes WL, Maris CS. A clip procedure for stenosis and eversion of the lacrimal punctum. Trans Am Acad Ophthalmol Otolaryngol. 1967;71(4):653-655. PMID: 6059676.
  15. Offutt WN 4th, Cowen DE. Stenotic puncta: microsurgical punctoplasty. Ophthalmic Plast Reconstr Surg. 1993;9(3):201-205. PMID: 8217962.
  16. Carrim ZI, Liolios VI, Vize CJ. Punctoplasty with a Kelly punch. Ophthalmic Plast Reconstr Surg. 2011;27(5):397-398. PMID: 21904183.
  17. Caesar RH, McNab AA. A brief history of punctoplasty: the 3-snip revisited. Eye (Lond). 2005;19(1):16-18. PMID: 15184956.
  18. American Academy of Ophthalmology [internet]. California. US; Punctal stenosis
  19. American Society of Anesthesiologists [Internet]. Washington D.C. US; Smoking
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ