• हिं
सर्जरी की जानकारी के लिए फॉर्म भरें।
हम 48 घंटों के भीतर आपसे संपर्क करेंगे।

चर्म-अपघर्षण यानि डर्माब्रेशन एक स्किन रीसरफेसिंग प्रक्रिया है जिसमें एक हाई स्‍पीड वाले रोटेटिंग टूल की मदद से स्किन की बाहरी परत के झुर्री वाले या स्‍कार वाले हिस्‍से को हटाया जाता है। ये डिवाइस चोट लगी या छिली हुई डैमेज स्किन को हटाकर उसकी जगह नई और हेल्‍दी स्किन लाने का काम करता है।

त्‍वचा के किसी भी हिस्‍से पर डर्माब्रेशन किया जा सकता है। हालांकि, यह चेहरे (छोटा-सा पैच या पूरे चेहरे) पर ज्‍यादा होता है। इस प्रक्रिया में कुछ मिनट से लेकर 90 मिनट से ज्‍यादा समय लग सकता है। उसी दिन आप घर जा सकते हैं।

7 से 10 दिनों के अंदर ट्रीटमेंट ली गई स्किन पर एक नई, हेल्‍दी और मुलायम स्किन की परत आ जाती है। आप प्रक्रिया के दो हफ्ते बाद काम पर लौट सकते हैं। इस प्रक्रिया के बाद धूप में जाने से बचें क्‍योंकि इससे स्किन के ठीक होने में दिक्‍कत आ सकती है।

(और पढ़ें - लिप ऑग्मेंटेशन सर्जरी)

  1. चर्म-अपघर्षण क्या है - What is Dermabrasion in Hindi
  2. चर्म-अपघर्षण क्यों की जाती है - Why Dermabrasion is done in Hindi
  3. चर्म-अपघर्षण कब नहीं करवानी चाहिए - When Dermabrasion is not done in Hindi
  4. डर्माब्रेशन से पहले की तैयारी - Preparations before Dermabrasion in Hindi
  5. चर्म-अपघर्षण कैसे की जाती है - How Dermabrasion is done in Hindi
  6. डर्माब्रेशन के बाद देखभाल - Dermabrasion after care in Hindi
  7. चर्म-अपघर्षण की जटिलताएं - Dermabrasion Complications in Hindi
चर्म-अपघर्षण के डॉक्टर

डर्माब्रेशन एक स्किन रीसरफेसिंग प्रक्रिया है जिसमें नई, हेल्‍दी और मुलायम त्‍वचा को लाने के लिए स्किन की डैमेज हुई बाहरी परत को निकाला जाता है।

इस प्रक्रिया से झुर्रियां ठीक होती हैं, पहले किसी सर्जरी या एक्‍सीडेंट का निशान कम होता है और कुछ मामलों में पहले हुए कैंसर की ग्रोथ को भी निकाला जाता है। आमतौर पर यह प्रक्रिया चेहरे के छोटे से हिस्‍से या पूरे चेहरे पर होती है।

डर्माब्रेशन में हाई स्‍पीट रोटेटिंग टूल का इस्‍तेमाल किया जाता है जिसका रफ वायर ब्रश या सिरे पर व्‍हील के साथ डायमंड पार्टिकल लगे होते हैं। ये डिवाइस आराम से डैमेज स्किन पर तब तक मूव करता है, जब तक कि झुर्री या निशान हल्‍का न हो जाए।

डर्माप्‍लानिंग भी इसी तरह की प्रक्रिया है जिसमें डर्माटोम नाम के उपकरण का इस्‍तेमाल किया जाता है। डर्माटोम में इलेक्ट्रिक लेजर की तरह ही ओसिलेटिंग ब्‍लेड होता है। ये ब्‍लेड स्किन की परत को हटाने के लिए ऊपर-नीचे घूमता है। इससे एक्‍ने के गहरे दाग को भी ठीक किया जा सकता है।

हालांकि, यह प्रक्रिया एजिंग से नहीं बचाती और न ही स्किन की कमियों और स्‍कार को हटाती है। इससे स्किन मुलायम दिखती है। डर्माब्रेशन और डर्माप्‍लानिंग अलग या किसी अन्‍य ट्रीटमेंट जैसे कि केमिकल पील या फेसलिफ्ट के साथ हो सकती है।

(और पढ़ें - नेक लिफ्ट सर्जरी)

निम्‍न स्थितियों में स्किन को रिपेयर और ठीक करने के लिए इस प्रक्रिया की सलाह दी जाती है :

  • झुर्रियों
  • उम्र बढ़ने के निशानस्किन पर बेरंग या गहरे पैचेज
  • टैटू
  • रोजेशिया की वजह से नाक का बढ़ना
  • उम्र संबंधी स्किन ग्रोथ
  • धूप की वजह से स्किन खराब होना
  • पहले हुए कैंसर की वजह से ग्रोथ
  • पूर्व में हुई किसी सर्जरी, एक्‍ने, चिकनपॉक्‍स या एक्‍सीडेंट की वजह से स्‍कार बनना।
  • गैर-कैंसरकारी ट्यूमर

डर्माब्रेशन निम्‍न स्थितियों में नहीं की जाती है :

  • हर्पीस सिंप्‍लेक्‍स वायरस इंफेक्‍शन चल रहा हो।
  • एक्‍ने हो (इसमें सावधानी के साथ प्रक्रिया की जा सकती है)।
  • फिलहाल या पिछले 6 महीनों में आइसोट्रेटिनोन से ट्रीटमेंट ली हो।
  • बहुत ज्‍यादा ठंड लगना।
  • हाइपरट्रोफिक या केलोइड स्‍कार रहा हो।
  • हाल ही में ब्रो लिफ्ट या फेस लिफ्ट करवाया हो।
  • खून, स्किन या इम्‍यून सिस्‍टम में कोई प्रॉब्‍लम हो जिससे स्किन के ठीक होने की प्रक्रिया पर असर पड़ सके।

जिन लोगों की स्किन गहरे रंग की होती है (टाइप 3 या इससे ऊपर), उनमें इस प्रक्रिया के बाद डार्क पैचेज बनने का खतरा ज्‍यादा रहता है इसलिए हो सकता है कि सर्जन इन पर इस प्रक्रिया के लिए मना कर दें। डर्माब्रेशन तिल, जन्‍म का निशान या जलने के निशानों पर फायदा नहीं करती है।

(और पढ़ें - लेजर रिसर्फेसिंग सर्जरी)

प्रक्रिया से पहले कंसल्‍टेशन के कुछ दिन पहले आपको अस्‍पताल जाना होगा। इस दौरान डॉक्‍टर निम्‍न चीजें पूछेंगे :

  • फिलहाल कोई हेल्‍थ प्रॉब्‍लम है
  • कोई ट्रीटमेंट चल रही है या किसी दवा से एलर्जी है
  • पहले कोई एलर्जी रही है
  • विटामिन और जड़ी बूटियों समेत कोई दवा ले रहे हैं
  • तंबाकू वाली चीजों और एल्‍कोहल का सेवन कर रहे हैं

आपके स्‍वास्‍थ्‍य के बारे में जानने के बाद डॉक्‍टर रिकॉर्ड के लिए उस हिस्‍से की फोटो लेंगे, जहां प्रक्रिया होनी है। इस प्रक्रिया के लिए निम्‍न निर्देश दिए जाएंगे :

  • प्रक्रिया से पहले खून के थक्‍के बनाने की क्षमता को प्रभावित करने वाली दवा जैसे कि एस्प्रिन लेना बंद कर दें।
  • प्रक्रिया से एक से दो हफ्ते पहले सिगरेट पीना बंद कर दें।
  • घर ले जाने के लिए कोई दोस्‍त या रिश्‍तेदार हो।
  • आपको किस तरह का एनेस्‍थीसिया दिया जाएगा, इस बात पर निर्भ करता है कि आपको प्रक्रिया से कितने घंटे पहले से कुछ भी खाना-पीना बंद करना है। इससे प्रक्रिया के दौरान जनरल एनेस्‍थीसिया की वजह से उल्‍टी नहीं होती है।
  • प्रक्रिया के कुछ दिन बाद तक धूप में न निकलें क्‍योंकि इससे डर्माब्रेशन के बाद स्किन हमेशा के लिए बेरंग हो सकती है।
  • प्रक्रिया से पहले अनु‍मति के लिए एक फॉर्म साइन करवाया जाएगा।

अस्‍पताल पहुंचने के बाद आपको हॉस्‍पीटल गाउन पहनाई जाएगी। फिर निम्‍न तरीके से यह प्रक्रिया की जाएगी :

  • तैयारी : जहां प्रक्रिया होनी है, उसे सर्जन एंटीसेप्टिक क्‍लींजिंग एजेंट से साफ करेंगे और निशान लगाएंगे।
  • एनेस्‍थीसिया : प्रक्रिया के दौरान दर्द से बचाने के लिए निम्‍न तरीके से एनेस्‍थीसिया दिया जाएगा :
    • सुस्‍त करने के लिए सिडेटिव और उस हिस्‍से को सुन्‍न करने के लिए लोकल एनेस्‍थीसिया।
    • लोकल एनेस्‍थीसिया के साथ या इसके बिना उस हिस्‍से को जमाने के लिए नंबिंग स्‍प्रे।
    • जनरल एनेस्‍थीसिया (प्रक्रिया के दौरान बेहोश करने के लिए)
  • स्किन को सुन्‍न करने के बाद सर्जल डर्माब्रेशन टूल को स्किन की ऊपर परत को हटाने के लिए चलाएंगे।
  • यह प्रक्रिया तब तक चलती रहेगी, जब तक कि स्किन पर जो प्रॉब्‍लम है वो कम दिखने न लगे।
  • इसके बाद सर्जन डर्माब्रेशन वाले हिस्‍से को गीली पट्टी या ऑइंटमेंट से ढक देंगे ताकि स्किन ठीक हो सके।
  • अगर प्रक्रिया के दौरान जनरल एनेस्‍थीसिया दिया गया था तो आपको होश में आने पर बेसुध या बेचैनी और गले में सूखापन या गले में खराश महसूस हो सकती है।
  • आमतौर पर प्रक्रिया वाले दिन ही अस्‍पताल से छुट्टी मिल जाती है। हालांकि, स्किन को मॉनिटर करने के लिए सर्जन आपको एक रात रूकने के लिए कह सकते हैं।

(और पढ़ें - फेसलिफ्ट सर्जरी)

प्रक्रिया के बाद ट्रीट की गई स्किन से खून आ सकता है। स्किन धीरे-धीरे ठीक हो जाएगी। प्रक्रिया के बाद निम्‍न चीजें महसूस हो सकती हैं :

  • स्किन का लाल या सूजा हुआ होना
  • दर्द
  • जलन या सनसनाहट महसूस होना
  • खाते या बोलते समय दिक्‍कत होना
  • चेहरे पर खुजली

घर पर स्किन की देखभाल के लिए निम्‍न निर्देश दिए जाएंगे :

  • दर्द से राहत पाने के लिए सर्जन दवा देंगे और इंफेक्‍शन से बचाने के लिए एंटीबायोटिक और एंटीवायरल दवाएं दी जाएंगी।
  • स्किन के ठीक होने के दौरान इस हिस्‍से को गीला रखें। पट्टी कैसे बदलनी है, ये आपको सर्जन बता देंगे।
  • ठीक होते समय स्किन पर पपड़ी आ सकती है। इसे साफ करते रहें और इंफेक्‍शन से बचें।
  • जब तक स्किन पूरी तरह से ठीक नहीं हाे जाती, तब तक शेविंग न करें। पहली बार इलेक्ट्रिक रेजर से शेविंग कर सकते हैं।
  • रिकवरी के दौरान सीधा धूप में न जाएं। ठीक होने के बाद भी धूप में कम निकलें और तीन महीने तक सनस्‍क्रीन लगाएं।
  • चार हफ्ते तक स्किन पर क्‍लोराइन वाला पानी न डालें।
  • चार से छह हफ्ते तक स्‍पोर्ट्स या मुश्किल काम न करें।
  • एक से दो हफ्ते तक सिगरेट न पिएं। इससे नई स्किन पर खून का प्रवाह प्रभावित हो सकता है और हीलिंग देरी से हो सकती है।
  • दो हफ्ते तक ऐसा कोई काम न करें जिसमें चोट लगने का डर हो या जो चेहरे को प्रभावित करे।
  • तीन से चार हफ्तों तक शराब न पिएं क्‍योंकि इससे चेहरे पर लालिमा हो सकती है।

एक हफ्ते में सूजन चली जाएगी। स्किन को ठीक होने में 7 से 10 दिन लग सकते हैं। सूजन के जाने के बाद ही आपको ट्रीटमेंट का रिजल्‍ट दिखेगा। नई स्किन तीन महीने तक गुलाबी रहेगी।

आप इस दौरान इस नॉन-एलर्जेनिक मेकअप लगा सकते हैं। जब ये गुलाबी रंग चला जाएगा तो यह स्किन भी आसपास की त्‍वचा की तरह हो जाएगी। नई स्किन हेल्‍दी और मुलायम होगी।

डॉक्‍टर को कब दिखाएं?

अस्‍पताल से निकलने के बाद निम्‍न लक्षण दिख रहे हैं, तो तुरंत अपने डॉक्‍टर को बताएं :

  • बुखार
  • ठंड लगना
  • लगातार स्किन लाल रहना
  • दर्द बढ़ना
  • दवा लेने के बावजूद दर्द होना
  • पीले रंग की पपड़ी बनना
  • प्रभावित जगह से स्राव या ब्‍लीडिंग ज्‍यादा होना
  • लंबे समय तक स्किन का बेरंग होना

इस प्रक्रिया से निम्‍न जटिलताएं और जोखिम जुड़े हैं :

  • प्रक्रिया के बाद धूप में निकलने की वजह से स्किन का हमेशा के लिए बेरंग होना।
  • कुछ समय के लिए स्किन के पोर्स का बढ़ना।
  • खून के थक्‍के बनना
  • सांस लेने में दिक्‍कत
  • प्रभावित स्किन पर अस्‍थायी रूप से छोटे व्‍हाइटहेड्स होना।
  • एनेस्‍थीसिया या अन्‍य दवा से एलर्जी होना।
  • इंफेक्‍शन
  • स्‍कार टिश्‍यू बहुत ज्‍यादा होना

फॉलो अप के लिए डॉक्‍टर के पास कब जाएं?

सर्जन आपको बताएंगे कि अस्‍पताल से छुट्टी मिलने के बाद चेकअप के लिए आपको कब आना है। आपको फॉलो अप के लिए आते रहना होगा क्‍योंकि इससे सर्जन ठीक हो रही स्किन को चेक कर पाएंगे।

नोट : ऊपर दी गई संपूर्ण जानकारी शैक्षिक दृष्टिकोण से दी गई है और यह डॉक्‍टरी सलाह का विकल्‍प नहीं है।

(और पढ़ें - प्लास्टिक सर्जरी)

Dr. Raajshri Gupta

Dr. Raajshri Gupta

प्लास्टिक, कॉस्मेटिक और पुनर्निर्माण सर्जन
8 वर्षों का अनुभव

Dr. debraj shome

Dr. debraj shome

प्लास्टिक, कॉस्मेटिक और पुनर्निर्माण सर्जन
9 वर्षों का अनुभव

Dr. Chandan Sahu

Dr. Chandan Sahu

प्लास्टिक, कॉस्मेटिक और पुनर्निर्माण सर्जन
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Navdeep

Dr. Navdeep

प्लास्टिक, कॉस्मेटिक और पुनर्निर्माण सर्जन
11 वर्षों का अनुभव

संदर्भ

  1. Michigan Medicine [internet]. University of Michigan. US; Dermabrasion
  2. Beth Israel Lahey Health: Winchester Hospital [Internet]. Winchester. Maryland. US; Dermabrasion
  3. American Society of Plastic Surgeons [Internet]. Illinois. US; Dermabrasion
  4. American Society of Plastic Surgeons [Internet]. Illinois. US; Dermabrasion
  5. Johns Hopkins Medicine [Internet]. The Johns Hopkins University, The Johns Hopkins Hospital, and Johns Hopkins Health System; Dermabrasion and Dermaplaning
  6. Cleveland Clinic [Internet]. Ohio. US; Age Spots
  7. Mount Sinai [Internet]. Icahn School of Medicine. New York. US; Dermabrasion
  8. Bedford L, Daveluy S. Skin Resurfacing Dermabrasion. [Updated 2020 Jul 31]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2020 Jan
  9. National Health Service [Internet]. UK; Having an operation (surgery)
  10. Hernandez A, Sherwood ER. Anesthesiology principles, pain management, and conscious sedation. In: Townsend CM Jr, Beauchamp RD, Evers BM, Mattox KL, eds. Sabiston Textbook of Surgery. 20th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2017:chap 14.
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ