• हिं
सर्जरी की जानकारी के लिए फॉर्म भरें।
हम 48 घंटों के भीतर आपसे संपर्क करेंगे।

क्रेनियोटोमी खोपड़ी के एक हिस्से हड्डी प्रालम्ब या बोन फ्लैप को निकालने के लिए किया जाता है जो कि ब्रेन सर्जरी के लिए निकालना जरूरी होता है। बोन फ्लैप आपके भौहों के हिस्से, आंखों के भाग, गाल. बाल की तरफ से या फिर कान के पास से निकाली जा सकती है। कम्प्यूटेड टोमोग्राफी, मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (एमआरआई) या एंडोस्कोप की मदद से ठीक किए जाने वाले हिस्से को पहचाना जाता है। सर्जरी के बाद बोन फ्लैप को वापस से लगाया जा सकता है। हालांकि, कभी-कभी बोन फ्लैप को स्थायी रूप से निकाल दिया जाता है।

सर्जरी से पहले डॉक्टर एक शारीरिक परीक्षण करेंगे और कुछ परीक्षणात्मक टेस्ट करने को कहेंगे ताकि यह देखा जा सके कि आप सर्जरी के लिए स्वस्थ हैं। ऑपेरशन के लिए आपको सेडेटिव और एनेस्थीसिया दिया जा सकता है। सर्जरी के बाद चीरा लगे स्थान को साफ और सूखा रखा जाता है। कोशिश करें कि सिर पर बिल्कुल भी दबाव न पड़े। सर्जरी के कुछ हफ्तों बाद तक कमर को न झुकाएं और भारी सामान न उठाएं।

क्रेनियोटोमी से मस्तिष्क संबंधी विकारों के लक्षणों को ठीक करने में मदद मिलती है।

  1. क्रेनियोटोमी की जटिलताएं - Craniotomy me jatiltaye
  2. क्रेनियोटोमी क्या होता है? - Craniotomy kya hai in hindi
  3. क्रेनियोटोमी क्यों की जाती है? - Craniotomy kab kiya jata hai?
  4. क्रेनियोटोमी होने से पहले की तैयारी - Craniotomy ki taiyari
  5. क्रेनियोटोमी कैसे किया जाता है? - Craniotomy kaise hota hai
  6. क्रेनियोटोमी के बाद देखभाल - Craniotomy hone ke baad dekhbhal

मस्तिष्क की सूजन और मस्तिष्क में तरल पदार्थ का अवधारण, करेनियोटॉमी से संबंधित सबसे आम जटिलताएं हैं। सर्जरी की वजह से मस्तिष्क के आसपास सेरेब्रल द्रव का रिसाव भी एक संभावना है और साथ ही दबाव भी पड़ सकता है।

सर्जरी में लापरवाही के कारण मस्तिष्क में नसों और ऊतकों को अनजाने में क्षति पहुंच सकती हैं। इससे काफी गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हो सकती हैं, जैसे कि सुनने में परेशानी, दृष्टि की हानि, सूंघने की क्षमता की हानि, संवेदनहीनता, लकवा, मिर्गी आदि जैसे मस्तिष्क कार्य। ब्रेन फंक्शन की समस्याएं, बोलने में दिक्कत, व्यवहार संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं।

क्रैनियोटमी एक मस्तिष्क सर्जरी का प्रकार है इसमें खोपड़ी की हड्डियों को सर्जरी द्वारा हटाया जाता है ताकि मस्तिष्क ट्यूमर की उपस्थिति का निर्धारण करने में डॉक्टर को मदद मिल सके। इस प्रकार मस्तिष्क को स्पष्ट देखा जा सकता है और सर्जरी करने में सहायता होती है।

क्रेनियोटोमी की जरूरत कुछ विशेष स्थितियों में होती है। उनमें से कुछ स्थितियां हैं -

ब्रेन एन्यरिस्म (मस्तिष्क की किसी रक्त वाहिका का फूल जाना)

  • पलकों का झुकना
  • दिखाई न देना या हर चीज़ दो दिखना
  • उलझन
  • दौरे
  • गर्दन में अकड़न
  • आंखों में और आंखों के पीछे दर्द
  • तीव्र सरदर्द
  • उल्टी या जी मिचलाना
  • आंखों की पुतली का अस्थिर होना

ब्रेन ट्यूमर

  • सुनाई न देना
  • उल्टियां
  • किसी बात को समझने में समस्या
  • सरदर्द जो खांसने, व्यायाम करने और अलग तरह से उठने-बैठने पर अधिक बढ़ जाए
  • याददाश्त जाना
  • बोलने में तकलीफ
  • व्यवहार में बदलाव
  • पैर या बांह में संवेदना महसूस न होना

हाइड्रोकेफेलस (मस्तिष्क के खाली हिस्सों में द्रव जम जाना)

  • भूख की कमी
  • आंखों का झुका रहना
  • थकान
  • उल्टियां
  • सर्जरी से पहले आपको एक अनुमति फॉर्म भरवाया जाएगा। जिससे आप डॉक्टर को सर्जरी और एनेस्थीसिया की अनुमति देंगे
  • डॉक्टर एक शारीरिक परीक्षण करेंगे, जिसमें ब्लड टेस्ट और परीक्षणात्मक टेस्ट करवाए जाएंगे, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आप सर्जरी के लिए स्वस्थ हैं 
  • सर्जरी के बाद न्यूरोलॉजिकल परीक्षण किया जाएगा
  • यदि आपको निम्न में से कोई भी स्थिति है तो इसके बारे में डॉक्टर को जानकारी दें -
    • यदि आप गर्भवती हैं
    • यदि आपको टेप, लेटेक्स, दवाओं या एनेस्थिसिया से एलर्जी है
    • यदि आपको रक्त संबंधी विकार है
    • यदि आप किसी भी तरह की दवाएं ले रहे हैं
  • यदि आप धूम्रपान कर रहे हैं तो डॉक्टर आपको इससे छोड़ने की सलाह देंगे, ताकि आप सर्जरी से जल्दी ठीक हो सकें
  • सर्जरी के लिए भूखा रहना भी जरूरी है। डॉक्टर आपको इस बारे में बता देंगे कि आपको कितनी देर तक भूखे रहना है
  • आपको सर्जरी से पहले रिलैक्स महसूस करवाने के लिए सिडेटिव दिए जा सकते हैं
  • सर्जरी से पहले की रात को आपको एंटीसेप्टिक शैम्पू से बाल धोने को कहा जाएगा

सर्जरी शुरू करने के लिए, जनरल एनेस्थेसिया दिया जाता है। आपको ऑपरेशन टेबल पर इस तरह लिटाया जाता है कि एक विशेष 3 पिन डिवाइस सर्जरी के दौरान उचित स्थिति में खोपड़ी को रख/ पकड़ सके। 

सर्जरी के दौरान रीढ़ की हड्डी के द्रव को हटाने के उद्देश्य से आपके मस्तिष्क के  निचले हिस्से में एक नली डाली जाती है। इसके बाद खोपड़ी को ऑपरेशन के लिए साफ किया जाता है।

चीरा कहां लगाया जाएगा ये चोट/ समस्या के स्थान पर निर्भर करता है। खोपड़ी को मस्तिष्क तक पहुंचने के लिए काटा जाता है और इससे रक्त के नुकसान को भी सीमित किया जा सकता है। खोपड़ी पर छोटे छेद करने के लिए सर्जिकल ड्रिल का उपयोग किया जाता है। सर्जिकल आरि की मदद से हड्डी प्रालंब (bone flap) काटा जाता है। इस प्रकार निर्मित प्रालंब सर्जन को मस्तिष्क के ऊतकों को देखने में सहायता देता है।

इंट्राकैनायल दबाव (खोपड़ी के अंदर का दबाव) एक विशेष उपकरण का उपयोग करके मापा जाता है। सर्जन फिर मस्तिष्क के ऊतकों को सी देता है। प्रालंब को तारों और पेचों की सहायता से अपने मूल स्थान पर वापस लाया जाता है। सर्जरी के दौरान रक्तचाप, नाड़ी और शरीर के तापमान की लगातार निगरानी की जाती है।

  1. प्रक्रिया के तुरंत बाद, आपकी हालत के आधार पर आपको रिकवरी रूम या आईसीयू में भेजा जाएगा। जब तक आप सचेत नहीं होते और एनेस्थेसिया का प्रभाव खत्म नहीं होता, तब तक सांस का रेस्पिरेटरी सप्पोर्ट का इस्तेमाल किया जाता है।
  2. जब आपकी हालत स्थिर हो जाएगी तो आपको सामान्य कक्ष में स्थानांतरित कर दिया जाएगा और  लगातार आपकी निगरानी की जाएगी।
  3. आपके अस्पताल में रहने के दौरान आपके नर्वस सिस्टम के परिवर्तन और कार्यकाज का आकलन करने के लिए कुछ परीक्षण नियमित अंतराल पर किए जाएंगे।
  4. मूत्र इकट्ठा करने और निकालने के लिए मूत्राशय में एक मूत्र कैथेटर लगाया जाएगा। एक फिजियोथेरेपिस्ट आपको गहरी सांस लेने के व्यायाम सिखाएगा। आपकी गतिशीलता और स्ट्रेंथ को बढ़ाने के लिए कुछ अन्य व्यायाम भी सिखाए जाएंगे।
  5. संपीड़न (कंप्रैशन) उपकरणों को पैरों पर रखा जाएगा, ताकि वे रक्त के थक्कों के गठन को रोक सकें
  6. सर्जरी के दौरान लगाए गए स्यूचर्स को निकालने के लिए आपको एक सप्ताह में वापिस अस्पताल आना होगा।

सर्जरी के बाद क्या करें और क्या न करें 

  1. खोपड़ी पर लगे चीरों के ठीक होने के बाद, वहां बाल फिर से बढ़ने लगेंगे उसके बाद आप अपने सामान्य बाल उत्पादों का उपयोग शुरू कर सकते हैं। 
  2. दौरों को रोकने के लिए दवाएं निर्धारित की जाएंगी। उन्हें निर्धारित रूप से लें और चिकित्सक से परामर्श किए बिना किसी भी दवाई को लेना बंद न करें।
  3. आप उच्च फाइबर और तरल पदार्थ समृद्ध आहार लें, हाईडोज दवाओं के कारण कब्ज़ हो सकती है। इस तरह का आहार पाचन तंत्र को ठीक से काम में रखने में मदद करता है।
  4. नियमित अंतराल पर चलना-फिरना महत्वपूर्ण है। यदि आप ऐसा महसूस करते हैं कि ऐसा करते समय आप संतुलन खो देंगे तो आपको वॉकिंग में मदद करने वाले उपकरणों का उपयोग करना चाहिए
  5. सिर की हड्डियां ठीक होने के लिए कम से कम एक साल लेती हैं। इसलिए उस अवधि में, किसी भी ऐसे गतिविधि या खेल से बचें जो आपके सिर पर तनाव या ज़ोर डाल सकती है।
  6. आप एक महीने की आराम अवधि के बाद काम पर वापस लौट सकते हैं।
  7. अगर चीरा साइट पर सूजन के लक्षण दिखते हैं, तो सूजन को कम करने के लिए एक कपड़े में लिपटे आइस पैक का उपयोग करें।     
  8. यदि आपको तेज बुखार, दृष्टि परिवर्तन, असंतुलन, बोलने की समस्याएं, लगातार सिरदर्द, खोपड़ी में सूजन का अनुभव होता है जो दवा लेने पर भी कम नहीं होता है, तो जल्द ही अपने चिकित्सक से संपर्क करें।
  9. जब तक डॉक्टर आपको ड्राइव करने की अनुमति नहीं देता तब तक ड्राइविंग न करें। इसके अलावा, बगीचे में काम, घर के काम, कपडे धोने आदि न करें जब तक आपका चिकित्सक अनुमति नहीं देता।
  10. अपनी क्षमता से अधिक काम न करें। 

संदर्भ

  1. University of Rochester Medical Center [Internet]. Rochester (NY): University of Rochester Medical Center; Craniotomy
  2. Oncolink [Internet]. Philadelphia: Trustees of the University of Pennsylvania; c2018. Surgical Procedures: Craniotomy
  3. John Hopkins All Children's Hospital [Internet]. Johns Hopkins Medicine. The Johns Hopkins University, The Johns Hopkins Hospital, and Johns Hopkins Health System; Craniotomy
  4. Brain Aneurysm Foundation [Internet]. Massachusetts. US; Brain Aneurysm Basics
  5. Zaky W, Ater JL, Khatua S. Brain tumors in childhood. In: Kliegman RM, St. Geme JW, Blum NJ, Shah SS, Tasker RC, Wilson KM, eds. Nelson Textbook of Pediatrics. 21st ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2020:chap 524.
  6. Kieran MW, Chi SN, Manley PE, et al. Tumors of the brain and spinal cord. In: Orkin SH, Fisher DE, Ginsburg D, Look AT, Lux SE, Nathan DG, eds. Nathan and Oski's Hematology and Oncology of Infancy and Childhood. 8th ed. Philadelphia, PA: Elsevier Saunders; 2015:chap 57.
  7. National Cancer Institute [Internet]. Bethesda (MD): U.S. Department of Health and Human Services; Childhood Brain and Spinal Cord Tumors Treatment Overview (PDQ®)–Health Professional Version
  8. Nemours Children’s Health System [Internet]. Jacksonville (FL): The Nemours Foundation; c2017; Hydrocephalus
  9. Winn H Richard. Youmans Neurological Surgery. 6th Ed. Philadelphia: Elsevier; 2011.
  10. Sawyer MM. Postanesthetic care. In: Duke JC, Keech BM, eds. Anesthesia Secrets. 5th ed. Philadelphia, PA: Elsevier Saunders; 2016:chap 28.
  11. Ortega-Barnett J, Mohanty A, Desai SK, Patterson JT. Neurosurgery. In: Townsend CM Jr, Beauchamp RD, Evers BM, Mattox KL, eds. Sabiston Textbook of Surgery: The Biological Basis of Modern Surgical Practice. 20th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2017:chap 67.
  12. University Hospital Southampton [Internet]. NHS Foundation Trust. National Health Service. U.K. Craniotomy
  13. Children's Health Queensland Hospital and Health Service [Internet]. Queensland Government. Australia; What is a craniotomy?
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ