• हिं
सर्जरी की जानकारी के लिए फॉर्म भरें।
हम 48 घंटों के भीतर आपसे संपर्क करेंगे।

ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन एक विशेष सर्जरी प्रोसीजर है, जिसका उपयोग सेंट्रल लंग ट्यूमर का इलाज करने के लिए किया जाता है। इस सर्जरी को आमतौर पर तब किया जाता है, जब ट्यूमर फेफड़ों से पल्मोनरी आर्टरी में फैल जाता है। सर्जरी के दौरान सर्जन ब्रोंकस, ऊपरी लोब और फेफड़ों के ट्यूमर से प्रभावित हिस्से को निकाल देते हैं और ब्रोंकस व आर्टरी के अलग-अलग हुए हिस्सों को फिर से जोड़ दिया जाता है। सर्जरी के से पहले डॉक्टर आपको कुछ विशेष टेस्ट करवाने को कहते हैं, जिसमें मुख्य रूप से लैब टेस्ट, सीटी स्कैन, फाइब्रोऑप्टिक ब्रोंकोस्कोपी और एक्स रे आदि शामिल हैं। यह सर्जरी जनरल एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगाकर की जाती है, जिसकी मदद से आप ऑपरेशन के दौरान गहरी नींद में सोते रहते हैं और आपको कुछ महसूस नहीं होता है।

सर्जरी के बाद आपको कम से कम 10 दिन तक अस्पताल में भर्ती रहना पड़ सकता है। ऑपरेशन के बाद आपको कुछ विशेष दवाएं दी जाती हैं, जिन्हें समय पर लेते रहने की सलाह दी जाती है। आपको दो से छह हफ्तों के बाद फिर से अस्पताल बुलाया जाता है, जिस दौरान यह देखा जाता है कि आप सामान्य रूप से स्वस्थ हो रहे हैं या नहीं। ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन सर्जरी से कुछ जटिलताएं भी हो सकती हैं, जिसमें मुख्य रूप से इन्फेक्शन, ब्लीडिंग और सर्जरी के द्वारा लगाए गए जोड़ (एनास्टोमोसिस) में लीकेज होना आदि शामिल है।

(और पढ़ें - ब्लीडिंग कैसे रोकें)

  1. ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन क्या है - What is Bronchovascular Sleeve Resection in Hindi
  2. ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन क्यों की जाती है - Why is Bronchovascular Sleeve Resection done in Hindi
  3. ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन से पहले - Before Bronchovascular Sleeve Resection in Hindi
  4. ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन के दौरान - During Bronchovascular Sleeve Resection in Hindi
  5. ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन के बाद - After Bronchovascular Sleeve Resection in Hindi
  6. ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन की जटिलताएं - Complications of Bronchovascular Sleeve Resection in Hindi
ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन के डॉक्टर

ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन एक विशेष सर्जरी प्रोसीजर है, जिसे तब किया जाता है जब फेफड़े के बीच वाले हिस्से में बना हुआ ट्यूमर पल्मोनरी आर्टरी तक फैल जाता है।

जब आप सांस लेते हैं, तो हवा आपकी नाक से होते हुए विंडपाइप और ट्रेकिया में जाती है। ट्रेकिया आगे दो अलग-अलग नलियों में बंट जाती हैं, जिन्हें ब्रोंकाई जो दोनों अलग-अलग फेफड़ों में चली जाती हैं। फेफड़ों के अंदर ये ब्रोंकाइ कई छोटी-छोटी नलियों में बंट जाती हैं, जिन्हें ब्रोंकिओल्स कहा जाता है। ब्रोंकिओल्स में बहुत ही छोटे-छोटे बुलबुले जैसी थैली पाई जाती हैं। इन संरचनाओं को एल्विओली (Alveoli) कहा जाता है।

पल्मोनरी आर्टरी एक विशेष प्रकार की रक्त वाहिका होती है, जो बिना ऑक्सीजन वाले रक्त को दाएं वेंट्रिकल से फेफड़ों तक पहुंचाती है।

(और पढ़ें - इंप्लांटेशन ब्लीडिंग क्या है)

फेफड़ों के मध्यस्थ हिस्सों में विकसित होने वाला कैंसर जो पल्मोनरी धमनी तक फैल जाता है, उसे निकालने के लिए ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन सर्जरी की जाती है।

लंग कैंसर के कारण शुरुआत में कोई लक्षण नहीं होता है, लेकिन जैसे ही कैंसर फैलने लगता है, तो निम्न लक्षण विकसित होने लग जाते हैं -

ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन सर्जरी किसे नहीं करवानी चाहिए?

यदि कैंसर फेफड़ों के अन्य हिस्सों तक फैल जाए तो डॉक्टर ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन सर्जरी न करवाने की सलाह दे सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इस स्थिति में ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन सर्जरी करने से गंभीर जटिलताएं हो सकती हैं।

(और पढ़ें - होंठ में सूजन के लक्षण)

ऑपरेशन से कुछ दिन पहले आपको अस्पताल बुलाया जा सकता है, जिस दौरान आपका शारीरिक परीक्षण किया जाता है और साथ ही आपसे आपके स्वास्थ्य संबंधी पिछली जानकारी ली जाती है। इसके साथ-साथ डॉक्टर आपको कुछ विशेष टेस्ट करवाने की सलाह दे सकते हैं, जिनकी मदद से पता लगाया जाता है कि कैंसर कितना गंभीर है, कहां तक फैल गया है और आप इस सर्जरी के लिए शारीरिक रूप से फिट हैं या नहीं -

इसके अलावा आपका ब्लड टेस्ट और यूरिन टेस्ट भी किया जा सकता है, जिससे डॉक्टर यह निर्धारित करते हैं कि ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन सर्जरी आपके लिए कितनी सुरक्षित है। सर्जरी के बाद आपको कुछ अन्य बातों का ध्यान रखने की सलाह भी दी जा सकती है, जिनमें निम्न शामिल है -

  • यदि आप धूम्रपान या शराब का सेवन करते हैं, तो ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन सर्जरी से कुछ दिन पहले और बाद तक इनसे परहेज रखने की सलाह दी जाती है। ऐसा आमतौर पर इसलिए क्योंकी शराब या सिगरेट पीने से सर्जरी के बाद कई जटिलताएं होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • सर्जरी के बाद आपको कुछ विशेष एक्सरसाइज करने की सलाह भी दी जाती है, ताकि सर्जरी के बाद आप जल्द से जल्द ठीक हो सकें।
  • ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन सर्जरी खाली पेट की जाती है, इसलिए आपको ऑपरेशन से कम से कम छह से आठ घंटे पहले तक कुछ भी खाने या पीने से मना किया जा सकता है।
  • यदि आप किसी भी प्रकार की दवा, हर्बल उत्पाद, विटामिन या अन्य कोई सप्लीमेंट लेते हैं, तो सर्जरी से पहले ही डॉक्टर को इस बारे में बता दें। डॉक्टर आपको इनमें से कुछ दवाओं व उत्पादों को बंद करने को कह सकते हैं, जिनमें आमतौर पर रक्त पतला करने वाली दवाएं आदि शामिल हैं।
  • अपने साथ किसी करीबी रिश्तेदार या मित्र को अस्पताल ले आएं ताकि सर्जरी से पहले और बाद के कार्यों में आपको मदद मिल सके।
  • आपको एक विशेष पत्र दिया जाता है, जिसपर हस्ताक्षर करके आप सर्जन को सर्जरी करने की अनुमति दे देते हैं। हालांकि, सहमति पत्र पर हस्ताक्षर करने से पहले उसे एक बार अच्छे से पढ़ व समझ लेना चाहिए।

जब आप ऑपरेशन के लिए अस्पताल पहुंच जाते हैं, तो सर्जरी के लिए आपको एक विशेष ड्रेस पहनाई जाती है, जिसे “हॉस्पिटल गाउन” कहा जाता है। आपकी बांह की नस में सुई लगाई जाती है, जिसे इंट्रावेनस लाइन से जोड़ दिया जाता है। इंट्रावेनस की मदद से आपको सर्जरी के दौरान आवश्यक दवाएं और द्रव दिए जाते हैं। आपके ब्लैडर से कैथीटर को जोड़ दिया जाता है, जिसकी मदद से सर्जरी के दौरान आपका पेशाब एक थैली में जमा होता रहता है।

इसके बाद आपको एनेस्थीसिया का इंजेक्शन लगा दिया जाता है, जिससे आप गहरी नींद में सो जाते हैं। एनेस्थीसिया का असर होते ही सर्जरी प्रोसीजर शुरू की जाती है, जो इस प्रकार है -

  • सबसे पहले दो पसलियों के बीच में एक चीरा लगाया जाता है। यह चीरा आमतौर पर शॉल्डर ब्लेड से लेकर निप्पल तक जाता है।
  • पसलियों को अलग करके फेफड़ों तक पहुंचा जाता है और फिर प्रभावित हिस्से की जांच की जाती है।
  • ब्रोंकस के प्रभावित हिस्से को काटकर निकाल दिया जाता है और आवश्यकता पड़ने पर दोनों फेफड़ों की ऊपरी लोब को भी हटाया जा सकता है।
  • प्रभावित हिस्से को काटकर अलग करके ब्रोंकस के दोनों हिस्से को मिकाल कर टांके लगा दिए जाते हैं।
  • प्रभावित ब्रोंकस अलग होने के बाद सर्जन पल्मोनरी आर्टरी के रोगग्रस्त हिस्से को भी निकाल देते हैं और फिर टांकों की मदद से दोनों हिस्सों को जोड़ देते हैं।
  • फेफड़ों का कैंसरग्रस्त हिस्सा निकालने के बाद उसके आसपास के हिस्से से भी एक छोटा सैंपल निकाला जाता है और उसे जांच के लिए लैबोरेटरी भेज दिया जाता है।
  • जहां से हिस्सा निकाला गया है वहां पर एक ड्रेनेज ट्यूब लगा दी जाती है।
  • अंत में पसलियों को ठीक करके चीरे को फिर से बंद कर दिया जाता है और उसपर स्टेरी-स्ट्रिप्स लगा दी जाती है।

ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन सर्जरी को पूरा होने में लगभग पांच घंटों का समय लगता है। ऑपरेशन पूरा होने के बाद आपको रिकवरी रूम में शिफ्ट कर दिया जाता है। रिकवरी रूम में नर्स आपके हार्ट रेट, ब्लड प्रेशर ब्रीथिंग आदि की जांच की जाती है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आप स्वस्थ हैं।

ऑपरेशन के बाद जब आपको घर के लिए छुट्टी मिल जाती है, तो इस दौरान डॉक्टर आपको कुछ विशेष बातों का ध्यान रखने की सलाह भी दे सकते हैं, जिनमें निम्न शामिल है -

  • दर्द निवारण -
    ऑपरेशन के बाद आपको कुछ दिन तक दर्द रह सकता है, जिसके लिए आपको सर्जरी के बाद कुछ दवाएं दी जा सकती हैं।
     
  • नहाना -
    सर्जरी के बाद आपको जब भी अच्छा महसूस हो आप नहा सकते हैं। हालांकि, कुछ मामलों में डॉक्टर आवश्यकता अनुसार कुछ दिनों तक न नहाने की सलाह दे सकते हैं।
     
  • घाव की देखभाल -
    डॉक्टर द्वारा दी गई दवाओं के अलावा आपको किसी भी प्रकार की दवा, मलम या क्रीम आदि का इस्तेमाल करने से मना किया जाता है। ऐसा करने से घाव सामान्य रूप से ठीक होना बंद कर सकता है और अन्य कई जटिलताएं हो सकती है।
     
  • शारीरिक गतिविधि -
    सर्जरी के एक दो दिन बाद ही आप घर के सामान्य छोटे-मोटे काम कर सकते हैं। डॉक्टर आपको रोजाना थोड़ा बहुत चलने फिरने की सलाह देते हैं। हालांकि, आपको एक निश्चित समय तक दौड़ने, वजन उठाने या अन्य कोई अधिक मेहनत वाली गतिविधि करने से मना किया जा सकता है।
     
  • आहार -
    सर्जरी के बाद डॉक्टर आपकी डाइट में कुछ बदलाव कर सकते हैं, जिसमें आमतौर पर पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ शामिल हैं। डॉक्टर द्वारा बताए गए आहार लेने से आपके सर्जरी के घाव जल्दी ठीक होने में मदद मिलती है और साथ ही आपको कब्ज आदि की शिकायत भी नहीं रहती है।
     
  • ड्राइविंग -
    ऑपरेशन के बाद आप ड्राइविंग शुरू करने से पहले एक बार डॉक्टर से बात अवश्य कर लें। ऐसा इसलिए क्योंकि हो सकता है आपको दी गई दवाओं में ड्राइविंग करना सुरक्षित न हो।

डॉक्टर को कब दिखाएं?

यदि आपको ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन सर्जरी के बाद निम्न जटिलताएं होती हैं, तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क कर लेना चाहिए -

  • सर्जरी वाला घाव फिर से खुल जाना
  • पेनकिलर लेने के बाद भी दर्द कम न हो पाना
  • घाव में लालिमा व सूजन बढ़ जाना
  • सर्जरी वाले घाव से बदबूदार द्रव बहना

(और पढ़ें - कब्ज दूर करने के घरेलू उपाय)

ब्रोन्कोवस्कुलर स्लीव रिसेक्शन सर्जरी से निम्न जटिलताएं होने का खतरा बढ़ जाता है -

  • ब्रोंकाई सर्जरी वाले हिस्से से संकुचित हो जाना
  • थ्रोम्बोसिस (ब्लड क्लोट बन जाना)
  • एनास्टोमोसिस से लीकेज होना
  • ब्रोंकोएट्रियल फिस्टुला
  • इन्फेक्शन
  • आसपास के ऊतक क्षतिग्रस्त होना
  • हार्ट फेलियर
  • एरिदमिया
  • एट्रियल फाइब्रिलेशन
  • ब्लीडिंग

(और पढ़ें - मल में खून आने का कारण)

Dr Shubham Mishra

Dr Shubham Mishra

श्वास रोग विज्ञान
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Deepak Kumar

Dr. Deepak Kumar

श्वास रोग विज्ञान
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Sandeep Katiyar

Dr. Sandeep Katiyar

श्वास रोग विज्ञान
13 वर्षों का अनुभव

Dr. Rajendra Bera

Dr. Rajendra Bera

श्वास रोग विज्ञान
16 वर्षों का अनुभव

संदर्भ

  1. Lausberg HF, Graeter TP, Tscholl D, Wendler O, Schafers H-J. Bronchovascular versus bronchial sleeve resection for central lung tumors. Ann Thorac Surg. 2005 Apr;79 (4):1147–1152
  2. Oxford University Hospitals [internet]: NHS Foundation Trust. National Health Service. U.K.; Lung resection
  3. National Health Service [Internet]. UK; Lung cancer
  4. Maurizi G, Andrilli AD, Venuta F, Rendina EA. Bronchial and arterial sleeve resection for centrally-located lung cancers. J Thorac Dis. 2016 Nov;8(Suppl 11):S872–S881. PMID: 27942409.
  5. Memorial Sloan Kettering Cancer Center [Internet]. New York. US; About Your Thoracic Surgery
  6. Stony Brook Cancer Center [Internet]. New York. US; Preparing for Lung Surgery
  7. Venuta F, Rendina EA. Combined pulmonary artery and bronchial sleeve resection. Gen Thorac Surg. 2008 Dec 1;13(4):260–273.
  8. Ito H, Nakayama H, Nagashima T, Samejina J. Bronchovascular sleeve resection of the right middle lobe in N1 lung cancer. AME Case Rep. 2019;3:5. PMID: 31020272.
ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ