Kairali Manasamitram Gulika

 191 लोगों ने इसको हाल ही में खरीदा
100 गुलिका 1 डब्बे ₹ 1380
  • दवा उपलब्ध नहीं है

Kairali Manasamitram Gulika की जानकारी

Kairali manasamitram gulika बिना डॉक्टर के पर्चे द्वारा मिलने वाली आयुर्वेदिक दवा है, जो मुख्यतः डिप्रेशन, चिंता, मिर्गी, आटिज्‍म, सेरेब्रल पाल्सी के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। Kairali manasamitram gulika के मुख्य घटक हैं पुष्करमूल, शंखपुष्पी, वाचा, लाल चंदन, मोती, चंदन, लौह भस्म, दालचीनी, पिप्पली, कपूर, चेरी, निर्गुण्डी, रसना, कमल, कंटकारी, त्रिफला, गिलोय, अश्वगंधा, हल्दी, उशिरा, अंगूर के बीज, मुलेठी, रिद्धि, दूब घास, तुलसी, केसर, बेल, बाला, दूध, ज़ीरा जिनकी प्रकृति और गुणों के बारे में नीचे बताया गया है। Kairali manasamitram gulika की उचित खुराक मरीज की उम्र, लिंग और उसके स्वास्थ्य संबंधी पिछली समस्याओं पर निर्भर करती है। यह जानकारी विस्तार से खुराक वाले भाग में दी गई है।

Kairali Manasamitram Gulika की सामग्री - Kairali Manasamitram Gulika Active Ingredients in Hindi

अश्वगंधा
  • वे घटक जिनका इस्‍तेमाल फ्री रेडिकल्‍स की सक्रियता को कम करने और ऑक्‍सीडेटिव स्‍ट्रेस (मुक्त कणों के बनने और उनके शरीर के प्रति हानिकरक प्रभाव को न रोक पाने के बीच का असंतुलन) को रोकने के लिए किया जाता है।
  • ये तत्व यौन इच्छा को बढ़ाते हैं।
  • मस्तिष्‍क के कार्य को प्रभावित कर नींद आने में मदद करने वाली दवाएं। अनिद्रा की स्थिति में ऐसी दवाएं दी जा सकती हैं।
  • शीतल प्रभाव वाली दवा जो शरीर को आराम देकर चिंता, चिड़चिड़ापन और तनाव से राहत देती है।
  • मूड को स्थिर करने के लिए उपयोगी दवाएं, खासकर बायपोलर विकार की स्थिति में।
बेल
  • ये दवाएं रोगी की जागृत अवस्था को प्रभावित किए बिना दर्द को कम कर सकती हैं।
  • ये दवाएं चोट के कारण होने वाली सूजन को कम करती हैं।
  • वे दवाएं जो गैस्‍ट्रोइंटेस्‍टाइनल मार्ग से अत्‍यधिक गैस को निकालने में मदद करती हैं।
बाला
  • दवाइयां जो बिना बेहोशी के दर्द को कम करती हैं।
  • एक एजेंट जो आंतों में कीड़े को नष्ट करने और निष्कासित करने के लिए उपयोग किया जाता है और आंत में उनके विकास को रोकता है।
  • कामेच्छा को बढ़ाने के लिए उपयोगी एजेंट।
  • दवाएं जो तंत्रिका कार्य को प्रभावित करती हैं और अवसाद व पागलपन के मामले में ट्रैंक्वेलाइज़र (चिंता व टेंशन को कम करने वाली दवा) के रूप में कार्य करते हैं।
चंदन
  • ये दवाएं चोट के कारण होने वाली सूजन को कम करती हैं।
  • ऐसा पदार्थ जिसमें यौन इच्छा को तीव्र करने की क्षमता होती है।
  • रक्‍त वाहिकाओं में संकुचन पैदा करने वाले घटक जिससे उस हिस्‍से में रक्‍त प्रवाह में कमी आती है।
दूब घास
  • ये दवाएं रोगी की जागृत अवस्था को प्रभावित किए बिना दर्द को कम कर सकती हैं।
  • सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • वो तत्व जो जीवित कोशिकाओं में मुक्त कणों के ऑक्सीकरण के प्रभाव को रोकता है।
गिलोय
  • दवाइयां जो बिना बेहोशी के दर्द को कम करती हैं।
  • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस (शरीर में एंटीऑक्सीडेंट्स और फ्री रेडिकल्स के बीच असंतुलन पैदा होना) को कम करने वाली दवाएं।
  • ऐसा पदार्थ जो पाचन तंत्र को उत्तेजित करता है और भूख बढ़ाने में फायदेमंद होता है।
  • श्‍वसन मार्ग में बलगम के स्राव में सुधार लाने वाली दवाएं।
  • वे एजेंट्स जो एलर्जी के लक्षणों को रोकते हैं।
हल्दी
  • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • वे एजेंट या दवाएं जो रूमेटाइड अर्थराइटिस के लक्षणों और बीमारी को बढ़ने से रोकते हैं ।
  • ये एजेंट मुक्त कणों को साफ करके ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं।
  • ये एजेंट श्वसन पथ से कफ निकलने को बढ़ावा देते हैं।
  • प्रतिरक्षा प्रणाली को ठीक करने वाले पदार्थ।
  • एलर्जी के लक्षणों से राहत दिलाने के लिए उपयोगी तत्व।
जीरा
  • दवाइयां जो बिना बेहोशी के दर्द को कम करती हैं।
  • सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • शरीर में मौजूद ऑक्सीजन के मुक्त कणों को निकालने के लिए उपयोग होने वाले पदार्थ।
  • ऐसा पदार्थ जो पेट और आंतों से अतिरिक्त गैस को खत्म करता है।
  • पाचन क्रिया को बेहतर करने वाले तत्‍व।
  • ये दवाएं हाई ब्लड प्रेशर का इलाज करती हैं।
कपूर
  • दवाइयां जो बिना बेहोशी के दर्द को कम करती हैं।
  • शरीर के किसी भाग में दर्द होने पर त्वचा के ऊपर लगाई जाने वाली पेनकिलर दवाएं।
  • एक ऐसा एजेंट जो अंदरूनी अंगों में सूजन रोकने के लिए त्‍वचा की ऊपरी सतह पर सूजन पैदा करता है।
  • ये एजेंट श्वसन पथ से कफ निकलने को बढ़ावा देते हैं।
  • वासोडिलेटर गुणों वाले तत्व रक्त के प्रवाह में वृद्धि के कारण होने वाली त्वचा की लालिमा और जलन का कारण बनते हैं।
  • लिंग में उत्तेजना लाने वाली दवाएं।
  • शुक्राणु का उत्पादन बढ़ाने वाले एजेंट।
कंटकारी
  • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • नस पर नस चढ़ने के लक्षणों से राहत देने वाली दवाएं।
  • वे दवाएं जो शरीर में हिस्‍टामाइन (जो धूल-मिटटी जैसे बाहरी तत्वों से शरीर की रक्षा करता है) के स्राव को नियंत्रित कर एलर्जी को रोकती हैं।
रसना
  • चोट या संक्रमण के कारण होने वाली सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • नस चढ़ने में राहत देने वाली दवाएं।
मुलेठी
  • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • वे घटक जिनका इस्‍तेमाल फ्री रेडिकल्‍स की सक्रियता को कम करने और ऑक्‍सीडेटिव स्‍ट्रेस (मुक्त कणों के बनने और उनके शरीर के प्रति हानिकरक प्रभाव को न रोक पाने के बीच का असंतुलन) को रोकने के लिए किया जाता है।
  • स्वैच्छिक या अनैच्छिक रूप से नस पर नस चढ़ने की समस्या को कम करने या रोकने के लिए उपयोग किए जाने वाली दवाएं।
  • पाचन क्रिया और पेट को आराम देने वाले घटक।
  • ये एजेंट श्वसन पथ से कफ निकलने को बढ़ावा देते हैं।
  • ऐसे पदार्थ जो प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्य को उत्तेजित करके या कम करके उसे ठीक करता है।
निर्गुण्डी
  • एक यौगिक जो बेहोश किए बिना दर्द निवारक के रूप में कार्य करता है।
  • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • ये दवाएं शरीर का तापमान कम करती हैं और बुखार के दौरान इनका उपयोग किया जाता है।
  • ये एजेंट मुक्त कणों को साफ करके ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं।
  • ये एजेंट पाचन में सुधार करते हैं और भोजन के अवशोषण में सहायता करते हैं।
  • इन एजेंट का उपयोग बुखार के इलाज में किया जाता है।
पिप्पली
  • ये दवाएं रोगी की जागृत अवस्था को प्रभावित किए बिना दर्द को कम कर सकती हैं।
  • एजेंट या तत्‍व जो सूजन को कम करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।
  • वे घटक जिनका इस्‍तेमाल फ्री रेडिकल्‍स की सक्रियता को कम करने और ऑक्‍सीडेटिव स्‍ट्रेस (मुक्त कणों के बनने और उनके शरीर के प्रति हानिकरक प्रभाव को न रोक पाने के बीच का असंतुलन) को रोकने के लिए किया जाता है।
  • मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन को रोकने वाली दवाएं।
  • दवाएं जो भूख को बढ़ाती हैं और एनोरेक्सिया व भूख न लगने के इलाज में इस्तेमाल की जाती हैं।
  • पाचन क्रिया को सुधारने व खाने को ठीक से अवशोषित करने के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं।
  • ये दवाएं मस्तिष्क में विशिष्ट केंद्रों पर कार्य करती हैं और अनिद्रा को नियंत्रित करने के लिए नींद को प्रेरित करने में मदद करती हैं।
  • वो दवा जो प्रतिरक्षा प्रणाली पर कार्य कर इम्यून को बेहतर करती है।
  • शीतल प्रभाव वाली दवा जो शरीर को आराम देकर चिंता, चिड़चिड़ापन और तनाव से राहत देती है।
  • पाचन रस का स्राव बढ़ाकर अपच का इलाज करने वाले घटक।
दालचीनी
  • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस (शरीर में एंटीऑक्सीडेंट्स और फ्री रेडिकल्स के बीच असंतुलन पैदा होना) को कम करने वाली दवाएं।
  • ये दवाएं मांसपेशियों के दर्द और ऐंठन को कम करने में मदद करती हैं।
  • कामेच्छा को तेज करने वाले घटक।
  • फंगल संक्रमण का उपचार करने वाले तत्व।
  • सूक्ष्म जीवों को बढ़ने से रोकने वाले या खत्म करने वाले एजेंट।
शंखपुष्पी
  • ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस (शरीर में एंटीऑक्सीडेंट्स और फ्री रेडिकल्स के बीच असंतुलन पैदा होना) को कम करने वाली दवाएं।
  • डिप्रेशन को नियंत्रित करने में मदद करने वाली दवाएं।
  • मस्तिष्क पर काम करते हुए नसों को आराम देने वाले एजेंट।
  • मिर्गी या बेहोशी के इलाज के लिए इस्तेमाल में आने वाली दवाएं।
  • फंगल संक्रमण का उपचार करने वाले तत्व।
  • ये एजेंट सूक्ष्मजीवों के विकास और कार्यों के खिलाफ सहायक होते हैं।
दूध
  • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • ये एजेंट सूक्ष्मजीवों के विकास और कार्यों के खिलाफ सहायक होते हैं।
तुलसी
  • दर्द को कम करने के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं या एजेंट।
  • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • ये एजेंट मुक्त कणों को साफ करके ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं।
  • ये एजेंट प्रतिरक्षा प्रणाली पर प्रभाव डालते हैं और प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्यों को बदलने में मदद करते हैं।
  • एलर्जी के लक्षणों से राहत दिलाने के लिए उपयोगी तत्व।
उशिरा
  • ये दवाएं चोट के कारण होने वाली सूजन को कम करती हैं।
  • ये एजेंट मुक्त कणों को साफ करके ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं।
  • वे तत्व जो सूक्ष्म जीवों को बढ़ने से रोकने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।
  • कामेच्छा को बढ़ाने के लिए उपयोगी एजेंट।
  • एक पदार्थ या औषधि मिश्रण जो रक्त स्राव और अन्य स्राव को रोकने के लिए शरीर के ऊतकों को संकुचित करती है।
  • ये दवाएं तंत्रिका तंत्र पर अपने असर और उत्तेजित नसों को शांत करने के लिए उपयोग की जाती हैं।
  • शीतल प्रभाव वाली दवा जो शरीर को आराम देकर चिंता, चिड़चिड़ापन और तनाव से राहत देती है।
वाचा
  • एजेंट या तत्‍व जो सूजन को कम करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।
  • वे घटक जिनका इस्‍तेमाल फ्री रेडिकल्‍स की सक्रियता को कम करने और ऑक्‍सीडेटिव स्‍ट्रेस (मुक्त कणों के बनने और उनके शरीर के प्रति हानिकरक प्रभाव को न रोक पाने के बीच का असंतुलन) को रोकने के लिए किया जाता है।
  • वो दवा जिसका उपयोग मानसिक अवसाद से राहत पाने के लिए किया जाता है।
  • नसों को आराम देने वाले तत्व।
  • शीतल प्रभाव वाली दवा जो शरीर को आराम देकर चिंता, चिड़चिड़ापन और तनाव से राहत देती है।
  • वे दवाएं जिनका इस्‍तेमाल दौरों को रोक कर मिर्गी के दौरे पड़ने की स्थिति को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है।
कमल
  • एजेंट या तत्‍व जो सूजन को कम करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।
  • वे दवाएं जो वायरल संक्रमण के लक्षणों को रोकने में मददगार होती हैं।
  • बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकने या खत्म करने वाले पदार्थ।
  • शरीर में फैट का स्तर कम करने वाली दवाएं, जिनका प्रयोग हाई कोलेस्ट्रॉल के लिए भी किया जाता है।
केसर
  • शरीर में मौजूद ऑक्सीजन के मुक्त कणों को निकालने के लिए उपयोग होने वाले पदार्थ।
  • ऐसे एजेंट्स जो डिप्रेशन के लक्षणों से राहत दिलाते हैं।
  • वे दवाएं जिनका इस्‍तेमाल मिर्गी के दौरों को कम और उसे रोकने और मिर्गी के इलाज में किया जाता है।
  • वे दवाएं जो शरीर में लिपिड की मात्रा और कोलेस्‍ट्रोल के स्‍तर को नियंत्रित करने में मदद करती हैं। ये दवाएं कार्डिएक से संबंधित विकारों को रोकने के लिए ली जाती हैं।
त्रिफला
  • ये दवाएं चोट के कारण होने वाली सूजन को कम करती हैं।
  • शारीरिक ऊतकों को संकुचित करने वाले तत्व जिनका इस्तेमाल अत्यधिक खून बहने को रोकने के लिए किया जाता है।
  • पाचन क्रिया को बेहतर करने वाले तत्‍व।
  • वो दवा जो प्रतिरक्षा प्रणाली पर कार्य कर इम्यून को बेहतर करती है।
  • हाई ब्लड प्रेशर के प्रभाव को कम करने वाले तत्व।
मोती
  • दवाएं जो शरीर के तापमान को कम करके बुखार का इलाज करती हैं।
  • वो तत्व जो जीवित कोशिकाओं में मुक्त कणों के ऑक्सीकरण के प्रभाव को रोकता है।
  • श्‍लेष्‍मा झिल्‍ली (म्‍यूकस मेंब्रेन) के ऊपर एक सुरक्षात्मक परत बनाते हुए सूजन को कम करने वाले तत्व।
  • वो दवा जिसका उपयोग मानसिक अवसाद से राहत पाने के लिए किया जाता है।
  • मांसपेशियों को आराम पहुंचाने वाली दवाएं।
  • ये एजेंट पेट के पीएच स्तर को बेहतर बनाने में मदद करते हैं।
  • वे दवाएं जिनका इस्‍तेमाल दौरों को रोक कर मिर्गी के दौरे पड़ने की स्थिति को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है।
  • हाई ब्लड प्रेशर के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाएं।
लौह भस्म
  • ये दवाएं लिवर के कार्य में सुधार करते हैं और इसे संक्रमण से बचाते हैं।
  • ऐसे घटक जो हीमोग्लोबिन और लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाते हैं और एनीमिया का इलाज करते हैं।
लाल चंदन
  • ऐसी दवाएं जो दर्द को नियंत्रित करने और बेहोशी (सुधबुध खोने) रोकने के लिए इस्‍तेमाल की जाती है।
  • ये दवाएं चोट के कारण होने वाली सूजन को कम करती हैं।
  • वो तत्व जो जीवित कोशिकाओं में मुक्त कणों के ऑक्सीकरण के प्रभाव को रोकता है।
  • स्वैच्छिक या अनैच्छिक रूप से नस पर नस चढ़ने की समस्या को कम करने या रोकने के लिए उपयोग किए जाने वाली दवाएं।
  • कामेच्छा को बढ़ाने के लिए उपयोगी एजेंट।
  • दवाएं जो त्वचा के छिद्रों को कम करती हैं और शरीर की कोशिकाओं को संकुचित।
पुष्करमूल
  • होमियोस्टैसिस (किसी अंग या प्रणाली के असामान्य कार्य को ठीक करने के लिए शरीर की प्राकृतिक प्रक्रिया) को बनाए रखने और तनाव की स्थिति में शारीरिक क्रियाओं को नियंत्रित करने वाले बायोएक्टिव तत्‍व।
  • दवाइयां जो बिना बेहोशी के दर्द को कम करती हैं।
  • दवा जो श्वास, घरघराहट, खांसी और सीने में जकड़न जैसे अस्‍थमा के लक्षणों को रोकने में मदद करती है
  • चोट या संक्रमण के कारण होने वाली सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • वे घटक जिनका इस्‍तेमाल फ्री रेडिकल्‍स की सक्रियता को कम करने और ऑक्‍सीडेटिव स्‍ट्रेस (मुक्त कणों के बनने और उनके शरीर के प्रति हानिकरक प्रभाव को न रोक पाने के बीच का असंतुलन) को रोकने के लिए किया जाता है।
  • बैक्‍टीरिया को बढ़ने से रोकने वाली दवाएं।
  • एलर्जी के लक्षणों से राहत दिलाने के लिए उपयोगी तत्व।
चेरी
  • ऐसी दवाएं जो दर्द को नियंत्रित करने और बेहोशी (सुधबुध खोने) रोकने के लिए इस्‍तेमाल की जाती है।
  • सूजन को कम करने वाली दवाएं।
  • ऐसे पदार्थ जो प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्य को उत्तेजित करके या कम करके उसे ठीक करता है।
रिद्धि
  • ये एजेंट शरीर में होमियोस्टैसिस (किसी अंग या प्रणाली के असामान्य कार्य को ठीक करने के लिए शरीर की प्राकृतिक प्रक्रिया) की स्थिति को बनाए रखने में मदद करते हैं तथा तनाव और कमजोरी के दौरान शरीर के कार्यों को सुचारु रूप से चलाते हैं।
  • वे घटक जिनका इस्‍तेमाल फ्री रेडिकल्‍स की सक्रियता को कम करने और ऑक्‍सीडेटिव स्‍ट्रेस (मुक्त कणों के बनने और उनके शरीर के प्रति हानिकरक प्रभाव को न रोक पाने के बीच का असंतुलन) को रोकने के लिए किया जाता है।
  • ऐसा पदार्थ जिसमें यौन इच्छा को तीव्र करने की क्षमता होती है।
  • ये एजेंट भोजन करने की इच्छा में सुधार करते हैं।
अंगूर के बीज
  • हृदय के कार्य को ठीक या बेहतर करने वाले तत्व।
  • वे दवा या तत्व जो रक्त में लिपिड की मात्रा को कम करता है जिससे कोलेस्ट्रोल स्तर को कम करने और हृदय रोगों को रोकने में मदद मिलती है।

Kairali Manasamitram Gulika के लाभ - Kairali Manasamitram Gulika Benefits in Hindi

Kairali Manasamitram Gulika इन बिमारियों के इलाज में काम आती है -



Kairali Manasamitram Gulika के नुकसान, दुष्प्रभाव और साइड इफेक्ट्स - Kairali Manasamitram Gulika Side Effects in Hindi

चिकित्सा साहित्य में Kairali Manasamitram Gulika के दुष्प्रभावों के बारे में कोई सूचना नहीं मिली है। हालांकि, Kairali Manasamitram Gulika का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह-मशविरा जरूर करें।



Kairali Manasamitram Gulika से सम्बंधित चेतावनी - Kairali Manasamitram Gulika Related Warnings in Hindi

  • क्या Kairali Manasamitram Gulika का उपयोग गर्भवती महिला के लिए ठीक है?


    शोध कार्य न हो पाने की वजह से Kairali manasamitram gulika के हानिकारक प्रभावों के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं हैं।

    अज्ञात
  • क्या Kairali Manasamitram Gulika का उपयोग स्तनपान करने वाली महिलाओं के लिए ठीक है?


    जो स्त्रियां स्तनपान कराती हैं उनके ऊपर Kairali manasamitram gulika का क्या असर होगा इस विषय पर कोई शोध नहीं किया गया है, इसके चलते पूर्ण जानकारी मौजूद नहीं है। दवा को लेते समय डॉक्टर की राय लेना जरूरी।

    अज्ञात
  • Kairali Manasamitram Gulika का पेट पर क्या असर होता है?


    Kairali manasamitram gulika के इस्तेमाल से पेट को किसी तरह का नुकसान नहीं होता।

    सुरक्षित
  • क्या Kairali Manasamitram Gulika का उपयोग बच्चों के लिए ठीक है?


    बच्चों पर Kairali manasamitram gulika का क्या असर होगा इस बारे में जानकारी मौजूद नहीं है, क्योंकि इस विषय में अब तक कोई रिसर्च नहीं हुई है।

    अज्ञात
  • क्या Kairali Manasamitram Gulika का उपयोग शराब का सेवन करने वालों के लिए सही है


    रिसर्च न होने के कारण Kairali manasamitram gulika के नुकसान के विषय में पूर्ण जानकारी मौजूद नहीं है। अतः डॉक्टर की सलाह पर ही इसको लें।

    अज्ञात
  • क्या Kairali Manasamitram Gulika शरीर को सुस्त तो नहीं कर देती है?


    Kairali manasamitram gulika के सेवन के बाद चक्कर आना या झपकी आना जैसी दिक्कतें नहीं होती हैं। इसलिए आप वाहन चला सकते हैं या मशीनरी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

    नहीं
  • क्या Kairali Manasamitram Gulika का उपयोग करने से आदत तो नहीं लग जाती है?


    Kairali manasamitram gulika की लत नहीं लगती, लेकिन फिर भी आपको इसे लेने से पहले सर्तकता बरतनी बेहद जरूरी है और इस विषय पर डॉक्टरी सलाह अवश्य लें।

    नहीं


Kairali Manasamitram Gulika कैसे खाएं - Kairali Manasamitram Gulika How to take in Hindi

आप Kairali Manasamitram Gulika को निम्नलिखित के साथ ले सकते है:

  • क्या Kairali Manasamitram Gulika को गुनगुना पानी के साथ ले सकते है?
    हां, Kairali Manasamitram Gulika को गुनगुने पानी के साथ लेने से कोई हानिकारक प्रभाव नहीं पड़ता है।


इस जानकारी के लेखक है -

Dr. Braj Bhushan Ojha

BAMS, गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, डर्माटोलॉजी, मनोचिकित्सा, आयुर्वेद, सेक्सोलोजी, मधुमेह चिकित्सक
10 वर्षों का अनुभव


संदर्भ

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. Volume- I. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1999: Page No 19-20

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No 35-36

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No 53-55

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No 60-61

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No 142-143

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume VI. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2008: Page No CCXLIV-CCXLV

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No 77-80

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 3. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2001: Page No - 163 - 165

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No - 168 - 169

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 3. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2001: Page No - 143 - 145

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 4. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2004: Page No - 105 - 106

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No - 151 - 152

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 2. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1999: Page No 155 - 157

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 2. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1999: Page No 170 - 176

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. Volume 3. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2001: Page No 220 - 221

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 2. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1999: Page No 177 - 179

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume- II. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1999: Page No 74-75

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume- IV. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2004: Page No 59-61

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume- IV. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2004: Page No 54-56

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 3. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2001: Page No 155-156

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 4. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2004: Page No 116-117

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 5. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2006: Page No 39-41

Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 5. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2006: Page No 184-186



आपको यह भी पसंद आ सकता है

myUpchar Ayurveda Manamrit Brain Revitalizer Capsule
myUpchar Ayurveda Manamrit Brain Revitalizer Capsule एक बोतल में 60 कैप्सूल ₹899.0 ₹999.010% छूट


यहां समान श्रेणी की दवाएं देखें

₹1380
एक डब्बे में 100 गुलिका