Baidyanath Tapyadi Lauh No 1

 578 लोगों ने इसको हाल ही में खरीदा
एक बोतल में 20 लौह एवं मंडूर
₹ 156 ₹181 13% छूट बचत: ₹25
20 लौह एवं मंडूर 1 बोतल ₹ 156 ₹181 13% छूट बचत: ₹25
myUpchar रेकमेंडेड - 99% ज्यादा बचत
Rosemary Essential Oil for Hair Growth, Hair Fall Control and Skin
Rosemary Essential Oil For Hair Growth, Hair Fall Control And Skin एक बोतल में 15 ml ऑयल ₹1 ₹45099% छूट  खरीदें

  • विक्रेता: EAGLE EXIM INC
    • मुफ्त शिपिंग उपलब्ध
       
    • मूल का देश: India
    myUpchar रेकमेंडेड - Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 से 99% अधिक बचत
    Rosemary Essential Oil for Hair Growth, Hair Fall Control and Skin
    Rosemary Essential Oil For Hair Growth, Hair Fall Control And Skin एक बोतल में 15 ml ऑयल ₹1 ₹45099% छूट  खरीदें

    इसके साथ लेने पर ज्यादा असरदार

    इसके साथ लेने पर ज्यादा असरदार



    Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 की जानकारी

    Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 बिना डॉक्टर के पर्चे द्वारा मिलने वाली आयुर्वेदिक दवा है, जो मुख्यतः एनीमिया के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। इसके अलावा Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 का उपयोग कुछ दूसरी समस्याओं के लिए भी किया जा सकता है। इनके बारे में नीचे विस्तार से जानकारी दी गयी है। Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 के मुख्य घटक हैं चित्रक, हरीतकी, विडंग, शिलाजीत, रजत भस्म, त्रिफला, मंडूर भस्म, लौह भस्म जिनकी प्रकृति और गुणों के बारे में नीचे बताया गया है। Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 की उचित खुराक मरीज की उम्र, लिंग और उसके स्वास्थ्य संबंधी पिछली समस्याओं पर निर्भर करती है। यह जानकारी विस्तार से खुराक वाले भाग में दी गई है। 

    Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 की सामग्री - Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 Active Ingredients in Hindi

    चित्रक
    • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
    • दवाएं जो शुगर के दौरन होने वाले ब्लड शुगर को नियंत्रित करती हैं।
    • मस्तिष्क पर काम करते हुए नसों को आराम देने वाले एजेंट।
    • वे एजेंट्स जो सूक्ष्‍म जीवों को नष्‍ट या उनके कार्य को रोक कर माइक्रोबियल रेप्लिका (सूक्ष्‍म जीवों की प्रतिकृति) और इसको बढ़ने से बचाते हैं।
    हरीतकी (हरड़)
    • खून में ग्लूकोज़ के स्तर को कम करने वाली दवाएं जो डायबिटीज के इलाज में भी उपयोग होती हैं।
    • सूजन को कम करने वाली दवाएं।
    • ट्यूमर को बढ़ने से रोकने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा।
    • वो तत्व जो जीवित कोशिकाओं में मुक्त कणों के ऑक्सीकरण के प्रभाव को रोकता है।
    • शरीर में वायरस के गुणन को कम करने वाली दवाएं।
    • पाचन क्रिया को बेहतर करने वाले तत्‍व।
    • बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकने या खत्म करने वाले पदार्थ।
    विडंग
    • चोट या संक्रमण के कारण होने वाली सूजन को कम करने वाली दवाएं।
    शिलाजीत
    • होमियोस्टैसिस (किसी अंग या प्रणाली के असामान्य कार्य को ठीक करने के लिए शरीर की प्राकृतिक प्रक्रिया) को बनाए रखने और तनाव की स्थिति में शारीरिक क्रियाओं को नियंत्रित करने वाले बायोएक्टिव तत्‍व।
    • एजेंट या तत्‍व जो सूजन को कम करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।
    • ये एजेंट मुक्त कणों को साफ करके ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं।
    रजत भस्म
    • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
    • ये तत्व यौन इच्छा को बढ़ाते हैं।
    • हृदय के कार्य को ठीक या बेहतर करने वाले तत्व।
    • वे दवाएं जो लिवर को संक्रमण से बचाने और उसे बेहतर तरीके से कार्य करने में मदद करती हैं।
    • ये एजेंट प्रतिरक्षा प्रणाली पर प्रभाव डालते हैं और प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्यों को बदलने में मदद करते हैं।
    • ये दवाएं तंत्रिका तंत्र पर अपने असर और उत्तेजित नसों को शांत करने के लिए उपयोग की जाती हैं।
    • ये दवाएं दिल की धड़कन और लय को सामान्य करने में मदद करती हैं।
    त्रिकटु
    त्रिफला
    • ये एजेंट शरीर में होमियोस्टैसिस (किसी अंग या प्रणाली के असामान्य कार्य को ठीक करने के लिए शरीर की प्राकृतिक प्रक्रिया) की स्थिति को बनाए रखने में मदद करते हैं तथा तनाव और कमजोरी के दौरान शरीर के कार्यों को सुचारु रूप से चलाते हैं।
    • चोट लगने के बाद सूजन को कम करने वाली दवाएं।
    • बुखार के उपचार में उपयोग किए जाने वाले एजेंट।
    • ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस (शरीर में एंटीऑक्सीडेंट्स और फ्री रेडिकल्स के बीच असंतुलन पैदा होना) को कम करने वाली दवाएं।
    • ये तत्व रक्त निर्माण में सहायता करते हैं और एनीमिया के उपचार में मदद करते हैं।
    • ये दवाएं बैक्टीरिया को मारती हैं या उनकी गतिविधियों को रोकती हैं।
    मंडूर भस्म
    • ऐसे घटक जो हीमोग्लोबिन और लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाते हैं और एनीमिया का इलाज करते हैं।
    लौह भस्म
    • वो दवा जो खून बनाने के लिए उत्तेजित करती है और इसका उपयोग एनीमिया के उपचार में किया जाता है।

    Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 के लाभ - Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 Benefits in Hindi

    Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 इन बिमारियों के इलाज में काम आती है -

    मुख्य लाभ

    अन्य लाभ



    Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 की खुराक - Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 Dosage in Hindi

    यह अधिकतर मामलों में दी जाने वाली Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 की खुराक है। कृपया याद रखें कि हर रोगी और उनका मामला अलग हो सकता है। इसलिए रोग, दवाई देने के तरीके, रोगी की आयु, रोगी का चिकित्सा इतिहास और अन्य कारकों के आधार पर Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 की खुराक अलग हो सकती है।

    आयु वर्ग खुराक
    व्यस्क
    • मात्रा: निर्धारित खुराक का उपयोग करें
    • खाने के बाद या पहले: कभी भी दवा ले सकते हैं
    • अधिकतम मात्रा: 500 mg
    • लेने का तरीका: गुनगुना पानी
    • दवा का प्रकार: लौह एवं मंडूर
    • दवा लेने का माध्यम: मुँह
    • आवृत्ति (दवा कितनी बार लेनी है): दिन में दो बार
    • दवा लेने की अवधि: 2 महीने
    बुजुर्ग
    • मात्रा: निर्धारित खुराक का उपयोग करें
    • खाने के बाद या पहले: कभी भी दवा ले सकते हैं
    • अधिकतम मात्रा: 500 mg
    • लेने का तरीका: गुनगुना पानी
    • दवा का प्रकार: लौह एवं मंडूर
    • दवा लेने का माध्यम: मुँह
    • आवृत्ति (दवा कितनी बार लेनी है): दिन में दो बार
    • दवा लेने की अवधि: 2 महीने


    Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 के नुकसान, दुष्प्रभाव और साइड इफेक्ट्स - Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 Side Effects in Hindi

    चिकित्सा साहित्य में Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 के दुष्प्रभावों के बारे में कोई सूचना नहीं मिली है। हालांकि, Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह-मशविरा जरूर करें।



    Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 से सम्बंधित चेतावनी - Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 Related Warnings in Hindi

    • क्या Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 का उपयोग गर्भवती महिला के लिए ठीक है?


      Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 से प्रेग्नेंट महिला के शरीर पर कई दुष्प्रभाव हो सकते हैं। ऐसा आपके साथ भी हो तो आप दवा ना लें और आपने डॉक्टर से पूछने के बाद ही इसको फिर से शरू करें।

      मध्यम
    • क्या Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 का उपयोग स्तनपान करने वाली महिलाओं के लिए ठीक है?


      स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 का सेवन करने से दुष्प्रभाव हो सकते हैं। ऐसे ही विपरीत प्रभाव आप भी महसूस करें तो दवा का सेवन न करें और डॉक्टर से इस बारे में बात जरूर करें।

      मध्यम
    • Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 का पेट पर क्या असर होता है?


      बिना किसी डर के आप Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 ले सकते हैं। यह पेट के लिए सुरक्षित है।

      सुरक्षित
    • क्या Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 का उपयोग शराब का सेवन करने वालों के लिए सही है


      Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 के बुरे प्रभावों के बारे में जानकारी मौजूद नहीं है। क्योंकि इस विषय पर अभी रिसर्च नहीं हो पाई है। अतः डॉक्टर के परामर्श के बाद ही इस दवा को लें।

      अज्ञात
    • क्या Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 शरीर को सुस्त तो नहीं कर देती है?


      Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 लेने पर आपको झपकी या नींद नहीं आएगी। इसलिए आप ड्राइव कर सकते हैं या मशीनरी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

      नहीं
    • क्या Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 का उपयोग करने से आदत तो नहीं लग जाती है?


      नहीं, इसका कोई प्रमाण नहीं है कि Baidyanath Tapyadi Lauh No 1 को लेने से आपको इसकी लत पड़ जाएगी। कोई भी दवा डॉक्टर से पूछ कर ही लें, जिससे कोई हानि न हो।

      नहीं

    इस जानकारी के लेखक है -

    Dr. Braj Bhushan Ojha

    BAMS, गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, डर्माटोलॉजी, मनोचिकित्सा, आयुर्वेद, सेक्सोलोजी, मधुमेह चिकित्सक
    10 वर्षों का अनुभव


    संदर्भ

    Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No 62-63

    Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No163 - 165

    Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume- IV. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2004: Page No 54-56