दस्त की समस्या किसी को भी हो सकती है. इसका शिकार बड़ों से लेकर छोटे बच्चे तक हो सकते हैं. यह कहना भी गलत नहीं होगा कि डायरिया के चलते मरीज की दिनचर्या बुरी तरह से प्रभावित होती है. हालांकि, अधिकतर मामलों में डायरिया की समस्या थोड़ी देर के लिए ही रहती है, जिसे एक्यूट डायरिया कहा जाता है. इस तरह के डायरिया को कुछ उपायों की मदद से तुरंत ठीक किया जा सकता है.

आज इस लेख में आप जानेंगे कि दस्त को तुरंत कैसे ठीक किया जा सकता है और किस स्थिति में तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए -

(Read More - दस्त रोकने के घरेलू उपाय)

  1. वयस्कों के दस्त तुरंत रोकने के लिए उपाय
  2. बच्चों के दस्त तुरंत रोकने के लिए उपाय
  3. क्या न करें
  4. डॉक्टर को कब दिखाएं?
  5. सारांश
दस्त को तुरंत कैसे रोकें? के डॉक्टर

नीचे कुछ टिप्स दिए गए हैं, जो एक्यूट डायरिया होने पर वयस्कों के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं -

एंटी-डायरियल दवा

एक्यूट डायरिया होने पर यहां बताई गई दवाओं को लेने से जल्दी फायदा होता है, लेकिन इन दवाओं को बिना डॉक्टर की सलाह के कभी नहीं लेना चाहिए -

  • लोपेरामाइड (इमोडियम) - यह दवा डायजेस्ट सिस्टम को धीमा कर देती है, ताकि शरीर आंतों से अधिक पानी खींच सके. यह मल को सख्त करने और बाउल मूवमेंट को नियंत्रित करने में भी मदद करती है.
  • बिस्मथ सबसैलिसिलेट (पेप्टो-बिस्मोल) - यह दवा आंत में जाकर वहां जमा दस्त का कारण बनने वाले बैक्टीरिया खत्म करती है.

अगर किसी मरीज में दस्त के साथ बुखार, संक्रमण के संकेत व मल में खून जैसे लक्षण नजर आते हैं, तो उन्हें ऊपर बताई गई दवाएं नहीं लेनी चाहिए.

(Read More - दस्त का आयुर्वेदिक इलाज)

एंटीबायोटिक दवाएं

अगर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल (जीआई) ट्रैक्ट में बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण दस्त हैं, तो इस स्थिति में डॉक्टर एंटीबायोटिक लिख सकते हैं. यह इंफेक्शन दूषित भोजन खाने या दूषित पानी पीने से हो सकता है. ये इंफेक्शन निम्न बैक्टीरिया के कारण हो सकता है -

डाइट पर ध्यान

खाने-पीने पर ध्यान देने से भी दस्त जैसी समस्या को तुरंत नियंत्रित किया जा सकता है. साथ ही अन्य जटिलताओं को भी कम करने में मदद मिल सकती है. इसके लिए BRAT डाइट को सबसे बेस्ट माना गया है, जिसमें केलाचावलसेब की चटनी और टोस्ट शामिल है. इसके अलावा सॉल्युबल फाइबर से युक्त फलसब्जियां, फलियां, रोटी व अनाज को डाइट में शामिल करने से फायदा हो सकता है. साथ ही इस बात का ध्यान रखना भी जरूरी है कि दिन भर में दो या तीन बार खाने की जगह थोड़ा-थोड़ा और बार-बार खाएं.

(Read More - दस्त का होम्योपैथिक इलाज)

हाइड्रेशन

दस्त लगातार रहने से शरीर में पानी की कमी हो जाती है और इलेक्ट्रोलाइट भी कम होने लगता है. इससे मरीज डिहाइड्रेशन का शिकार हो सकता है. इससे बचने के लिए मरीज को तरल पदार्थ लेना नहीं छोड़ना चाहिए. इसके लिए फलों का रस व ओआरएस घोल आदि लिया जा सकता है.

(Read More - दस्त बंद करने के लिए क्या करना चाहिए)

प्रोबायोटिक्स

सप्लीमेंट के रूप में प्रोबायोटिक लेने या दही खाने से भी दस्त बंद हो सकते हैं. प्रोबायोटिक्स के कारण आंत में अच्छे बैक्टीरिया की संख्या बढ़ती है और दस्त का कारण बनने वाले बैक्टीरिया खत्म हो सकते हैं.

(Read More - लूज मोशन में क्या खाएं)

अगर छोटे बच्चों को एक्यूट डायरिया है, तो उसे तुरंत रोकने के लिए ये उपाय फायदेमंद साबित हो सकते हैं -

रिहाइड्रेशन

दस्त की स्थिति में भी बच्चे को समय-समय पर खिलाते रहना जरूरी है. जो बच्चे स्तनपान करते हैं, उन्हें भी समय-समय पर दूध पिलाते रहें. इसके अलावा, बच्चे को ओरल रिहाइड्रेशन भी दिया जा सकता है, ताकि दस्ते के कारण शरीर में हुई पानी व इलेक्ट्रोलाइट्स की कमी को पूरा किया जा सके.

(Read More - पेचिश का इलाज)

जिंक सप्लीमेंट्स

2014 की एक मेडिकल स्टडी में कहा गया है कि बच्चों को जिंक सप्लीमेंट्स देने से एक्यूट डायरिया को रोकने में मदद मिल सकती है. इस स्टडी में कहा गया है कि 2 महीने से अधिक आयु के बच्चों को 10 दिन तक रोज 20 मिलीग्राम जिंक सप्लीमेंट देने से फायदा हो सकता है.

(Read More - नवजात शिशु के दस्त रोकने के तरीके)

जिन्हें दस्त हैं, उन्हें ऐसी चीजें खाने से बचना चाहिए, जो उनकी स्थिति को और खराब कर सकती हैं, जैसे कि -

  • कैफीन
  • शराब
  • फ्रुक्टोज युक्त खाद्य पदार्थ
  • प्रून जूस और सूखे मेवे
  • चीनी
  • वसा युक्त खाद्य पदार्थ
  • तले हुए खाद्य पदार्थ
  • चटपटा खाना

(Read More - इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम का आयुर्वेदिक इलाज)

अगर किसी वयस्क को 2 दिन से ज्यादा समय तक दस्त रहते हैं या 24 घंटे के भीतर 6 या उससे ज्यादा बार मल त्याग होता है, तो बिना देरी किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. साथ ही अगर दस्त के साथ निम्नलिखित लक्षण नजर आते हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए -

  • डिहाइड्रेशन के लक्षण
  • बुखार
  • बार-बार उल्टी होना
  • पेट या मलाशय में तेज दर्द
  • मल के साथ खून आना

अगर किसी शिशु को 24 घंटे या उससे अधिक समय तक दस्त होते हैं या निम्न प्रकार के लक्षण नजर आते हैं, तो बिना देरी किए उसे डॉक्टर के पास लेकर जाना चाहिए -

  • डिहाइड्रेशन के लक्षण
  • बुखार
  • मल के साथ खून व मवाद

(Read More - पेचिश के घरेलू उपाय)

आमतौर पर डायरिया 24 घंटे में अपने आप ठीक हो जाता है, लेकिन कुछ मामलों में यह अधिक दिनों तक भी रह सकता है. ऐसे में सही दवा लेने, कम फाइबर वाले खाद्य पदार्थ खाने और पेट को खराब करने वाले खाद्य पदार्थों से परहेज करने से इस समस्या को कुछ हद तक तुरंत ठीक किया जा सकता है.

(Read More - बदहजमी के घरेलू उपाय)

Dr. Arun Mathur

Dr. Arun Mathur

सामान्य चिकित्सा
15 वर्षों का अनुभव

Dr. Siddhartha Vatsa

Dr. Siddhartha Vatsa

सामान्य चिकित्सा
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Harshvardhan Deshpande

Dr. Harshvardhan Deshpande

सामान्य चिकित्सा
13 वर्षों का अनुभव

Dr. Supriya Shirish

Dr. Supriya Shirish

सामान्य चिकित्सा
20 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ