युवाओं के बीच एनर्जी ड्रिंक्स खासे लोकप्रिय हैं. पिछले 2 दशकों में इनकी खपत तेजी से बढ़ी है. बेशक, एनर्जी ड्रिंक्स बनाने वाली कंपनियां दवा करती हैं, इसे पीने से शारीरिक व मानसिक कार्यप्रणाली में सुधार होता है, लेकिन वैज्ञानिक अध्ययन कुछ और ही कहते हैं. अधिकतर मेडिकल रिसर्च में यही पाया गया है कि कमर्शियल एनर्जी ड्रिंक्स सेहत के लिए ठीक नहीं हैं. इन्हें पीने से डिहाड्रेशन की समस्या हो सकती है और ये अनिद्रा का भी कारण बन सकते हैं. वहीं, कुछ लोग हृदय रोग का भी शिकार हो सकते हैं.

आज इस लेख में आप जानेंगे कि एनर्जी ड्रिंक्स किस प्रकार सेहत के लिए नुकसानदायक हैं -

(और पढ़ें - प्राकृतिक एनर्जी ड्रिंक रखेंगे आपको ऊर्जावान)

  1. एनर्जी ड्रिंक्स क्या हैं?
  2. एनर्जी ड्रिंक्स के नुकसान
  3. एनर्जी ड्रिंक्स के फायदे
  4. सारांश
एनर्जी ड्रिंक्स के नुकसान व फायदे के डॉक्टर

ये एक प्रकार के नॉन एल्कोहलिक पेय पदार्थ होते हैं. इन्हें मुख्य रूप से कैफीन, एडिड शुगर व कुछ डाइटरी सप्लीमेंट से बनाया जाता है. इन्हें बनाने वाली कंपनियों का दावा है कि एनर्जी ड्रिंक्स में पाए जाने वाले ये सभी कंपाउंड शारीरिक सतर्कता, ध्यान व ऊर्जा बढ़ा सकते हैं.

आमतौर पर प्रति 237ml एनर्जी ड्रिंक्स में लगभग 80mg कैफीन होता है, जो एक औसत कप कॉफी के बराबर है. अब समस्या यह है कि कई एनर्जी ड्रिंक्स की कैन 237ml से बड़ी होती हैं. इसके अलावा, कुछ एनर्जी ड्रिंक्स में कैफीन की मात्रा ज्यादा भी होती है.

इतना ही नहीं कई एनर्जी ड्रिंक्स में ग्वाराना जैसे हर्बल एक्सट्रेक्ट भी होते हैं, जिसे कैफीन का प्राकृतिक स्रोत माना जाता है. औसतन प्रति ग्राम ग्वाराना में 40mg कैफीन होता है. इस प्रकार ऐसे एनर्जी ड्रिंक में जरूरत से ज्यादा कैफीन की मात्रा होती है, जो सेहत के लिए सही नहीं है. अधिक कैफीन की मात्रा अधिक हृदय गति और एग्जायटी का कारण बन सकती है.

(और पढ़ें - एनर्जी ड्रिंक दे रहा स्ट्रोक)

कई वैज्ञानिक शोधों में ये साबित हो चुका है कि एनर्जी ड्रिंक्स के फायदे कम और नुकसान ज्यादा हैं. इनके सेवन से व्यक्ति डिहाइड्रेशन का शिकार हो सकता है और शरीर में शुगर का लेवल बढ़ सकता है. आइए, इसके कुछ अन्य फायदों के बारे में विस्तार से जानते हैं -

डिहाइड्रेशन

एनर्जी ड्रिंक्स के सेवन से व्यक्ति को डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है. ऐसे में अगर कोई एनर्जी ड्रिंक्स लेना चाहता भी है, तो बेहतर ये है कि अपनी डाइट में पानी या जूस को नियमित और अधिक मात्रा में शामिल करें, ताकि एनर्जी ड्रिंक्स से होने वाले जोखिम से बचा जा सके.

(और पढ़ें - पेय पदार्थ के फायदे)

नींद में परेशानी

एनर्जी ड्रिंक्स में मौजूद कैफीन की मात्रा नींद से जुड़ी समस्याओं का कारण बन सकती है. कई बार यह अनिद्रा की परेशानी का भी कारण बन सकता है. ऐसे में बेहतर है कि एनर्जी ड्रिंक्स के सेवन को आदत न बनाएं, खासकर रात को एनर्जी ड्रिंक्स का सेवन बिल्कुल भी न करें. इसके अलावा, माइग्रेन के मरीज भी एनर्जी ड्रिंक्स से दूरी बनाए रखने की कोशिश करें.

(और पढ़ें - एनर्जी बढ़ाने का तरीका)

तनाव या चिंता

एनर्जी ड्रिंक्स का सेवन करने वालों में चिंतातनाव या घबराहट जैसे लक्षण या परेशानियां देखी जा सकती है. दरअसल, इसके पीछे भी एनर्जी ड्रिंक्स में मौजूद कैफीन को ही कारण माना जा सकता है. कैफीन से जुड़ी आवश्यक जानकारियों में यह बात सामने आई है कि यह चिंता या घबराहट जैसी समस्याओं का कारण बन सकता है.

(और पढ़ें - कोल्ड ड्रिंक के नुकसान)

हृदय से जुड़ी समस्याएं

एनर्जी ड्रिंक्स का सीधा असर व्यक्ति के दिल की धड़कनों पर भी पड़ सकता है. दरअसल, एनर्जी ड्रिंक्स के सेवन से हृदय रोग या हार्ट बीट के कम या ज्यादा होने से जुड़ी परेशानियां हो सकती हैं. इसका भी कारण इसमें मौजूद कैफीन को माना जा सकता है.

(और पढ़ें - ठंडा पानी पीने के फायदे)

शुगर

कई ऐसे एनर्जी ड्रिंक्स होते हैं, जिनमें शुगर की अच्छी-खासी मात्रा मौजूद होती है. ऐसे में इनके सेवन से ब्लड शुगर लेवल में बढ़ोतरी देखी जा सकती है. खासकर उन लोगों में जिनको डायबिटीज की समस्या है. 

(और पढ़ें - सोडा पीने के फायदे)

शराब के साथ सेवन

एनर्जी ड्रिंक्स को अल्कोहल के साथ मिक्स करके पीना घातक साबित हो सकता है, क्योंकि ऐसा करने से व्यक्ति की पीने की क्षमता बढ़ सकती है, जिस कारण यह घातक हो सकता है. इतना ही नहीं अगर एनर्जी ड्रिंक्स को लगातार या बार-बार पिया जाएं, तो इसकी लत भी लग सकती है.

(और पढ़ें - गर्मियों में ठंडा पानी पीना सही या गलत)

अगर कोई खिलाड़ी या नियमति रूप से जिम में भारी वर्कआउट करने वाला व्यक्ति सीमित मात्रा में एनर्जी ड्रिंक्स का सेवन करता है, तो निम्न प्रकार के फायदे हो सकते हैं -

तुरंत एनर्जी दे

जैसे कि नाम में ही एनर्जी शब्द छुपा है, तो यह कहना गलत नहीं होगा कि एनर्जी ड्रिंक्स इंस्टेट एनर्जी दे सकते हैं. यह थकावट दूर करने में सहायक हो सकते हैं. इसलिए, खिलाड़ियों व जिम करने वालों के ये लाभकारी हो सकता है.

(और पढ़ें - नींबू पानी के फायदे)

मस्तिष्क के लिए

मस्तिष्क के कार्य को बेहतर करने के लिए, एकाग्रता को बढ़ाने के लिए, मस्तिष्क को सतर्क रखने के लिए और याददाश्त को तेज करने के लिए भी एनर्जी ड्रिंक्स लाभकारी हो सकते हैं. दरअसल, इसमें मौजूद कैफीन और शुगर के मिश्रण को इसका कारण माना जा सकता है.

(और पढ़ें - गन्ने के जूस के फायदे)

यह तो स्पष्ट होता है कि एनर्जी ड्रिंक्स को अधिक मात्रा में पीने या लगातार पीने से कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. इसलिए, इसका सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए. वहीं, अगर किसी को एनर्जी ड्रिंक पीना ही है, तो होममेड एनर्जी ड्रिंक्स से बेहतर और कोई विकल्प हो ही नहीं सकता. जितना हो सके घरेलू उपायों को अपनाएं और अपने आप को स्वस्थ और एनर्जेटिक रखने की कोशिश करें.

(और पढ़ें - ग्लूकोज के फायदे)

Dr. Pushpendra Singh

Dr. Pushpendra Singh

सामान्य चिकित्सा
8 वर्षों का अनुभव

Dr. Afaque Rana

Dr. Afaque Rana

सामान्य चिकित्सा
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Monalisa

Dr. Monalisa

सामान्य चिकित्सा
2 वर्षों का अनुभव

Dr. Aadhaar Singhal

Dr. Aadhaar Singhal

सामान्य चिकित्सा
1 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ