पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम - Post Orgasmic Illness Syndrome in Hindi

Dr. Ayush PandeyMBBS,PG Diploma

October 31, 2022

October 31, 2022

पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम
पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम

पुरुषों और महिलाओं को कई तरह की यौन समस्याओं का सामना करना पड़ता है. कुछ यौन समस्याएं ऐसी होती हैं, जो सेक्स को मुश्किल बना देती हैं. वहीं, कुछ यौन समस्याएं सेक्स या हस्तमैथुन के बाद होती हैं. इसमें पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम यानी पीओआईएस शामिल है. पीओआईएस एक दुर्लभ बीमारी है, जिसके लक्षण अक्सर सेक्स के बाद महसूस होते हैं. इसके लक्षणों में चिंता, कमजोरी व आलस आदि शामिल है. इस समस्या को कुछ दवाओं व एचसीजी इंजेक्शन के जरिए ठीक किया जा सकता है.

आज इस लेख में आप पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम के लक्षण, कारण व इलाज के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - सेक्स समस्याओं के लिए अकरकरा के फायदे)

पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम क्या है? - What is Post Orgasmic Illness Syndrome in Hindi

पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम (पीओआईएस) एक दुर्लभ विकार है. इसमें पुरुषों को सेक्स के दौरान होने वाले स्खलन के बाद परेशानी होती है. पीओआईएस की बीमारी वैसे तो महिलाओं और पुरुषों दोनों को हो सकती है, लेकिन पुरुषों को इसका जोखिम अधिक होता है. इस स्थिति में पुरुषों को थकान, आंखों में जलन व कमजोरी जैसे कई लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है.

आपको बता दें कि पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम कुछ ही मामलों में देखने को मिलता है. इसमें सेक्स के बाद पुरुषों को फ्लू जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं. इसके अलावा, हस्तमैथुन के माध्यम से भी पीओआईएस के लक्षण महसूस हो सकते हैं. पीओआईएस के लक्षण संभोग या हस्तमैथुन के कुछ मिनट या घंटे के बाद नजर आ सकते हैं. ये लक्षण पुरुषों में कई दिनों तक रह सकते हैं. अधिकतर मामलों में पीओआईएस के लक्षण 1 सप्ताह में ठीक हो जाते हैं. 

पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम दो प्रकार के होते हैं. इसमें प्राइमरी और सेकंडरी पीओआईएस शामिल हैं. प्राइमरी पीओआईस वाले लोगों को किशोरावस्था के बाद से सेक्स के बाद पीओआईएस के लक्षण महसूस हो सकते हैं. वहीं, सेकंडरी पीओआईएस युवावस्था के बाद शुरू हो सकता है.

(और पढ़ें - सेक्स लाइफ में बाधा बनने वाली बीमारियां)

पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम के लक्षण - Post Orgasmic Illness Syndrome Symptoms in Hindi

वैसे तो पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम दुर्लभ होता है, लेकिन जिन लोगों को भी यह समस्या होती है, उसे यह परेशान कर सकती है. इस स्थिति में व्यक्ति को कई लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है. पीओआईएस के लक्षण निम्न हैं -

(और पढ़ें - सेक्स की लत का इलाज)

पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम के कारण - Post Orgasmic Illness Syndrome Causes in Hindi

पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम के कारणों के बारे में अभी कोई सटीक जानकारी उपलब्ध नहीं है. वैज्ञानिक भी अभी पीओआईएस के कारणों का पता नहीं लगा पाए हैं, लेकिन एलर्जी को इसका एक मुख्य कारण माना जा सकता है. पीओआईएस के कारण इस प्रकार हैं -

एलर्जी

एलर्जी पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम का एक मुख्य कारण हो सकता है. इस स्थिति में व्यक्ति को किसी भी चीज से एलर्जी हो सकती है. कुछ पुरुषों को अपने ही वीर्य से एलर्जी हो सकती है. ऐसे में स्खलन के बाद उन्हें पीओआईएस के लक्षणों का अनुभव हो सकता है.

(और पढ़ें - सेक्स लाइफ को नुकसान पहुंचाने वाली आदतें)

ऑटोइम्यून डिसऑर्डर

ऑटोइम्यून डिसऑर्डर भी पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम का एक कारण हो सकता है. इसलिए, अगर किसी को भी ऑटोइम्यून बीमारी है, तो पीओआईएस होने की आशंका अधिक हो सकती है.

(और पढ़ें - कामेच्छा की कमी का इलाज)

असंतुलित हार्मोन

इसके अलावा हार्मोन असंतुलन भी पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम का कारण हो सकता है. ऐसा लो प्रोजेस्टेरोन, लो कोर्टिसोललो टेस्टोस्टेरोनहाई प्रोलैक्टिनहाइपोथायरायडिज्म या कम डीएचईए के कारण हो सकता है.

(और पढ़ें - सेक्स न करने से होने वाले नुकसान)

पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम का इलाज - Post Orgasmic Illness Syndrome Treatment in Hindi

पीओआईएस के लिए कोई भी विशिष्ट इलाज नहीं है, लेकिन गंभीर मामलों में कुछ दवाइओं और इंजेक्शन के जरिए इस समस्या को कम किया जा सकता है. 

दवाइयां

एंटीहिस्टामाइन, सेलेक्टिव सेरोटोनिन रीअपटेक इनहिबिटर (एसएसआरआई) या बेंजोडायजेपाइन जैसी दवाइयां पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकती हैं.

(और पढ़ें - सेक्स पावर कम होने का इलाज)

एचसीजी इंजेक्शन

एचसीजी इंजेक्शन भी पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम का इलाज कर सकता है. दरअसल, कई बार टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होने पर पीओआईएस की दिक्कत हो जाती है. ऐसे में एचसीजी इंजेक्शन लगाना फायदेमंद हो सकता है. कई अध्ययनों में साबित हो चुका है कि एचसीजी इंजेक्शन टेस्टोस्टेरोन को सामान्य कर सकता है. इससे पीओआईएस के लक्षणों में कमी देखने को मिल सकती है.

(और पढ़ें - पुरुषों के लिए सेक्स टिप्स)

यौन गतिविधि कम करना

पीओआईएस के लक्षणों से बचने के लिए यौन गतिविधि से बचा जा सकता है. वहीं, अगर सेक्स किया भी जाता है, तो स्खलन से बचने की कोशिश कर सकते हैं. साथ ही अच्छे मूड में रहकर भी इसके लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है.

(और पढ़ें - सेक्स पावर बढ़ाने के घरेलू उपाय)

सारांश – Summary

पोस्ट ऑर्गेज्मिक इलनेस सिंड्रोम एक दुर्लभ बीमारी होती है. यह बीमारी पुरुषों में अधिक देखने मिलती है. इसमें पुरुषों को फ्लू जैसे लक्षणों का अनुभव हो सकता है. इस स्थिति में पुरुषों को सेक्स के बाद थकान, कमजोरी, आलस च सिरदर्द जैसे लक्षणों का अनुभव हो सकता है. पीओआईएस के कई कारण हो सकते हैं. इसमें एलर्जी और ऑटोइम्यून जैसी बीमारियां शामिल हो सकती हैं. पीओआईएस के लक्षण संभोग के बाद कुछ दिनों तक रह सकते हैं. अगर किसी को भी संभोग के बाद इनमें से कोई लक्षण महसूस हो, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

(और पढ़ें - सेक्स पावर के लिए होम्योपैथिक दवा)



cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ