कई बार हाथ-पैरों में इतनी ज्यादा खुजली होती है कि बर्दाश्त से बाहर होने लगती है. हाथ-पैरों में खुजली ड्राई स्किन, सोरायसिस, एक्जिमा व डायबिटीज के कारण हो सकती है. हाथ-पैरों में होने वाली खुजली के इलाज के तौर पर कोल्ड कंप्रेस, टॉपिकल क्रीम, स्किन को मॉइश्चराइज करने से मदद मिल सकती है.

आज इस लेख में आप हाथ-पैरों में खुजली के कारण और इलाज के बारे में जानेंगे -

(और पढ़ें - जॉक खुजली)

  1. हाथ-पैरों में खुजली के कारण
  2. सारांश
  3. हाथ-पैरों में खुजली का इलाज
हाथ-पैरों में खुजली के कारण व इलाज के डॉक्टर

अगर ठंड के मौसम में हाथ-पैरों में खुजली हो रही है, तो इसकी वजह ड्राई स्किन हो सकती है. इसके अलावा, सोरायसिस, एक्जिमा, एलर्जी व डायबिटीज के कारण भी हाथ-पैरों मे खुजली हो सकती है. आइए, हाथ-पैरों में खुजली के कारणों के बारे में विस्तार से जानते हैं -

डायबिटीज

डायबिटीज के शुरुआत में हाथ-पैरों पर खुजली होना आम बात है. ऐसा तब होता है, जब डायबिटीज आउट ऑफ कंट्रोल रहती है और डायबिटीज के मैनेज होते ही यह खुजली अपने आप खत्म हो जाती है.

(और पढ़ें - खुजली क्यों होती है)

सिरोसिस

यह क्रोनिक लिवर डिजीज का एक कॉम्प्लिकेशन है, जिसके होने पर खुजली होना आम बात है. इसके कारण का पता नहीं लग पाया है, लेकिन यह जरूर है कि ऐसा लाइसोफॉस्फैटिडिक एसिड और बाइल साल्ट के बढ़े हुए स्तर की वजह से होता है.

(और पढ़ें - ब्रेस्ट (स्तन) में खुजली के घरेलू उपाय)

एलर्जी

किसी चीज को छूने से स्किन एलर्जी हो सकती है, जिसे एलर्जिक कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस कहा जाता है. इसके लक्षण तुरंत नहीं नजर आते, लेकिन कुछ समय बाद हाथ और पैरों में खुजली होने शुरू हो जाती है. लैटेक्स, खुशबू, टॉपिकल दवाइयां व पौधे आदि से एलर्जी होने पर हाथ-पैरों में खुजली हो सकती है.

(और पढ़ें - खुजली का आयुर्वेदिक इलाज)

स्केबीज

स्केबीज ऐसा इंफेक्शन है, जो यदि हाथ-पैरों में हो जाए, तो खुजली का कारण बनता है. यह संक्रमित व्यक्ति से आसानी से किसी अन्य को हो सकता है. इससे त्वचा पर चकत्ते भी बन सकते हैं.

(और पढ़ें - खुजली दूर करने के घरेलू उपाय)

एक्जिमा

यह ऐसी अवस्था है, जिसमें स्किन में सूजन हो जाती है. इसे डिहाइड्रोटिक डर्मेटाइटिस कहा जाता है. इसके होने पर हाथ और पैरों में बहुत ज्यादा खुजली होती है. एक्जिमा के होने के कारण का पूरी तरह से पता नहीं चल पाया है, लेकिन यह एलर्जी रिएक्शन और फंगल इंफेक्शन से हो सकता है.

(और पढ़ें - पूरे शरीर पर खुजली की दवा)

सोरायसिस

जब स्किन के सेल्स बहुत तेजी से ग्रो करते हैं और स्किन की सतह पर जम जाते हैं, तो इसे सोरायसिस कहा जाता है. सोरायसिस की स्थिति में इन पर लाल रंग के पैचेज भी हो जाते हैं और कई बार तो इनमें पस भी भर जाता है. इस तरह की स्थिति में हाथ-पैरों में बहुत ज्यादा खुजली होती है.

(और पढ़ें - हाथ फटने का उपचार)

ड्राई स्किन

कई बार हाथ-पैरों में इतनी ज्यादा खुजली होती है कि रुकने का नाम नहीं लेती. ऐसा अमूमन सर्दियों के मौसम में देखा जाता है, लेकिन कई बार गर्मी के मौसम में जब व्यक्ति एसी में बहुत ज्यादा रहता है और स्किन को मॉइश्चराइज नहीं करता है, तो भी ड्राई स्किन की समस्या हो जाती है. ऐसे में हाथ-पैरों में खुजली होना आम बात है. 

(और पढ़ें - खुजली का होम्योपैथिक इलाज)

एलर्जिक रिएक्शन, डायबिटीज, सिरोसिस व स्केबीज जैसी कंडीशन की वजह से हाथ-पैरों में खुजली हो सकती है. कोल्ड कंप्रेस, टॉपिकल क्रीम व अल्ट्रावॉयलेट लाइट थेरेपी जैसे इलाज हाथ-पैरों में खुजली को दूर करने में मददगार साबित हो सकते हैं, लेकिन किसी भी तरह के इलाज से पहले डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है.

(और पढ़ें - गले में खुजली का इलाज)

हाथ-पैरों में खुजली को ठीक करने में कोल्ड कंप्रेस, टॉपिकल क्रीम, अल्ट्रावॉयलेट लाइट थेरेपी, ओटमील बाथ जैसे इलाज से मदद मिलती है. आइए, हाथ-पैरों में खुजली के इलाज के बारे में विस्तार से जानते हैं -

ओटमील बाथ

ओटमील वाले गर्म पानी में हाथ-पैर को डुबोकर रखने से ड्राई स्किन से छुटकारा मिल सकता है. जैसे ही ड्राई स्किन को सूदिंग महसूस होता है, तो खुजली अपने आप कम हो जाती है. ओटमील बाथ को तैयार करने के लिए एक कप ओट्स को फूड प्रोसेसर में पीसकर गर्म पानी में मिला दें. फिर इसी पानी में प्रभावित भाग को 10-20 मिनट तक डुबोकर रखने से खुजली दूर होने में मदद मिल सकती है. 

(और पढ़ें - आंखों में खुजली के घरेलू उपाय)

एंटीहिस्टामाइन

यदि किसी तरह के एलर्जिक रिएक्शन की वजह से खुजली हो रही है, तो एंटीहिस्टामाइन का इस्तेमाल करने से राहत मिलती है. एंटीहिस्टामाइन दवाइयों के सेवन से एलर्जी की वजह से होने वाली खुजली और सूजन से छुटकारा मिलता है.

(और पढ़ें - लिंग में खुजली के घरेलू उपाय)

अल्ट्रावॉयलेट लाइट थेरेपी

इसे फोटो थेरेपी भी कहा जाता है, जिसमें प्रभावित स्किन को एक हफ्ते में दो से तीन बार अल्ट्रावायलेट पायलट लाइट दी जाती है. सोरायसिस और एक्जिमा की स्थिति में यह थेरेपी काम आती है.

(और पढ़ें - पतंजलि में खुजली की दवा)

स्किन में नमी

यदि हाथ-पैरों में खुजली ड्राई स्किन का नतीजा है, तो इसका मतलब है कि स्किन को सही हाइड्रेशन की जरूरत है. ऐसे में यदि स्किन को अच्छी तरह से मॉइश्चराइज किया जाए, तो इससे ड्राइनेस कम होगी और खुजली से छुटकारा मिलेगा. 

(और पढ़ें - स्किन एलर्जी के लिए होम्योपैथिक इलाज)

टॉपिकल दवाइयां

जिन क्रीम में मेंथॉल या कपूर जैसे इंग्रेडिएंट्स होते हैं, वो स्किन पर नर्व की सेंसिटिविटी को कम कर देते हैं. इससे खुजली से राहत मिल सकती है.

(और पढ़ें - जांघों के बीच फंगल इंफेक्शन के घरेलू उपाय)

टॉपिकल कॉर्टिकोस्टेरॉइड

हाथ-पैरों में होने वाली खुजली से राहत दिलाने में टॉपिकल स्टेरॉयड अहम भूमिका निभाते हैं. खासकर, जब समस्या एलर्जी कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस के कारण हो, तो इससे बहुत राहत मिलता है.

(और पढ़ें - सिर में खुजली के लिए घरेलू उपाय)

कोल्ड कंप्रेस

हाथ-पैरों में ज्यादा खुजली होने पर कोल्ड कंप्रेस का इस्तेमाल करने पर सूजन में कमी आती है और खुजली भी कम होती है. यदि कोल्ड कंप्रेस न हो, तो इसकी जगह पर आइस पैक का भी इस्तेमाल किया जा सकता है. इसके लिए एक गीले और ठंडे टॉवल को हाथ-पैरों पर 10 से 20 मिनट तक लपेटने से खुजली से राहत मिलती है. इस टॉवल के अंदर बर्फ के टुकड़े रखकर भी स्किन पर लगाया जा सकता है.

(और पढ़ें - कान की खुजली दूर करने के उपाय)

Dr Rahul Gam

Dr Rahul Gam

संक्रामक रोग
8 वर्षों का अनुभव

Dr. Arun R

Dr. Arun R

संक्रामक रोग
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Neha Gupta

Dr. Neha Gupta

संक्रामक रोग
16 वर्षों का अनुभव

Dr. Anupama Kumar

Dr. Anupama Kumar

संक्रामक रोग

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ