• हिं

महिला हो या पुरुष, साइकिलिंग करना हर किसी के लिए फायदेमंद होता है. रोजाना साइकिलिंग करने से आप हमेशा फिट और हेल्दी रह सकते हैं. साइकिलिंग को बेस्ट फिजिकल एक्टिविटी माना जाता है. साइकिलिंग वेट लॉस में मदद कर सकता है. साथ ही साइकिलिंग करने से ब्लड शुगर व हाई ब्लड प्रेशर भी नियंत्रण में रहता है. जो लोग साइकिलिंग करते हैं, उनमें अन्य लोगों की तुलना में हृदय रोग और स्ट्रोक होने का जोखिम भी काफी कम रहता है. वहीं, कुछ लोगों का मानना है कि साइकिलिंग करने से पुरुष प्रजनन क्षमता प्रभावित हो सकती है.

यहां हमने एक लिंक दिया है, जिस पर क्लिक करके आप जान सकते हैं कि पुरुष बांझपन का इलाज क्या है.

आज इस लेख में आप जानेंगे कि साइकल चलाने से पुरुष की प्रजनन क्षमता पर किस प्रकार असर पड़ता है -

  1. साइकिलिंग का पुरुष प्रजनन क्षमता पर असर
  2. क्या साइकिलिंग प्रोस्टेट कैंसर का कारण बन सकता है?
  3. सारांश
क्या साइकिलिंग से पुरुष प्रजनन क्षमता प्रभावित होती है? के डॉक्टर

साइकिलिंग का पुरुष प्रजनन क्षमता पर प्रभाव जानने के लिए एक वैज्ञानिक अध्ययन किया गया है. इस अध्ययन में साबित हुआ है कि साइकिल चलाने से पुरुष प्रजनन क्षमता प्रभावित नहीं होती है यानी साइकिल चलाने से पुरुष बांझपन नहीं होता है.

अध्ययन में साबित हुआ है कि बांझपनइरेक्टाइल डिसफंक्शन और साइकिल चलाने के बीच कोई संबंध नहीं होता है. पुरुष कितने भी घंटे साइकिल चला सकते हैं. इससे पुरुष बांझपन नहीं होता है, लेकिन अधिक घंटों तक साइकिल चलाने से बचना चाहिए. अगर किसी पुरुष को फिर भी बांझपन का सामना करना पड़ रहा है, तो इसके अन्य कारण हो सकते हैं. रिसर्च में पता चला है कि साइकिल चलाने से नसों पर पड़ने वाले दबाव को दूर करने में मदद मिल सकती है.

(और पढ़ें - पुरुष बांझपन का आयुर्वेदिक इलाज)

साइकिल चलाने से पुरुष प्रजनन क्षमता प्रभावित नहीं होती है, लेकिन अध्ययन की मानें, तो साइकिल चलाने वाले 50 प्रतिशत से अधिक पुरुषों को प्रोस्टेट कैंसर का जोखिम होता है. रिसर्च में कहा गया है कि साइकिल चलाने से प्रोटीन पीएसए (प्रोस्टेट स्पेसिफिक एंटीजन) का स्तर बढ़ सकता है, जो प्रोस्टेट कैंसर का लक्षण हो सकता है. प्रोटीन पीएसए का बढ़ा हुआ स्तर सूजन पैदा कर सकता है. अध्ययन में पाया गया है कि सप्ताह में 8.5 घंटे से ज्यादा साइकिलिंग करने से प्रोस्टेट कैंसर का जोखिम उच्च होता है.

(और पढ़ें - पुरुषों बांझपन के लिए फोलिक एसिड)

साइकिलिंग करना सेहत के लिए फायदेमंद होता है. इससे व्यक्ति हमेशा फिट और हेल्दी रह सकता है. साइकिल चलाने से कई तरह की बीमारियों से भी बचा जा सकता है. कई लोगों के बीच मिथ है कि साइकिलिंग करने से पुरुष प्रजनन क्षमता प्रभावित होती है, लेकिन अध्ययन में साबित हुआ है कि साइकिल चलाने से पुरुष प्रजनन क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है. साइकिलिंग करने से बांझपन नहीं होता है.

(और पढ़ें - बांझपन से छुटकारा पाने के लिए योग)

पुरुष हो या महिला, दोनों में से कोई भी अपनी प्रजनन क्षमता को बेहतर करने के लिए Myupchar Ayurveda Prajnas का सेवन कर सकता है -

Dr. Anurag Kumar

Dr. Anurag Kumar

पुरुष चिकित्सा
19 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ