हार्ट कैंसर - Heart Cancer in Hindi

Dr. Nabi Darya Vali (AIIMS)MBBS

September 22, 2022

September 22, 2022

हार्ट कैंसर
हार्ट कैंसर

कैंसर एक गंभीर बीमारी है. इसके कई प्रकार होते हैं, जिसमें हार्ट कैंसर भी शामिल है. हार्ट कैंसर तब होता है, जब रोगग्रस्त कोशिकाएं हृदय में नियंत्रण से बाहर हो जाती हैं. ये कोशिकाएं एक ट्यूमर बनाती हैं, जिसे प्राथमिक हृदय कैंसर कहा जाता है. इसके अलावा, जब कैंसर की कोशिकाएं पास के अंगों में ट्यूमर से हृदय में फैलती हैं, तो इस स्थिति को सेकेंडरी हार्ट कैंसर कहा जाता है. हार्ट कैंसर होने पर व्यक्ति को सांस लेने में दिक्कत और छाती में दर्द जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं.

आज इस लेख में आप हार्ट कैंसर के लक्षण, कारण व इलाज के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - मुंह के कैंसर का इलाज)

हार्ट कैंसर के लक्षण - Heart Cancer Symptoms in Hindi

हार्ट कैंसर होने पर आपको कई तरह के लक्षण महसूस हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं -

रक्त प्रवाह में रुकावट

जब ट्यूमर हार्ट चैंबर या हार्ट वाल्व में बढ़ता है, तो इस स्थिति में रक्त प्रवाह में रुकावट आ सकती है. इस स्थिति में मरीज को सांस लेने में तकलीफ और थकान महसूस हो सकती है. 

(और पढ़ें - लिवर कैंसर का इलाज)

हृदय की मांसपेशियों में शिथिलता

जब एक ट्यूमर हृदय की मांसपेशियों की दीवारों में बढ़ता है, तो वे कठोर हो सकते हैं. ऐसे में हृदय की मांसपेशियां रक्त को अच्छी तरह से पंप करने में असमर्थ हो सकती हैं. इस स्थिति में आपको सांस लेने में कठिनाई, सूजे हुए पैर, छाती में दर्द, कमजोरी और थकान महसूस हो सकती है.

(और पढ़ें - गाल के कैंसर का इलाज)

अनियमित दिल की धड़कन

अनियमित दिल की धड़कन हार्ट कैंसर का एक आम लक्षण होता है. इस स्थिति में दिल या तो धीरे-धीरे धड़कता है या फिर तेजी से धड़कता है. 

(और पढ़ें - फेफड़ों के कैंसर का इलाज)

हार्ट कैंसर के कारण - Heart Cancer Causes in Hindi

अभी तक हार्ट कैंसर के कारणों के बारे में पूरी तरह से जानकारी नहीं मिल पाई है. फिर भी हार्ट कैंसर के कुछ जोखिम कारक माने गए हैं, जो इस प्रकार हैं -

आयु

हार्ट कैंसर का जोखिम कारक उम्र हो सकता है. इस प्रकार का कैंसर वयस्कों में अधिक देखने को मिलता है. वहीं, कुछ मामलों में यह रोग शिशुओं व बच्चों को भी हो सकता है.

(और पढ़ें - मसूड़ों के कैंसर का इलाज)

आनुवंशिक

अगर घर व परिवार में किसी व्यक्ति को हार्ट कैंसर है, तो परिवार में किसी अन्य व्यक्ति को भी इसके होने की आशंका अधिक हो सकती है. आपको बता दें कि रबडोमायोमा वाले अधिकतर बच्चों में ट्यूबलर स्केलेरोसिस होता है, जो डीएनए में परिवर्तन के कारण होता है.

(और पढ़ें - टॉन्सिल कैंसर का इलाज)

खराब इम्यून सिस्टम

जिन लोगों का इम्यून सिस्टम खराब होता है, उनमें हार्ट कैंसर होने की आशंका अधिक होती है. इसलिए, इससे बचने के लिए सभी को अपने इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाना चाहिए.

(और पढ़ें - ब्रेन कैंसर का इलाज)

हृदय के स्वास्थ्य के लिए प्राकृतिक जड़ी-बूटियों से बनाई गई Myupchar Ayurveda Hridyas दवा का उपयोग किया जा सकता है. इसे खरीदने का लिंक नीचे दिया गया है -

हार्ट कैंसर का इलाज- Heart Cancer Treatment in Hindi

हार्ट कैंसर का इलाज इसके प्रकार पर निर्भर करता है. वैसे तो सर्जरी के माध्यम से ही इसका इलाज संभव हो पाता है, लेकिन जब हार्ट कैंसर शुरुआत में ही पकड़ में आ जाता है, तो इसे दवाइयों आदि की मदद से ठीक किया जा सकता है. हार्ट कैंसर का इलाज इस प्रकार है -

बिनाइन ट्यूमर

  • बिनाइन ट्यूमर के अधिकतर मामलों को ठीक किया जा सकता है. इस ट्यूमर को पूरी तरह से हटाया जा सकता है.
  • जब एक ट्यूमर बहुत बड़ा होता है या फिर कई ट्यूमर होते हैं, तो इसका जो हिस्सा हृदय की दीवारों के अंदर नहीं होता है, उसे हटाने से लक्षणों में सुधार हो सकता है.
  • इस मामले में तुंरत सर्जरी नहीं की जाती है, बल्कि इसके लिए इकोकार्डियोग्राम टेस्ट किया जा सकता है. इससे हार्ट कैंसर के लक्षणों की बढ़ती या घटती रफ्तार के बारे में पता चल सकता है. 

(और पढ़ें - कैंसर का आयुर्वेदिक इलाज)

मैलिग्नेंट ट्यूमर

  • यह कैंसर काफी गंभीर हो सकता है. यह तेजी से बढ़ता जाता है और हृदय को पूरी तरह से क्षतिग्रस्त कर सकता है. इस प्रकार के कैंसर का इलाज मुश्किल होता है. इसका इलाज सर्जरी से ही किया जा सकता है.
  • इसके साथ ही कभी-कभी ट्यूमर के विकास को धीमा करने और हार्ट कैंसर के लक्षणों में सुधार करने के लिए कीमोथेरेपी और रेडिएशन चिकित्सा का उपयोग किया जाता है.

(और पढ़ें - स्किन कैंसर का इलाज)

सेकेंडरी हार्ट कैंसर

  • सेकेंडरी हार्ट कैंसर की स्थिति में कैंसर हृदय के अलावा अन्य अंगों में भी फैल चुका होता है. इसका इलाज संभव नहीं होता है.
  • इसका इलाज सर्जरी के द्वारा भी नहीं किया जाता है. इसके लिए कीमोथेरेपी और रेडिएशन चिकित्सा ही एकमात्रा विकल्प होता है. 

(और पढ़ें - कैंसर के लिए होम्योपैथिक दवा)

सारांश – Summary

हार्ट कैंसर एक गंभीर बीमारी हो सकती है. जब ट्यूमर हृदय के साथ ही दूसरे अंगों में भी फैलने लगता है, तो यह जानलेवा हो सकता है. इसलिए, अगर किसी को हार्ट कैंसर का कोई भी लक्षण महसूस होता है, तो इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. बिना देरी किए डॉक्टर से मिलना चाहिए और उचित इलाज करवाना चाहिए. अगर कैंसर को शुरुआत में ही पकड़ लिया जाए, तो इसका इलाज आसान और संभव होता है.

(और पढ़ें - जीभ के कैंसर का इलाज)



cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ