उच्च रक्तचाप की तरह लो ब्लड प्रेशर भी गंभीर अवस्था है. अगर यह समस्या लगातार रहती है, तो डॉक्टर से मिलकर इसका उचित इलाज करवाना जरूरी है. लो ब्लड प्रेशर के गंभीर होने पर हृदय व मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव पड़ता है. इसलिए, लो ब्लड प्रेशर का सही इलाज जरूरी. कुछ मामलों में लो ब्लड प्रेशर को ठीक करने के लिए डॉक्टर दवा लेने की सलाह दे सकते हैं. इसके लिए फ्लुड्रोकोर्टिसोन व मिडोड्रिन जैसी दवाएं प्रमुख हैं.

आज इस लेख में हम लो ब्लड प्रेशर की एलोपैथिक दवाओं के बारे में बताएंगे -

(और पढ़ें - लो बीपी के घरेलू उपाय)

  1. लो ब्लड प्रेशर की एलोपैथिक मेडिसिन
  2. सारांश
लो ब्लड प्रेशर के लिए दवाएं के डॉक्टर

यदि डाइट में बदलाव लाने और लाइफस्टाइल में सुधार लाने के बावजूद लो ब्लड प्रेशर का स्तर सामान्य नहीं होता है, तो ऐसे में दवाओं का सेवन करना पड़ सकता है. डॉक्टर फ्लुड्रोकोर्टिसोन व मिडोड्रिन आदि दवाइयां दे सकते हैं. ये दवाइयां ब्लड वॉल्यूम को बूस्ट करके लो ब्लड प्रेशर के लेवल को सामान्य स्तर पर लाने में मदद करती हैं. आइए, लो ब्लड प्रेशर की दवाओं के बारे में जानते हैं -

फ्लुड्रोकोर्टिसोन - Fludrocortisone

यह दवा ब्लड वॉल्यूम को बूस्ट करती है. इस दवा के सेवन से लो ब्लड प्रेशर का लेवल नॉर्मल होने लगता है.

(और पढ़ें - लो ब्लड प्रेशर डाइट चार्ट)

मिडोड्रिन - Midodrine

मिडोड्रिन दवा उन लोगों को दी जाती है, जिन्हें क्रोनिक ऑर्थोस्टैटिक हाइपोटेंशन की दिक्कत रहती है. यह ब्लड वेसल्स को चौड़ा करके ब्लड प्रेशर को बढ़ाने में सहायता कर सकती है.

(और पढ़ें - लो बीपी का आयुर्वेदिक इलाज)

एंजियोटेंसिन 2 - Angiotensin II

जिन लोगों को सेप्टिक शॉक या डिस्ट्रीब्यूटिव शॉक के साथ लो ब्लड प्रेशर की समस्या रहती है, उन्हें ये दवा दी जाती है. इस दवा के सेवन से ब्लड प्रेशर को बढ़ाने में मदद मिल सकती है.

(और पढ़ें - बीपी लो होने पर क्या करें)

मेफेंटरमाइन - Mephentermine

मेफेंटरमाइन दवा एक कार्डियक स्टिमूलेंट है, जो लो ब्लड प्रेशर की समस्या को ठीक करने में मददगार होती है. ये दवा हृदय की पंप करने की गतिविधि को बढ़ाने का काम करती है, जिससे रक्त वाहिकाओं में रक्त का प्रवाह तेज होता है.

(और पढ़ें - लो बीपी का होम्योपैथिक इलाज)

नोरपीनेफ्राइन - Norepinephrine

यह दवा उन मरीजों को दी जाती है, जिन्हें लो ब्लड प्रेशर सर्जिकल प्रोसेस या अन्य खास मेडिकल कंडीशन की वजह से हो जाता है. साथ ही लो ब्लड प्रेशर के गंभीर अवस्था में पहुंचने पर भी इसी दवा को दिया जाता है.

(और पढ़ें - लो बीपी में क्या खाना चाहिए)

फेनिलेफ्राइन - Phenylephrine

फेनिलेफ्राइन एक अल्फा एगोनिस्ट है, जिसका इस्तेमाल लो ब्लड प्रेशर में सुधार लाने के लिए किया जाता है. यह दवा सिस्टोलिक व डायस्टोलिक रक्तचाप के स्तर हो सही करती है.

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में बीपी लो)

टेरलीप्रेसिन - Terlipressin

टेरलीप्रेसिन दवा का इस्तेमाल लो ब्लड प्रेशर को मैनेज करने के साथ-साथ सेप्टिक शॉक व हेप्टोरिनल सिंड्रोम को ठीक करने के लिए भी दिया जाता है. 

(और पढ़ें - नॉर्मल ब्लड प्रेशर कितना होना चाहिए)

यदि लो ब्लड प्रेशर डॉक्टर द्वारा सुझाए गए उपायों के बावजूद नॉर्मल लेवल पर नहीं आता है, तो डॉक्टर कुछ एलोपैथिक मेडिसिन लेने की सलाह दे सकते हैं. ऐसे में लो ब्लड प्रेशर को संतुलित करने के लिए फ्लुड्रोकोर्टिसोन व मिडोड्रिन जैसी अंग्रेजी दवाएं कारगर साबित हो सकती हैं. ध्यान रहे कि इन दवाओं का सेवन हमेशा डॉक्टर से पूछकर ही करना चाहिए, क्योंकि डॉक्टर ही बेहतर तरीके से बता सकते हैं कि किस मरीज को कौन-सी दवा देनी है.

Dr. Shekar M G

Dr. Shekar M G

कार्डियोलॉजी
18 वर्षों का अनुभव

Dr. Janardhana Reddy D

Dr. Janardhana Reddy D

कार्डियोलॉजी
20 वर्षों का अनुभव

Dr. Abhishek Sharma

Dr. Abhishek Sharma

कार्डियोलॉजी
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Abid S

Dr. Abid S

कार्डियोलॉजी
7 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ