क्रेपी स्किन उम्र बढ़ने की वजह से होती है, जिसमें त्वचा समय के साथ पतली हो जाती है और लूज दिखने लगती है. उम्र बढ़ने की सामान्य प्रक्रिया में त्वचा का पतला होना शामिल है. हालांकि, यह सूरज के डैमेज की वजह से भी हो सकता है. क्रेपी स्किन के इलाज में ओवर द काउंटर दवाइयां, लेजर ट्रीटमेंट, अल्ट्रासाउंड व सर्जरी के साथ घरेलू इलाज भी मददगार है.

आज इस लेख में आप क्रेपी स्किन के लक्षण, कारण और इलाज के बारे में जानेंगे -

(और पढ़ें - आंखों के नीचे की झुर्रियों के लिए घरेलू उपाय)

  1. क्रेपी स्किन के लक्षण
  2. क्रेपी स्किन के कारण
  3. क्रेपी स्किन का इलाज
  4. फिलर्स
  5. सारांश
क्रेपी स्किन के लक्षण, कारण व इलाज के डॉक्टर

क्रेपी स्किन काफी हद तक झुर्रियों की तरह ही नजर आती है, जिसमें त्वचा पतली व झुर्रियों से भरी दिखने लगती है, लेकिन यह झुर्रियों वाली त्वचा से अलग होती है, जो शरीर के किसी भी हिस्से पर हो सकती है. इसमें चेहरा, बांह और पैर शामिल हैं. त्वचा से इलास्टिसिटी गायब हो जाने से क्रेपी स्किन नजर आने लगती है. 

(और पढ़ें - कम उम्र में झुर्रियों के लिए उपाय)

क्रेपी स्किन के कई कारण हैं, जिसमें सन डैमेज, उम्र का बढ़ना, ज्यादा वजन होना और कुछ दवाइयों का सेवन शामिल है. आइए, क्रेपी स्किन के कारण के बारे में विस्तार से जानते हैं -

सूरज से डैमेज

क्रेपी स्किन का सबसे मुख्य और आम कारण सूरज से होने वली क्षति है. सूरज की खतरनाक किरणें त्वचा के इलास्टिसिटी को तोड़ देती हैं, जिससे त्वचा ढीली और पतली नजर आने लगती है. 40 की उम्र पार कर जाने के बाद अमूमन क्रेपी स्किन के लक्षण नजर आने लगते हैं.

(और पढ़ें - झुर्रियों के लिए तेल)

उम्र का बढ़ना

उम्र बढ़ने के साथ त्वचा इलास्टिसिटी और कोलेजन को खोने लगती है, जिससे त्वचा पतली हो जाती है और क्रेपी दिखने लगती है. इसके साथ ही शरीर फाइबर का भी कम निर्माण करने लगता है, जो त्वचा को मुलायम रखने में मदद करता है. उम्र बढ़ने के साथ त्वचा में कम तेल का निर्माण भी होने लगता है. ये तेल त्वचा की सुरक्षा करने के साथ त्वचा को नम रखने में भी मदद करता है.

(और पढ़ें - प्रीमेच्योर एजिंग का कारण बनने वाली आदतें)

ज्यादा वजन

यदि किसी व्यक्ति का वजन ज्यादा हो जाता है, तो उसकी त्वचा खींच जाती है और पहले से पतली हो जाती है. यदि वजन तेजी से बढ़ने के साथ तेजी से कम भी होता है, तो क्रेपी स्किन होने की आशंका ज्यादा रहती है.

(और पढ़ें - इन तरीके से करें 7 दिन में झुर्रियां कम)

दवाइयों का सेवन

प्रेडनिसोन जैसी कुछ दवाइयां त्वचा को प्रभावित करती हैं. इसकी वजह से त्वचा की लोच खाने लगती है और त्वचा में ढीलापन नजर आने लगता है.

(और पढ़ें - घर पर एंटी-एजिंग क्रीम बनाने का तरीका)

नमी की कमी

जब त्वचा को सही तरह से हाइड्रेशन नहीं मिलता है, तो इससे त्वचा को नुकसान पहुंचता है और नतीजतन क्रेपी स्किन नजर आने लगती है. भरपूर हाइड्रेशन से त्वचा मुलायम नजर आती है व कसाव भी बना रहता है. 

(और पढ़ें - झुर्रियों के लिए क्या खाएं)

क्रेपी स्किन के लिए कई तरह के इलाज की सलाह दी जाती है, जिससे त्वचा की सेहत में सुधार आता है. क्रेपी स्किन का इलाज जितनी जल्दी कर लिया जाए, उतनी जल्दी इसके टेक्सचर और अपीयरेंस को बदला जा सकता है. टॉपिकल रेटिनोइड, अल्ट्रासाउंड, ओवर द काउन्टर दवाइयां की मदद से क्रेपी स्किन का इलाज किया जा सकता है. आइए, क्रेपी स्किन के इलाज के बारे में विस्तार से जानते हैं -

टॉपिकल रेटिनोइड

यह क्रीम और जेल दोनों तरह से उपलब्ध है. रेटिनोइड एक्सफोलिएशन को बढ़ावा देकर सेल टर्नओवर में भी तेजी लाता है, लेकिन अगर इन प्रोडक्ट्स का सही तरह से इस्तेमाल नहीं किया गया, तो इससे क्रेपी स्किन की स्थिति और खराब हो सकती है.

(और पढ़ें - झुर्रियां कितने प्रकार की होती हैं)

फ्रैक्शनल लेजर ट्रीटमेंट

इस इलाज में त्वचा के अंदर के छोटे हिस्सों को गरम करने के लिए लेजर का इस्तेमाल किया जाता है, जिससे नए कोलेजन के विकास को बढ़ावा मिलता है. इससे त्वचा को मदद मिलती है और झुर्रियां स्मूद होती हैं. आंखों के इर्द-गिर्द की क्रेपी स्किन का भी इलाज लेजर ट्रीटमेंट से किया जा सकता है.

(और पढ़ें - झुर्रियों के लिए योगासन)

अल्ट्रासाउंड

यह फ्रैक्शनल लेजर ट्रीटमेंट की तरह ही है, जिसे असल में त्वचा में कसाव लाने के लिए किया जाता है. इसमें अल्ट्रासाउंड की मदद से त्वचा के भीतर के सपोर्टिंग टिश्यू को गरम किया जाता है. इस गर्मी से कुछ कोशिकाएं टूटती हैं और त्वचा में कसाव लाने के लिए कोलेजन के विकास को बढ़ावा मिलता है. इस इलाज का इस्तेमाल मुख्यतः चेहरे और गर्दन पर किया जाता है, न की बांह के ऊपरी हिस्से पर.

(और पढ़ें - चेहरे की झुर्रियां हटाने के घरेलू उपाय)

क्रायोलिपोलिसिस

इसे कूल स्कल्प्टिंग भी कहा जाता है, जिसमें फैट के लोकल एरिया को हटाया जाता है. इस इलाज में फैट सेल्स में लाइपिड को फ्रीज किया जाता है. क्रायोलिपोलिसिस तब किया जाता है, जब अतिरिक्त फैट पर ढीली त्वचा रहती है. यह इलाज सतह के भीतर के फैट को हटाकर त्वचा में कसाव लाने का काम करता है.

(और पढ़ें - झुर्रियों के लिए एक्यूपंक्चर)

ओवर द काउंटर दवाइयां

रेटिनोइड, अल्फा हाइड्रॉक्सी एसिड या पेप्टाइड जैसे इंग्रेडियंस वाले प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करके त्वचा के सन डैमेज को ठीक किया जा सकता है. ये प्रोडक्ट्स कोशिकाओं के विकास को बढ़ावा देते हैं और डेड या खराब कोशिकाओं को हटा देते हैं. लैक्टिक एसिड, सैलिसिलिक एसिड (salicylic acid), ग्लाइकोलिक एसिड (glycolic acid) और हायलूरॉनिक एसिड (hyaluronic acid) त्वचा में नमी रखने और त्वचा के अपीयरेंस में भी सहायक हैं. यदि बांह या पैरों पर क्रेपी स्किन है, तो इसके लिए ऐसे मॉइस्चराइजर मददगार होते हैं, जिनमें लैक-हाइड्रिन (lac hydrin)  या अमलैक्टिन (amlactin) जैसे अमोनियम लैक्टेट पाए जाते हैं.

(और पढ़ें - झुर्रियों के लिए क्रीम)

अगर आप चाहते हैं कि आप त्वचा पर खिंचाव व ग्लो बना रहे, तो जल्द से जल्द Sprowt Collagen का सेवन करना शुरू कर दें. यह प्लांट बेस्ड सप्लीमेंट त्वचा की इलास्टिसिटी को बनाए रखने का काम करता है -

बायोस्टिमुलेट्री फिलिंग एजेंट (biostimulatory filling agent) त्वचा के अपीयरेंस, टेक्सचर और मोटाई में सुधार ला सकते हैं. कोलेजन के विकास को स्टिमुलेट करने के लिए इन एजेंट को सीधे त्वचा में इंजेक्ट किया जाता है.

(और पढ़ें - माथे की झुर्रियां हटाने के उपाय)

जब त्वचा पर झुर्रियों जैसा प्रभाव नजर आने लगे, तो इसे क्रेपी स्किन कहा जाता है, लेकिन यह समस्या झुर्रियों से अलग होती है. इसमें त्वचा पतली हो जाती है. क्रेपी स्किन का मुख्य और आम कारण सूरज की रोशनी से होने वाला डैमेज है और साथ ही बढ़ती उम्र भी. क्रेपी स्किन के इलाज के लिए टॉपिकल रेटिनोइड, फ्रैक्शनल लेजर ट्रीटमेंट और फिलर्स मदद करते हैं. क्रेपी स्किन से बचने के लिए जरूरी है कि त्वचा का खास ध्यान रखा जाए. 

(और पढ़ें - झुर्रियों के लिए फेस पैक)

Dr. Merwin Polycarp

Dr. Merwin Polycarp

डर्माटोलॉजी
15 वर्षों का अनुभव

Dr. Raju Singh

Dr. Raju Singh

डर्माटोलॉजी
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Afroz Alam

Dr. Afroz Alam

डर्माटोलॉजी
4 वर्षों का अनुभव

Dr. Pranjal Praveen

Dr. Pranjal Praveen

डर्माटोलॉजी
5 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें