myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

कोविड-19 संकट के दौरान मरीजों का इलाज करने में जुटे डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों को बार-बार आम लोगों के गुस्से का शिकार होने पड़ा है। उत्तर प्रदेश समेत देश के कई इलाकों से स्वास्थ्यकर्मियों के खिलाफ हिंसा की खबरें आई हैं। ऐसे में इन घटनाओं को रोकने के लिए केंद्र सरकार एक अध्यादेश लेकर आई है। महामारी अधिनियम, 1897 में संशोधन के लिए लाए गए इस अध्यादेश में स्वास्थ्यकर्मियों पर हमले के दोषियों के लिए छह महीने से सात साल तक की सजा का प्रावधान किया गया है।

(और पढ़ें - भारत में कोरोना वायरस के 20,000 मरीज हुए, मृतकों का आंकड़ा भी 645 हुआ, महाराष्ट्र में संक्रमितों की संख्या 5,000 के पार गई)

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, इस अध्यादेश को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि सरकार इस संकट की लड़ाई में सबसे आगे खड़े स्वास्थ्यकर्मियों और डॉक्टरों पर हमला करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्यकर्मियों के खिलाफ अपराध को अध्यादेश के जरिये गैर-जमानती कृत्य करार दिया गया है। उन्होंने यह जानकारी भी दी कि अब ऐसे मामलों का निपटारा निश्चित समयावधि में कर दिया जाएगा। इस बारे में जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'अब ऐसे अपराधों का संज्ञान लिया जाएगा और उनमें (आरोपित को) बेल नहीं मिलेगी। 30 दिनों के अंदर जांच पूरी कर ली जाएगी। आरोपित को तीन महीने से पांच साल तक की सजा सुनाई जा सकती है और 50,000 रुपये से लेकर दो लाख रुपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है।' वहीं, ज्यादा गंभीर मामलों में दोषी को छह महीने से लेकर सात साल तक की जेल हो सकती है।

(और पढ़ें - कोविड-19: केंद्रीय पैनल का अनुमान, मुंबई में लाखों में जा सकती है मरीजों की संख्या, राज्य सरकार ने संदेह जताया)

प्रकाश जावड़ेकर ने यह भी बताया कि हिंसा में स्वास्थ्यकर्मियों के वाहनों या क्लिनिकों को पहुंचाए गए नुकसान के बदले आरोपितों से क्षतिग्रस्त प्रॉपर्टी के बाजार मूल्य का दोगुना मुआवजा वसूला जाएगा। उन्होंने कहा, 'जो स्वास्थ्यकर्मी इस महामारी से देश को बचाने की कोशिश कर रहे हैं, दुर्भाग्य से उन्हें हमलों का सामना करना पड़ रहा है। उनके खिलाफ किसी तरह की हिंसा या उत्पीड़न को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इसलिए अध्यादेश लाया गया है, जिसे राष्ट्रपति से मंजूरी मिलने के बाद लागू कर दिया जाएगा।'

(और पढ़ें - कोविड-19: केंद्रीय पैनल का अनुमान, मुंबई में लाखों में जा सकती है मरीजों की संख्या, राज्य सरकार ने संदेह जताया)

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
192292 भारत
3783आंध्र प्रदेश
22अरुणाचल प्रदेश
1390असम
33अंडमान निकोबार
3926बिहार
294चंडीगढ़
547छत्तीसगढ़
3दादर नगर हवेली
20834दिल्ली
71गोवा
17200गुजरात
2356हरियाणा
340हिमाचल प्रदेश
2601जम्मू-कश्मीर
659झारखंड
3408कर्नाटक
1326केरल
77लद्दाख
8283मध्य प्रदेश
70013महाराष्ट्र
83मणिपुर
27मेघालय
1मिजोरम
43नगालैंड
2104ओडिशा
74पुदुचेरी
2301पंजाब
8980राजस्थान
1सिक्किम
23495तमिलनाडु
2792तेलंगाना
420त्रिपुरा
958उत्तराखंड
8075उत्तर प्रदेश
5772पश्चिम बंगाल

मैप देखें