कुछ महिलाएं पीरियड्स शुरू होने से कुछ समय पहले या फिर पीरियड्स के दौरान काफी ज्यादा थकान और ऊर्जा की कमी महसूस करती है. पीरियड्स से पहले या फिर पीरियड्स के दौरान दिखने वाले इस तरह के लक्षण को पीरियड फटीग कहा जाता है. इस समस्या के पीछे शरीर में आयरन की कमी, अधिक ब्लीडिंग होना व पूरी नींद न लेना हो सकता है. वहीं, इलाज के तौर पर डॉक्टर नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स या गर्भनिरोधक गोलियां दे सकते हैं.

आज इस लेख में आप पीरियड फटीग के लक्षण, कारण व इलाज के बारे में विस्तार से जानेंगे -

(और पढ़ें - थकान दूर करने के घरेलू उपाय)

  1. पीरियड फटीग के लक्षण
  2. पीरियड फटीग के कारण
  3. पीरियड फटीग का इलाज
  4. सारांश
पीरियड फटीग के लक्षण, कारण व इलाज के डॉक्टर

पीरियड्स फटीग को प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) का लक्षण माना जा सकता है. पीएमएस से ग्रसित महिलाओं के शरीर में कई तरह के लक्षण नजर आते हैं. यह कुछ महिलाओं को पीरियड्स के पहले या फिर पीरियड्स के दौरान इस तरह के लक्षण नजर आते हैं. ये लक्षण मासिक धर्म के समय होने वाले हार्मोनल परिवर्तनों की वजह से हो सकते हैं. कुछ पीएमएस के लक्षण, जो पीरियड्स फटीग के साथ नजर आ सकते हैं, निम्न प्रकार से हैं -

(और पढ़ें - हमेशा थकान महसूस होने का इलाज)

पीरियड फटीग आमतौर पर मासिक धर्म के समय होने वाले हार्मोनल बदलाव की वजह से होता है. महिलाओं की ओवरी एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन का उत्पादन करती है. महिलाओं के मासिक धर्म चक्र के फर्स्ट हाफ में एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ता है और फिर सेकेंड हाफ में कम होता है.

जब यह कम होता है, तो सेरोटोनिन का स्तर भी बढ़ता है. यह एक मस्तिष्क केमिकल है, जो सतर्कता और मनोदशा से संबंधित होता है. इस स्थिति के परिणामस्वरूप मूड और ऊर्जा के स्तर में कमी आती है. इसके अलावा, पीरियड फटीग के कई कारण हो सकते हैं -

नींद की कमी

पीरियड्स में दर्द और मूड में उतार-चढ़ाव नींद में परेशानी उत्पन्न कर सकता है. पीरियड्स से 1 रात पहले अनिद्रा का अनुभव हो सकता है. इसकी वजह से पीरियड्स से पहले या फिर पीरियड्स के दौरान काफी ज्यादा थकान महसूस हो सकती है. 

(और पढ़ें - थकान दूर करने के लिए क्या खाएं)

नींद न आने या कम आने की समस्या होने पर Sprowt Melatonin का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है. इस प्रोडक्ट को आप अभी नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके खरीद सकते हैं -

हैवी ब्लीडिंग

पीरियड्स के दौरान हैवी ब्लीडिंग की वजह से शरीर में आयरन की कमी हो सकती है. आयरन की कमी के कारण एनीमिया हो सकता है. इसकी वजह से शरीर में काफी ज्यादा कमजोरी और थकान महसूस हो सकती है. शरीर में आयरन का स्तर कम होने से शरीर में हीमोग्लोबिन का उत्पादन भी कम होता है.

(और पढ़ें - महिलाओं में थकान का इलाज)

खाने की इच्छा

पीरियड्स के दौरान खाने की क्रेविंग काफी ज्यादा होती है. इसकी वजह से कुछ लोगों को काफी ज्यादा थकान और कमजोरी महसूस हो सकती है. 

(और पढ़ें - कमजोरी दूर करने के घरेलू उपाय)

पीरियड फटीग यानि पीरियड्स में होने वाली थकान को कम करने के लिए कुछ संभावित उपचार का सहारा लिया जा सकता है, जैसे -

नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग

पीरियडस फटीग की परेशानी को कम करने के लिए नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (NSAIDs), जैसे - इबुप्रोफेन लेने की सलाह दी जा सकती है. यह दवा दर्द और सूजन को कम करने में मददगार साबित हो सकती है. वहीं, अगर किसी महिला को ऐंठन की परेशानी होती है, तो एक्सपर्ट उन्हें सोने से पहले एनएसएआईडी लेने की सलाह दी जा सकती है. यह नींद को बेहतर करने में मददगार साबित हो सकती है, जो शरीर की थकान को कम कर सकती है. 

(और पढ़ें - शारीरिक कमजोरी में क्या खाएं)

गर्भनिरोधक गोलियां

कुछ हेल्थ एक्सपर्ट्स शरीर में हार्मोन के स्तर को कंट्रोल करने के लिए गर्भनिरोधक गोलियां लेने की सलाह दे सकते हैं. ये दवाइयां नियमित रूप से या फिर सप्ताह में एक बार लेने की सलाह दी जा सकती है. डॉक्टर द्वारा सुझाए गए बर्थ कंट्रोल पिल्स को लेने से शरीर में हार्मोनल बदलाव को रोकने में मदद मिलती है, जिससे पीएमएस के लक्षणों में कमी आ सकती है. 

(और पढ़ें - अधिक थकान का इलाज)

सप्लीमेंट्स

अमेरिकन कॉलेज ऑफ ओब्स्टेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट्स का सुझाव है कि प्रतिदिन 1,200 मिलीग्राम कैल्शियम लेने से शारीरिक और मानसिक रूप से पीएमएस के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है. बस ध्यान रखें कि पहली बार सप्लीमेंट्स लेने से पहले हेल्थ एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें. खासतौर से अगर आप पहले से किसी तरह की दवा ले रहे हैं, तो एक्सपर्ट से जरूर राय लें.

(और पढ़ें - सुस्ती दूर करने के घरेलू उपाय)

सप्लीमेंट्स के रूप में Sprowt Vitamin-B12 को अपनी डाइट में शामिल करना सबसे बेहतरीन विकल्प है. इसे प्राकृतिक सामग्रियों के जरिए बनाया गया है, जिस कारण यह स्वास्थ्य के लिए सुरक्षित है -

एंटीडिप्रेसेंट

कुछ हेल्थ एक्सपर्ट पीरियड फटीग या फिर पीएमएस के मानसिक और शारीरिक लक्षणों को कम करने के लिए कुछ सेरोटोनिन रीपटेक इनहिबिटर नामक एंटीडिप्रेसेंट लिख सकते हैं. इससे पीरियड फटीग के लक्षण कम होते हैं. साथ ही यह शरीर को थकान और कमजोरी से दूर रखने में मददगार होता है.

(और पढ़ें - सडन एक्सट्रीम फटीग का इलाज)

पीरियड फटीग के दौरान शरीर में काफी ज्यादा थकान, पेट में दर्द व ब्रेस्ट में सूजन जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं. यह परेशानी अधिकतर महिलाओं को शरीर में हार्मोनल बदलाव की वजह से होता है. पीरियड फटीग की समस्या को कम करने के लिए हेल्थ एक्सपर्ट कुछ दवाओं को लेने की सलाह दे सकते हैं. साथ ही इस बात का ध्यान रखने की जरूरत होती है कि पीरियड फटीग की परेशानी ज्यादा होने पर तुरंत एक्सपर्ट से सलाह लेनी चाहिए.

(और पढ़ें - क्रोनिक फटीग सिंड्रोम का इलाज)

Dr. Swati Rai

Dr. Swati Rai

प्रसूति एवं स्त्री रोग
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Bhagyalaxmi

Dr. Bhagyalaxmi

प्रसूति एवं स्त्री रोग
1 वर्षों का अनुभव

Dr. Hrishikesh D Pai

Dr. Hrishikesh D Pai

प्रसूति एवं स्त्री रोग
39 वर्षों का अनुभव

Dr. Archana Sinha

Dr. Archana Sinha

प्रसूति एवं स्त्री रोग
15 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ