myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

यह एक तरह का त्वचा कैंसर है, जो आपकी त्वचा की ऊपरी परत को प्रभावित करता है। वास्तव में बोवेन की बीमारी त्वचा कैंसर का ही प्रारंभिक रूप है, जिसका इलाज आसानी से किया जा सकता है। चूंकि यह स्क्वैमस कोशिकाओं (त्वचा की सबसे बाहरी परत) को प्रभावित करता है इसलिए इस बीमारी को 'स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा इन-सीटू' नाम से भी जाना जाता है।

आमतौर पर यह 60 वर्ष से अधिक उम्र के गोरे वयस्कों को प्रभावित करता है। यह बीमारी महिलाओं से ज्यादा पुरुषों को प्रभावित करती है और इसके मुख्य संकेतों में त्वचा पर लालिमा और पपड़ीदार चकत्ते पड़ना है। आमतौर पर यह चकत्ते बहुत धीमी गति से बढ़ते हैं, लेकिन अगर इसका इलाज न किया जाए, तो यह एक गंभीर रूप ले सकते हैं।

  1. बोवेन की बीमारी के लक्षण - Bowen Disease Symptoms in Hindi
  2. बोवेन की बीमारी के कारण - Bowen Disease Causes in Hindi
  3. बोवेन की बीमारी का उपचार - Bowen Disease Treatment in Hindi
  4. बोवेन की बीमारी (एक प्रकार का त्वचा कैंसर) के डॉक्टर

बोवेन की बीमारी के लक्षण - Bowen Disease Symptoms in Hindi

बोवेन की बीमारी के संकेतों और लक्षणों में शामिल हो सकते हैं :

ज्यादातर लोगों में एक चकत्ता दिख सकता है, लेकिन कुछ लोगों में कई चकत्ते भी दिखाई दे सकते हैं। हालांकि, इनकी वजह से किसी भी तरह की असुविधा नहीं होती है, लेकिन वे दिख सकते हैं :

  • समतल
  • करीब आधा इंच चौड़े
  • पपड़ीदार
  • छिलके की तरह परतदार
  • रिसने वाले चकत्ते
  • खुजली करने वाले चकत्ते
  • दर्दनाक

इसके अलावा य​ह चकत्ते जननांगों पर भी दिखाई दे सकते हैं, जहां यह कई तरह की पेरशानियों का कारण बन सकते हैं। यदि यह चकत्ते जननांगों पर दिखाई देते हैं तो इन्हें कहा जा सकता है :

  • बोवेनॉइड पैपुलोसिस
    यह पुरुषों और महिलाओं दोनों को प्रभावित करता है और इसकी वजह से जननांग में घाव भी हो सकता है। यह दो सप्ताह से लेकर कई वर्षों तक रह सकता है।
     
  • एरिथ्रोप्लासिया ऑफ  क्वैराट
    यह आदमी के लिंग के अगले हिस्से को प्रभावित करता है। इसमें पेशाब करते समय ब्लीडिंग, खुजली या दर्द हो सकता है।
     
  • वल्वर इंट्रापीथेलियल नियोप्लासिया
    महिलाओं में इन चकत्तों की वजह से गंभीर रूप से खुजली या जलन हो सकती है।

(और पढ़ें - त्वचा पर चकत्ते का होम्योपैथिक इलाज)

बोवेन की बीमारी के कारण - Bowen Disease Causes in Hindi

बोवेनॉइड पैपुलोसिस की समस्या एचपीवी (ह्यूमन पेपिलोमा वायरस) के कारण होती है। एचपीवी की वजह से जननांग और गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर का खतरा हो सकता है। अमेरिका में यह वायरस सबसे आम यौन संचारित संक्रमण में से एक है। इस बीमारी की चपेट में 30 वर्ष से कम उम्र के ऐसे लोग आ सकते हैं जो यौन क्रियाओं में एक्टिव हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि चूंकि ऐसे लोग अपने पार्टनर की त्वचा के संपर्क में बार-बार आते हैं, इसलिए इनमें बोवेन की बीमारी का जोखिम ज्यादा रहता है।

वैज्ञानिक अभी तक इसके अन्य कारणों की पहचान नहीं कर पाए हैं। हालांकि, उनका मानना है कि लंबे समय तक सूर्य के संपर्क में रहने और उम्र बढ़ने से त्वचा के कैंसर होने का जोखिम बढ़ सकता है।

(और पढ़ें - त्वचा पर चकत्ते के कारण)

बोवेन की बीमारी का उपचार - Bowen Disease Treatment in Hindi

बोवेन की बीमारी त्वचा पर फैल सकती है। आपका डॉक्टर (एक त्वचा विशेषज्ञ) स्थिति को जांचने के बाद सर्जरी कराने की सलाह दे सकते हैं। इसमें प्रभावित हिस्से पर सर्जरी के माध्यम से चकत्तों को धीरे-धीरे हटाया जाता है।

यदि शरीर पर बड़े चकत्ते हैं, सर्जरी में अधिक समय लग सकता है। इसमें माइक्रोस्कोप की मदद से ऊतक की एक पतली परत को हटा दिया जाता है। यदि ऊतक के बाहर कैंसर कोशिकाएं दिखाई देती हैं, तो ऐसे में एक और पतली परत को हटा दिया जाता है। जब कोई कैंसर कोशिकाएं नहीं मिलती हैं, तो सर्जरी खत्म हो जाती है।

सर्जरी के दौरान की जाने वाली चीजें :

  • प्रभावित हिस्से को सबसे पहले सुन्न करने की जरूरत होती है। इसके बाद डॉक्टर एक विशेष उपकरण की मदद से पैच को निकालने की कोशिश करते हैं।
  • इसके बाद त्वचा पर फ्लूरोरासिल नामक दवा का इस्तेमाल किया जाता है। यह खराब कोशिकाओं को बढ़ने से रोकती है। हो सकता है कि इसकी वज​ह से एक या दो सप्ताह के बाद लालिमा, दर्द, या छिल जाने की समस्या हो, लेकिन यह स्थिति आमतौर पर एक या दो महीने के भीतर ठीक हो जाती है।
  • डॉक्टर प्रभावित हिस्से को फ्रीज करने के लिए तरल नाइट्रोजन छिड़क सकते हैं। इससे छाला या पपड़ी जैसी समस्या खत्म हो सकती है।
  • डॉक्टर इमिक्वीमोड नामक दवा भी लगाने की सलाह दे सकते हैं। हालांकि, उन्हें यह नहीं पता कि यह दवा कैसे काम करती है। लेकिन यह प्रतिरक्षा प्रणाली को वायरस का मुकाबला करने में मदद करती है।
  • आपका डॉक्टर प्रभावित हिस्से को जलाने के लिए लेजर का प्रयोग भी कर सकते हैं।

बोवेन की बीमारी आमतौर पर गंभीर नहीं होती है। यह महीनों या वर्षों में बहुत धीरे-धीरे बढ़ती है और इसके लिए कई प्रभावी उपचार उपलब्ध हैं।

और पढ़ें - (त्वचा के कैंसर की सर्जरी कैसे होती है)

Dr. Ashok Vaid

Dr. Ashok Vaid

ऑन्कोलॉजी

Dr. Susovan Banerjee

Dr. Susovan Banerjee

ऑन्कोलॉजी

Dr. Rajeev Agarwal

Dr. Rajeev Agarwal

ऑन्कोलॉजी

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें