मानसून के आने से तेज गर्मी से तो राहत मिलती ही है लेकिन इसके साथ ही ह्यूमिडिटी के कारण स्किन और हेयर से जुड़ी कई समस्याएं उत्पन्न होने लगती हैं। बारिश के दौरान, उच्च नमी की वजह से त्वचा और बाल दोनों ही खराब होते हैं। पसीना और जमा हुआ तेल त्वचा और बालों को डल कर देता है। इसलिए मौसम के अनुसार त्वचा और बालों की नियमित देखभाल करना जरूरी होता है। तो आइये जानते हैं ब्यूटी एक्सपर्ट से कि कैसे मानसून के मौसम में त्वचा और बालों की देखभाल की जाए -

  1. मानसून में ऑयली स्किन के लिए मिंट टोनर - Mint Toner for Oily Skin in Monsoon in Hindi
  2. आई कूलिंग मास्क है मानसून में सहायक - Eye Cooling Mask for Monsoon in Hindi
  3. मानसून के मौसम के लिए ओटमील फेस पैक - Oatmeal Face Pack for Monsoon Season in Hindi
  4. घरेलू हेयर पैक है मानसून में उपयोगी - Homemade Hair Pack for Monsoon in Hindi
  5. मानसून में नमक के पानी में भिगोएं पैर - Soaking Feet in Salt Water for in Monsoon in Hindi

ऑयली स्किन के लिए, मिंट-बेस्ड स्किन टोनर का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। फ्रिज में एक छोटा कटोरा गुलाब स्किन टोनर में रूई के टुकड़े को डुबोकर रखें। इस तरह यह ठंडा और उपयोग के लिए तैयार हो जाता है। आप ऐसे गुलाब जल के साथ भी कर सकते हैं। यह एक शक्तिशाली प्राकृतिक त्वचा टोनर है। एक दिन में कई बार इसके साथ त्वचा को साफ करें। गुलाब एक प्राकृतिक शीतलक है।

आंखों के पैड के रूप में, मिंट-बेस्ड स्किन टॉनिक में कॉटन वूल पैड को भिगोकर उपयोग करें। यह आँखों को आराम और थकान को दूर करता है। आंखों पर ठंडे पानी को छिड़कना भी बहुत राहत देता है। (और पढ़ें – थकान दूर करने के घरेलू उपाय)

मानसून फेस पैक के लिए, एक कटोरे में 1 अंडे का सफ़ेद भाग, 3 चम्मच ओट्स, एक चम्मच शहद और एक चम्मच दही को डालकर अच्छी तरह से मिलाकर मास्क बना लें। यदि आप अंडे का उपयोग नहीं करना चाहते हैं तो गुलाब जल या संतरे का रस मिला सकते हैं। अब इस मास्क को चेहरे पर लगाएं और आधे घंटे के बाद धो लें। इस फेस पैक को सप्ताह में दो बार उपयोग करें। आप इस फेस पैक में बादाम, निम्बू के छिलकों का पाउडर या संतरे के छिलके भी मिक्स कर सकते हैं। फ्रूट मास्क के लिए, फ्रूट मास्क गर्म और आर्द्र मौसम के दौरान सबसे ताज़ा होते हैं। आप फ्रूट मास्क में खीरे का गूदा भी मिला सकते हैं, क्योंकि खीरे में कसैले प्रभाव होते हैं और इसमें रोम छिद्रों को बंद करने के गुण होते हैं। पके हुए पपीते के गूदे को कसे हुए सेब, तरबूज, अनानास आदि में मिलाया जा सकता है। पपीता और खीरा टैनिंग को हटाने में मदद करते हैं। आम शुष्क त्वचा के लिए बहुत पौष्टिक हो सकता है। चेहरे पर मास्क लगाएं और आधे घंटे के बाद सादे पानी से धो लें। (और पढ़ें - शहद खाने के फायदे)

मानसून के दौरान अधिक बार अपने बालों को धोएं। चाय और नींबू का रस भी एक अद्धभुत हेयर वॉशर है और इससे बालों में चमक भी आती है। पर्याप्त पानी में, इस्तेमाल की गई चाय की पत्तियों को उबालें। इस पानी को ठंडा करे और छान कर उसमें नींबू का रस मिलाएँ। इसे शैंपू करने के बाद प्रयोग करें। एक नींबू का रस और आधा कप गुलाब जल को एक मग पानी में भी मिलाया जा सकता है ताकि एक सुगन्धित खुश्बू मिल सकें। कभी-कभी, आप अपने शैम्पू से पहले कुछ अंडो के सफ़ेद भाग को भी बालों पर लगा सकते हैं, इसे आधे घंटे के लिए बालों में लगाए और फिर अच्छे से धो लें। यह न केवल बाल को नया जीवन देता है, बल्कि यह एक अद्धभुत क्लीन्ज़र है। हिना भी एक अच्छी कंडीशनर है और अपना ठंडक प्रभाव छोड़ती है। नीबू का रस, कॉफी और दो कच्चे अंडो और हिना को चाय के पानी में मिक्स करके बालों में लगाएं और कुछ सूखने के बाद बालों को अच्छी तरह से धो लें।

गर्म या ठंडे पानी में पैर भिगोकर रखना बहुत आरामदायक और पुनर्जीवित हो सकता है। मोटे नमक का एक बड़ा स्पून और आधा कप नींबू का रस लगभग एक चौथाई बाल्टी गर्म पानी में मिलाएं। आप टी ट्री आयल की कुछ बूंदों को भी पानी में मिला सकते हैं। यह पैरों को त्वचा की समस्याओं से मुक्त रखता है। एक ठंडा पैर स्नान गर्म और आर्द्र मौसम के दौरान एक महान रिवाइवर भी है। गुलाब जल, नींबू का रस को ठंडे पानी में मिलाएं और उसमें पैरों को सोखें। यह पांवों को ठंडा और साफ रखता है और अच्छी सुगंध को जोड़ता है। मानसून के दौरान, शरीर पसीने के माध्यम से तरल पदार्थ खो देता है। बहुत सारा पानी, नींबू पानी और ताजा फलों का रस पिएं।

और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ